मासिक करेंट अफेयर्स

07 October 2017

गौरी लंकेश को प्रतिष्ठित अन्ना पोलितकोवस्काया पत्रकारिता अवॉर्ड

पत्रकार गौरी लंकेश को मरणोपरांत प्रतिष्ठित अन्ना पोलितकोवस्काया अवॉर्ड दिया जाएगा. बेंगलुरु में 5 सितंबर को वरिष्ठ कन्नड़ पत्रकार गौरी लंकेश की अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. लंकेश के अलावा तालिबान के खिलाफ मुहिम चलाने वाली पाकिस्तान की सामाजिक कार्यकर्ता गुलालाई इस्माइल को भी यह अवॉर्ड मिलेगा. गौरी लंकेश से पहले 11 महिलाओं को यह प्रतिष्ठित अवॉर्ड मिल चुका है. गौरी इस अवॉर्ड को पाने वाली पहली भारतीय महिला हैं. इस अवॉर्ड के ऐलान के साथ लंदन की संस्था रीच ऑल विमिन इन वॉर (रॉ इन वॉर) ने अपनी वेबसाइट पर लिखा कि वरिष्ठ भारतीय पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश अन्ना पोलितकोवस्काया जैसी थीं. लंकेश को उनके घर के बाहर उस वक्त गोली मार दी गई थी, जब वह अपने दफ्तर से लौटी थीं.

गौरी लंकेश की बहन कविता ने कहा है कि इस अवॉर्ड से उन सभी पत्रकारों का हौसला बढ़ता है, जो समाज के लिए लिखना और संघर्ष करना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि गौरी इस बात का प्रतीक थीं कि उन्हें चुप नहीं कराया जा सकता. यह अवॉर्ड उनके इसी नजरिए का सम्मान है. कर्नाटक सरकार ने गौरी लंकेश मर्डर की जांच के लिए आईजीपी (इंटेलिजेंस) बीके सिंह की अध्यक्षता में विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया था और गौरी लंकेश की हत्या से जुड़ा सुराग देने पर 10 लाख रुपये का इनाम भी घोषित किया था. लंकेश की हत्या के मामले में अभी किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है.

पाकिस्तान के पेशावर में अवेयर गर्ल्स की को-फाउंडर गुलालाई इस्माइल ने कहा कि लोकतंत्र का समर्थन करने वाली एक आवाज को चुप करा दिया गया. रॉ इन वॉर यह अवॉर्ड रूसी पत्रकार अन्ना पोलितकोवस्काया के नाम पर देती है. 7 अक्टूबर 2006 को मॉस्को में सरकारी भ्रष्टाचार और सत्ता के खिलाफ रिपोर्टिंग कर रहीं अन्ना की हत्या कर दी गई थी.

No comments:

Post a comment