मासिक करेंट अफेयर्स

02 April 2020

भारत में फंसे विदेशी पर्यटकों की सहायता हेतु ‘स्ट्रैंडेड इन इंडिया’ पोर्टल का शुभारम्भ

पर्यटन मंत्रालय ने हाल ही में भारत के विभिन्न हिस्सों में फंसे विदेशी पर्यटकों की सहायता के लिए ‘स्ट्रैंडेड इन इंडिया’ पोर्टल का शुभारम्भ किया. केंद्र सरकार ने भारत में विभिन्न हिस्सों में फंसे विदेशी पर्यटकों को सहायता पहुंचाने के उद्देश्य से एक पोर्टल का शुभारम्भ किया है. इस पोर्टल पर अपने-अपने देश से दूर भारत में फंसे विदेशी पर्यटकों के लिए विभिन्न सेवाओं से जुड़ी जानकारियां दी गई हैं. इस पोर्टल का नाम ‘स्ट्रैंडेड इन इंडिया’ है. इस पोर्टल का मुख्य उद्देश्य विदेशी पर्यटकों के लिए एक सहायक नेटवर्क के रूप में काम करना है.

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से कोविड-19 महामारी सबसे बड़ी चुनौती: संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कोरोना वायरस को द्वितीय विश्व युद्ध के बाद सबसे बड़ी चुनौती करार देते हुए कहा है कि यह महामारी न केवल लोगों की जान ले रही है बल्कि आर्थिक मंदी की ओर भी ले जा रही है. संयुक्त राष्ट्र के अनुसार हालिया इतिहास में ऐसा भयानक संकट नहीं पैदा हुआ था. जान्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के अनुमानों के मुताबिक, दुनिया में कोरोना वायरस के 8,50,500 पुष्ट मामले सामने आए हैं और 41,000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. अमेरिका में अब दुनिया के सर्वाधिक 1,84,183 मामले हैं और यहां मरने वालों का आंकड़ा चार हजार को पार कर गया है. संयुक्त राष्ट्र के अनुसार यह भीषण वैश्विक संकट है क्योंकि यह एक

विश्व में आर्थिक मंदी की गुंजाइश,बच सकते हैं भारत और चीन: संयुक्त राष्ट्र रिपोर्ट

संयुक्त राष्ट्र ने अपनी नवीनतम व्यापार रिपोर्ट जारी की है जिसमें यह बताया गया है कि विश्व की अर्थव्यवस्था इस बार मंदी के दौर से गुजरेगी. कोरोना वायरस महामारी के कारण, विश्व की आय में अरबों डॉलर का नुकसान होगा. यह स्थिति विकासशील देशों के लिए गंभीर संकट पैदा करेगी लेकिन व्यापार और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCTAD) की इस रिपोर्ट के अनुसार भारत और चीन पर इस वैश्विक आर्थिक मंदी का कोई खास असर नहीं पड़ेगा. संयुक्त राष्ट्र ने विकासशील देशों को सहायता प्रदान करने के लिए 2.5 ख़रब अमरीकी डॉलर के पैकेज की घोषणा की है और इन देशों में विश्व की जनसंख्या का लगभग एक तिहाई हिस्सा रहता है. 

26 March 2020

कोरोना वायरस के वजह से 2009 से भी बड़ी आर्थिक मंदी की आशंका: IMF

दुनिया भर के कई देशों में कोरोना वायरस (COVID-19) के प्रकोप के कारण लॉकडाउन घोषित किया गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च 2020 को कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए 21 दिनों की बंदी की घोषणा की है. कोविड-19 के आतंक की चपेट में आने के बाद विश्व के कई देशों में लॉकडाउन घोषित हो चुका है. विश्व के कई देशों की अर्थव्यवस्था के हालात बड़ी तेजी से खराब हो रहे हैं और ऐसे में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने जो आशंका जताई है वे और परेशान करने वाली है. आईएमएफ ने कहा है कि वैश्विक

रिलायंस ने मुंबई में खोला भारत का पहला COVID-19 अस्पताल

भारत में कोरोना वायरस (COVID-19) से निपटने के लिए सरकार को अब उद्योगपतियों का भी साथ मिल रहा है. रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) ने हाल ही में कहा कि 100 बेड की क्षमता वाले भारत के पहले कोविड-19 समर्पित अस्पताल की स्थापना की है. रिलायंस ने सरकार की मदद के लिए महाराष्ट्र के मुंबई में एक अस्पताल का निर्माण करवाया है जो पूरी तरह कोविड-19 मरीजों के लिए समर्पित है. यह देश का पहला कोविड-19 अस्पताल है जो मुंबई के सेवन हिल्‍स हॉस्पिटल में बनाया गया है. इस अस्पताल में 100 बिस्तरों की व्यवस्था है और यह सभी तरह की आधुनिक सुविधाओं से लैस है. यह अस्पताल नवीनतम तकनीक के साथ कोरोना वायरस के सकारात्मक रोगियों की देखभाल करेगा. सरकारी आंकड़ों के अनुसार देश में कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा संक्रमण के मामले महाराष्ट्र में सामने आए हैं.

