मासिक करेंट अफेयर्स

05 October 2017

नोबेल पुरस्कार 2017: तीन वैज्ञानिकों को संयुक्त रूप से मिला रसायन का नोबेल पुरस्कार

द रॉयल स्वीडिश अकेडमी ने 4 अक्तूबर  को रयायन विज्ञान के नोबेल पुरस्कारों की घोषणा की. जैक्स ड्यूबचित, जोएचिम फ्रैंक और रिचर्ड हेंडरसन को संयुक्त रूप से नोबेल पुरस्कार दिया गया. तीनों वैज्ञानिकों को बॉयोमालीक्यूल्स के सॉल्यूशन के उच्च संकल्प संरचना के निर्धारण के लिए क्रायो इलेक्ट्रान माइक्रोस्कोपी विकसित करने को लेकर सम्मानित किया गया. जैक्स ड्यूबचित स्विजरलैंड की यूनिवर्सिटी ऑफ लूसियाना में कार्यरत हैं. फ्रैंक न्यूयार्क के कोलंबिया यूनिवर्सिटी में अपनी सेवाएं दे रहे हैं. वहीं रिचर्ड हेंडरसन कैंब्रिज की एमआरसी लैबोरेटरी ऑफ मॉलीक्यूलर बॉयोलोजी में सेवारत हैं.

रसायन विज्ञान के क्षेत्र में वर्ष 1901 से 2016 के बीच 108 बार नोबेल पुरस्कारों की घोषणा की गयी. अब तक कुल 174 वैज्ञानिकों को रसायन विज्ञान का नोबेल पुरस्कार दिया गया है. इस वर्ग में 63 वैज्ञानिकों को एकल तौर पर पुरस्कार दिया गया है. बाकी वैज्ञानिकों को संयुक्त तौर पर पुरस्कार दिया गया. रसायन विज्ञान के क्षेत्र में अब तक कुल चार महिलाओं को नोबेल पुरस्कार दिया गया है. फेडरिक सेंगर एक मात्र ऐसे वैज्ञानिक हैं, जिन्हें दो बार रसायन विज्ञान का नोबेल पुरस्कार दिया गया है. उन्हें वर्ष 1958 और 1980 में नोबेल पुरस्कार दिया गया.

रसायन विज्ञान के क्षेत्र में सबसे कम उम्र में नोबेल पुरस्कार पाने वाले वैज्ञानिक फेडरिक जिलोट थे, जिन्हें वर्ष 1935 में 35 वर्ष की आयु में नोबेल पुरस्कार दिया गया. वहीं सबसे उम्रदराज वैज्ञानिक जॉन बी फेन रहे, जिन्हें 85 वर्ष की आयु में वर्ष 2002 में नोबेल पुरस्कार मिला. रसायन विज्ञान के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार पाने वाले वैज्ञानिकों की औसत आयु 58 वर्ष रही है.

No comments:

Post a comment