मासिक करेंट अफेयर्स

24 September 2017

उज्जवला योजना के बाद केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री एलपीजी पंचायत का शुभारंभ की

केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान एंव गुजरात के माननीय मुख्यमंत्री श्रीविजय रूपानी ने 23 सितम्बर को गुजरात के गांधीनगर जिले के मोटा ईशनपुर से प्रधानमंत्री एलपीजी पंचायत योजना की शुभारंभकी. इसका लक्ष्य ग्रामीण समुदायों को स्वच्छ ईंधन का प्रयोग करने के लिए प्रोत्साहित करना है. इस अवसर पर उन्होंने कहा की केंद्र, देश भर में एक लाख एलपीजी पंचायतों को संगठित करने की योजना बना रहा है, जहां एलपीजी पर जागरूकता और उपयोगों पर ईंधन कंपनियों के अधिकारियो और ग्रामीणों के बीच चर्चा होगी. पीएमयूवाई हमारे माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदीजी द्वारा 15 मई 2016 को शुरू किया गया था और अब तक तेल उद्योग इस योजना के तहत देश के 710 जिलों में करीब 3 करोड़ लाभार्थियों को कनेक्शन जारी करने में सफल रहा है, जो कि 16 महीने के कम समय में है.

पिछले साल एक मई से गरीबी रेखा के नीचे रहने वाले परिवारों की महिलाओं को निशुल्क गैस कनेक्शन दिए जाने की प्रधानमंत्री उज्जवला योजना की 100 ग्रामीण लाभार्थी तथा तेल कंपनियों और मंत्रालय के प्रतिनिधि अधिकारी और स्थानीय एनजीओ और अन्य संस्थायें इसमें शिरकत करेंगी. एलपीजी पंचायत एलपीजी के सुरक्षित और टिकाऊ उपयोग, इसके लाभों और स्वच्छ ईंधन के उपयोग के बीच संबंध और महिलाओं के सशक्तिकरण के बारे में चर्चा करने के लिए एक इंटरैक्टिव प्लेटफार्म पर अपने रहने वाले क्षेत्रों के करीब 100 एलपीजी ग्राहकों को एक साथ लाता है. 

एलपीजी पंचायत एक इंटरैक्टिव और सहभागी तरीके से किया जाना है. 100 लाभार्थी आसपास के गांवों के होंगे. इसमें योजना के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा, जागरूकता, शंकाओं और भ्रांतियों का निवारण, अनुभव साझा तथा सुझाव लिये जायेंगे और जरूरी कदम उठाये जायेंगे. 2019 तक इसके तहत पांच करोड लाभार्थी बनाने का लक्ष्य है. देश में प्रति कनेक्शन साढे सात सिलेंडर की औसत सालाना खपत की तुलना में इस योजना के लाभार्थियों के मामले में अब तक यह आंकडा मात्र औसतन ढाई से सवा तीन ही है.


No comments:

Post a comment