मासिक करेंट अफेयर्स

24 September 2017

वंशवाद की अजगरी बेल में जकड़ा लोकतंत्र

वंशवाद की अजगरी बेल ने आज पूरे लोकतंत्र को अपने जबड़े में जकड़ रखा है. भारतीय लोकतंत्र में सड़ांध फैलाने वाले वंशवाद की एक झलक आपको दिखाता हूं. देश की सियासत में सबसे मजबूत गांधी परिवार, पूरब में पटनायक परिवार, पश्चिम में..ठाकरे परिवार, शरद पवार परिवार..उत्तर में..मुलायम परिवार, लालू परिवार…दक्षिण में करूणानिधि.. बताने के लिए तो लिस्ट बहुत बड़ी है. ये वैसे उदाहरण हैं जिनकी पार्टी ही परिवार है और परिवार ही पार्टी है. ऐसे मौकों पर मेरा दुखद दिल चित्कार कर कहता है कि परिवारवाद ने लोकतंत्र को सामंती बना दिया है. आलम ये है कि कई परिवारिक पार्टियों में पहली, दूसरी और अब तीसरी पीढ़ी राजनीति में उतर आयी है. और आम जनता भी विचारधारा से परे होकर ऐसे सामंती परिवारों को ताज पहनाती है.

जब देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने राजनीति में परिवारवाद की शुरूआत की थी और अपने जीवन काल में ही अपनी बेटी इंदिरा गांधी को कांग्रेस का अध्यक्ष बनवा दिया तभी से यह आशंका जाहिर हो रही थी की देश की आजादी का मूख्य उद्देश्य अब शायद ही पूरा हो. अब कांग्रेस नेहरू परिवार की जागीर बन जाएगी. और ये भविष्यवाणी सत्य हुई. आज कांग्रेस, नेहरू परिवार जो कि अब ‘गांधी परिवार’ के रूप में बदल गया है, उसकी जागीर बन कर रह गयी है. यही आलम आज दूसरी कई क्षेत्रीय पार्टियों का भी है.

उत्तर प्रदेश में जो पारिवारिक लड़ाई पार्टी की लड़ाई बन कर चल रही है. वह अपवाद नहीं है. परिवार में विरासत की लड़ाई स्वभाविक है. दुखद यहां यह है कि कुछ ‘निरा मूर्ख’ इन दलों में सेक्यूलरिज्म और समाजवाद देखते हैं. ‘समाजवादी पार्टी प्राइवेट लिमिटेड’ में पॉवर पॉलिटिक्स की पूरी फिल्मी कहानी आजकल सबका मनोरंजन कर रही है. सियासत का इतना घटिया रूप मैंने अपने छोटे से जीवन में कभी नहीं देखा था. हां.. छोटा ही सही लेकिन ऐसे फिल्मी प्रोमो हम दक्षिण में डीएमके और चंद्रबाबू नायडू के परिवार में भी देख चुके हैं.

यूपी में अब ‘सेवक’ से ‘स्वामी’ की मुद्रा में आने के लिए बेटे ने अपने पिता की ‘संपत्ति’ पर दमदारी से दावा ठोक दिया है. यूं समझिए ‘संपत्ति’ हड़प चुका है, कुछ सियासी दांवपेंच के माहिर लोगों की मानें तो सब मुलायम का सियासी शतरंज पर बिछी चाल है अपने बेटे को विरासत परिवार में निर्विवाद सौंपने की. जम्हूरियत की आंखें उम्मीदबर हैं और दिल बेचैन. जुबां खामोश है, पर जेहन में सवालों का शोर है. क्या यही समाजवाद है? आज लोहिया की आत्मा रो रही होगी. इस फैमली ड्रामे पर ही नहीं..अपने चेलों को प्राइवेट लिमिटेड कंपनी चलाते देखकर. लोहिया के चेले मुलायम सिंह यादव, राम विलास पासवान और लालू प्रसाद लोहिया के रास्ते पर चलते हुए परिवारवाद के विरोध की राजनीति से ही पनपे. लेकिन आज ये परिवारवाद के सबसे बड़े उदाहरण हैं. यह सोचकर भविष्य को इतिहास के इस घटना से घिन आएगी कि लोहिया के रास्ते बिहार पर सालों तक राज करने वाले लालू जब जेल गये तो अपने पत्नी को मुख्यमंत्री बना दिये.

आज तमाम आरोप और विवाद का ढिंढोरा आप प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ पीटें लेकिन वंशवादी बेल से अपनी खुद की पार्टी को भी मुक्त रखने के लिए उनकी व्यक्तिगत तारीफ तो करनी ही होगी. आप चौंक जाएंगे ये जानकर कि पीएम के परिवार के सभी सदस्य अनजान सी जिंदगी जी रहे हैं. पीएम मोदी इकलौते प्रधानमंत्री हैं जिनके परिवार का कोई भी सदस्य प्रधानमंत्री आवास में नहीं रहता है. शायद पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम साहब के भी परिवार का कोई सदस्य राष्ट्रपति भवन में नहीं रहता था. मैं तो उस परिवार की भी तारीफ करता हूं जो इतनी समझ रखता है कि वे मोदी के परिजन हैं किसी प्रधानमंत्री के नहीं. वर्तमान सियासत में ऐसा संतुलन दर्शनीय है, अकल्पनीय है, अद्भुत है. ऐसा नहीं है कि बीजेपी में परिवारवाद को बढ़ावा देने वाले नेताओं की कमी है. लेकिन पीएम मोदी की इस बात के लिए आप तारीफ करेंगे कि वह यहां भी वंशवाद को पनपने नहीं दिये. काफी अंकुश लगाये हुए हैं. एक बार सोचिएगा जरूर.. सोचने में ना कोई खर्च है ना ही कोई पाबंदी. बस सोचते समय अपने चश्मे को उतार कर रख दीजिएगा.

No comments:

Post a comment