मासिक करेंट अफेयर्स

29 September 2017

आईसीसी ने क्रिकेट में नए नियमों को लागू करने की घोषणा की

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने क्रिकेट के कुछ नए नियमों को लागू करने की घोषणा कर दी हैं. यह नियम 28 सितंबर से ही लागू हो जाएंगे और इसके अंतर्गत फिलहाल जारी क्रिकेट सीरीज पर भी पड़ेगा. नए नियमों के तहत जहां बल्ले के साइज को भी तय किया गया है वहीं रन आउट और कैच के नियमों में भी बदलाव हुआ है. यह नए नियम सभी फॉर्मेट्स पर लागू होंगे. आईसीसी के अनुसार, बैट और गेंद के बीच बराबरी के संघर्ष के मद्देनजर बैट के आकार पर नियंत्रण रखा जाएगा. अब बैट की चौड़ाई 108 मिमी, मोटाई 67 मिमी और कोनों पर 40 मिमी से ज्यादा नहीं हो पाएगी. क्रिकेटरों को नियमों से बड़े बल्लों के उपयोग से रोकने के लिए अंपायर बैट गेज (माप यंत्र) का इस्तेमाल करेंगे. इस नियम से प्रभावित होने वाले प्रमुख क्रिकेटरों में ऑस्ट्रेलिया के डेविड वॉर्नर होंगे. पिछले वर्ष मीडिया रिपोर्ट में आया था कि वे टी20 मैचों में 85 मिमी मोटाई वाला बल्ला इस्तेमाल कर रहे थे.
नए नियम - टेस्ट क्रिकेट की बात की जाए तो पहले 80 ओवर के बाद 2 रिव्यू टीम को मिल जाते थे, किन नए नियम के मुताबित टीम को सिर्फ 2 ही डीआरएस मिलेंगे. टी-20 क्रिकेट में आईसीसी ने डीआरएस का प्रयोग करने की इजाजत दे दी है.
बल्ले की साइज में भी बदलाव - कुछ खिलाड़ी भारी बल्ले का इस्तेमाल करते हैं. ऐसे में उन्हें भी अपने बल्ले में बदलाव करना होगा. अब बल्ले की चौड़ाई 108 मिमी और एज 40 मिमी की रहेगी.
रन आउट में नए नियम - अगर बल्लेबाज क्रीज के अंदर आ जाएगा और उसका बल्ला हवा में भी रहेगा तो वो ऑउट नही होगा. ऐसा पहले नही होता था. पहले हवा में बल्ला रहने पर बल्लेबाज को आउट दे दिया जाता था.
रेड कार्ड के नियम - इस नए नियम के अनुसार अगर कोई खिलाड़ी मैदान पर खेल भावना के खिलाफ जाता है तो अंपायर उसे रेड कार्ड दिखा कर मैदान से बाहर भेज सकता है.
डेड नियम में बदलाव - जब गेंदबाज गेंद डालने की तैयारी में रहता है यदि उसी वक्त नॉन स्ट्राइकर क्रीज के बाहर निकल गया तो उसे रन आउट किया जा सकेगा. इस बदलाव के कारण अब नॉन स्ट्राइकर ज्यादा समय तक क्रीज में रहेगा.
हैंडल्ड द बॉल नहीं, अब 'ऑब्सट्रक्टिंग द फील्ड के तहत आउट होगा - अब 'हैंडल्ड द बॉल' नियम को हटाकर उस तरीके से आउट होने वाले बल्लेबाज को 'ऑब्सट्रक्टिंग द फील्ड' नियम के तहत आउट दिया जाएगा.

No comments:

Post a comment