मासिक करेंट अफेयर्स

10 October 2017

प्रधानमंत्री ने भादभूत बांध परियोजना का शिलान्यास किया

प्रधनमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 अक्तूबर को भादभूत बांध परियोजना का शिलान्यास किया. यह परियोजना 4,337 करोड़ रुपये में तैयार होगी और इसका लक्ष्य नर्मदा नदी में खारापन रोकना है. गुजरात दौरे के दूसरे दिन मोदी ने सूरत के उधना से बिहार के जयनगर के लिए एक नयी ट्रेन को भी हरी झंडी दिखायी. उन्होंने गुजरात नर्मदा घाटी  र्वरक कंपनी लिमिटेड की विभिन्न नीम संबंधी परियोजनाओं का भी उद्घाटन किया. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार के सौ प्रतिशत नीम कोटेड यूरिया के विचार ने इसकी कालाबाजारी को बंद किया है तथा किसानों को होनेवाले यूरिया की कमी के संकट को भी दूर किया है. मोदी ने एक सार्वजनिक सभा को संबोधित करते हुए कहा कि इस बांध से भरूच में पेयजल की समस्या का समाधान होगा तथा यह मत्स्यपालन में नये अवसर मुहैया कराएगा. उन्होंने कहा, ‘‘समुद्री जल के खारेपन के कारण हजारों बिघा जमीन अनुर्वर हो गयी हैं. इसे ठीक करना है. हमें लोगों को पेयजल भी मुहैया कराना है. गुजरात सरकार को इस परियोजना के लिए धन्यवाद। मुझे यकीन है कि यह तीन साल में पूरा हो जाएगा.’’

उन्होंने आगे कहा, ‘‘नदी और समुद्र का पास आना मत्स्यपालन के लिए अच्छा है. इस बांध को वैज्ञानिक तरीकों से बनाया जाएगा ताकि यह खारे पानी को रोक सके, पेयजल उपलब्ध करा सके और मत्स्यपालन के लिए दो चैनल बना सके.’’ उन्होंने कहा कि बांध के साथ बन रहे पुल से दहेज और हजिरा जुड़ जाएंगे इससे दोनों औद्योगिक शहरों को फायदा होगा और इनके बीच की दूरी कम होगी. उन्होंने कहा, ‘‘यह पुल हजिरा की दूरी को 20 किलोमीटर कम कर देगा। इससे ईंधन की बचत होगी और पर्यावरण के साथ समय भी बचेगा. हजिरा और दहेज के जुड़ने से ये जुड़वां औद्योगिक शहर भी बन जाएंगे.’’ प्रधानमंत्री ने जीएनएफसी (गुजरात नर्मदा घाटी उर्वरक कंपनी लिमिटेड) की उसके परियोजनाओं के लिए सराहते हुए कहा कि उसने नीम की फली और बीज जमा करने वाली चार लाख ग्रामीण महिलाओं की मदद की है. उन्होंने कहा, ‘‘भरूच जीएनएफसी ने नीम के बीज और फली खरीदकर उन्हें 40 करोड़ की कमाई करने में सक्षम बनाया है. यह अतिरिक्त धन है, कूड़े से प्राप्त धन.’’

उन्होंने कहा, ‘‘पहले मैं केंद्र सरकार को यूरिया की कमी के कारण इसकी मांग करते हुए चिट्ठियां लिखा करता था. जब मैं प्रधानमंत्री बना, मुझे भी चिट्ठियां मिलने लगी. पिछले दो साल से एक भी मुख्यमंत्री ने मुझे यूरिया के लिए चिट्ठी नहीं लिखी है.’’ मोदी ने कहा, ‘‘क्या यूरिया चोर मेरे खिलाफ साजिश नहीं रचेंगे? लेकिन यह मोदी है. वह गुजरात की मिट्टी, गांधी और सरदार पटेल की जमीन पर बड़ा हुआ है.’’ प्रधानमंत्री ने सूरत के उधना से बिहार के जयनगर के लिये दूसरे अंत्योदय ट्रेन को हरी झंडी दिखाते हुए कहा कि इससे बिहार से यहां आकर काम करने वालों को दिवाली और छठ पूजा में घर जाने में मदद मिलेगी.

उन्होंने कहा, ‘‘कड़ी मेहनत करने वाले अपने बुजुर्ग माता-पिता को घर पर छोड़कर काम करने के लिये गुजरात आते हैं. लेकिन त्यौहारों के दौरान उन्हें घर जाने में कठिनाई होती है. हमारे बिहार और उत्तर प्रदेश के मित्र आसानी से घर जा सके, यह सुनिश्चित करने के लिये हमने लंबी दूरी की रेल सेवा शुरू की है.’’ मोदी ने कहा कि उनकी सरकार ने अंत्योदय एक्सप्रेस और महामना एक्सप्रेस शुरू की है. जहां महामना जो वडोदरा को वराणसी से जोड़ती है वहीं अंत्योदय एक्सप्रेस गुजरात को बिहार से जोड़ेगी. उन्होंने कहा, ‘‘इन ट्रेनों से बिहार, उत्तर प्रदेश के लोगों को बड़ी सुविधा होगी....महामना एक्सप्रेस से लोग वाराणसी में तीर्थस्थल काशी विश्वनाथ जा सकेंगे और मोदी की लोकसभा क्षेत्र को देख सकेंगे.’’

No comments:

Post a comment