मोदी सरकार ने गरीबों की मदद के लिए 1.70 लाख करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा की

केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोरोना वायरस (कोविड-19) से प्रभावित अर्थव्यवस्था और गरीबों की मदद के लिए 1.70 लाख करोड़ रुपये के पैकेज का घोषणा किया है. उन्होंने कहा कि सरकार प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत लॉकडाउन से प्रभावित गरीब तबके के लोगों की सहायता करेगी. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार लॉकडाउन के बाद से लगातार लोगों की मुश्किलों को कम करने के काम में लगी हुई है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 24 मार्च 2020 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए तीन महीने तक किसी भी एटीएम से पैसे निकालने पर कोई चार्ज न लगने का घोषणा किया था.

पीएम मोदी ने आपदा प्रबंधन अधिनियम-2005 के तहत देशभर में संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की, जानिए क्या है आपदा प्रबंधन अधिनियम?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च 2020 को कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी पर एक सप्ताह के भीतर राष्ट्र के नाम अपना दूसरा संबोधन दिया. विश्वभर में कोरोना वायरस के फैलने और भारत में इससे संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ने के बीच एक सप्ताह के भीतर राष्ट्र के नाम अपने दूसरे संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें कोरोना वायरस के फैसले की सीरीज को तोड़ना है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के लोगों से कोरोना वायरस से फैल रहे संक्रमण की गंभीरता को समझने और घरों में रहने की अपील करते हुए 24 मार्च 2020 को आधी रात से अगले 21 दिन

24 March 2020

शिवराज सिंह चौहान ने रचा इतिहास, चौथी बार ली मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री पद की शपथ

मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने सरकार बना ली है. मध्य प्रदेश बीजेपी ने शिवराज सिंह चौहान को विधायक दल का नेता चुना, जिसके बाद शिवराज सिंह चौहान ने चौथी बार मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है. 20 मार्च 2020 को कमलनाथ के इस्तीफे के बाद मुख्यमंत्री पद की दौड़ में शिवराज सिंह चौहान ही सबसे मजबूत दावेदार थे. मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री की शपथ लेने के तुरंत बाद शिवराज सिंह चौहान सीधे बल्लभ भवन (मंत्रालय) गए और वहां राज्य के आला अधिकारियों से कोरोना वायरस की महामारी से निपटने को लेकर आपात बैठक की. 

21 March 2020

पीएम मोदी ने कोरोना वायरस को लेकर 22 मार्च को जनता कर्फ्यू की अपील की, जानिए क्या है जनता कर्फ्यू?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस (Corona virus) को लेकर 19 मार्च 2020 को रात 8:00 बजे देश को संबोधित किया. प्रधानमंत्री ने कहा कि 'ये संकट ऐसा है, जिसने विश्व भर में पूरी मानवजाति को संकट में डाल दिया है. सरकार कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए लगातार इससे लोगों को बचाने की कोशिश में लगी है. केंद्र सरकार ने 22 से 29 मार्च तक सभी देशों से आने-जाने वाली उड़ानों पर रोक का घोषणा किया है. केवल किसी विशेष परिस्थिति में ही उड़ान की अनुमति होगी. दरअसल, कोरोना वायरस फैलने की चार अलग-अलग स्टेजेस हैं. जिनमें से भारत दूसरी स्टेज में है. प्रधानमंत्री ने कहा कि 130 करोड़ नागरिकों ने कोरोना वैश्विक महामारी का डटकर मुकाबला किया है, आवश्यक सावधानियां बरती हैं.

निर्भया केस में चारों अपराधियों को एक साथ फांसी पर लटकाया गया

निर्भया केस के मामले में चारों दोषियों को तिहाड़ जेल में 20 मार्च 2020 को सुबह फांसी की सजा दी गई है. इस मामले में तीन डेथ वारंट पर किसी न किसी वजह से फांसी पर रोक लगी लेकिन कोर्ट के चौथे डेथ वारंट पर चारों दोषियों को फांसी की सजा दी गई. साल 2012 में राजधानी दिल्ली में हुए निर्भया गैंगरेप कांड में लगभग सवा सात साल के बाद इंसाफ हुआ है. तिहाड़ जेल के फांसी घर में 20 मार्च 2020 को सुबह ठीक 5.30 बजे निर्भया के चारों दोषियों को फांसी दी गई. निर्भया के चारों दोषियों विनय, अक्षय, मुकेश और पवन गुप्ता को एक साथ फांसी के फंदे पर लटकाया गया.