मासिक करेंट अफेयर्स

24 October 2017

संयुक्त राष्ट्र दिवस

आज (24 अक्टुबर) संयुक्त राष्ट्र दिवस है जो संयुक्त राष्ट्र चार्टर के 1 9 45 में लागू होने की सालगिरह का प्रतीक है. संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना 1945 को संयुक्त राष्ट्र चार्टर पर 50 देशों के हस्ताक्षर होने के साथ की गयी. इसके बाद ही संयुक्त राष्ट्र आधिकारिक तौर पर अस्तित्व में आया. आज संयुक्त राष्ट्र की 72 वीं सालगिराह है. संयुक्त राष्ट्र के सभी सदस्य राज्य अपने लक्ष्यों को आगे बढ़ाने में मदद करने के लिए वित्त का योगदान देते हैं. विश्व शांति के अलावा, मानव अधिकारों की सुरक्षा, सामाजिक और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने और अकाल, प्राकृतिक आपदा और सशस्त्र संघर्ष के मामलों में दुनिया भर में सहायता प्रदान करने के लिए इसकी भूमिका बढ़ी है.

संयुक्त राष्ट्र दिवस हर साल संयुक्त राष्ट्र संस्थान के उद्देश्यों एवं उपलब्धियों की जानकारी देने कि लिए मनाया जाता है. इस दौरान साप्ताहिक कार्यक्रमो का आयोजन किया जाता है. 1948 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 24 अक्टुबर को संयुक्त राष्ट्र दिवस के रुप में भी मनाए जाने की घोषणा की थी. 1 9 71 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने एक और प्रस्ताव (संयुक्त राष्ट्र संकल्प 2782) अपनाया और यह घोषित किया कि संयुक्त राष्ट्र दिवस एक अंतरराष्ट्रीय अवकाश होगा और इसे संयुक्त राष्ट्र के सभी सदस्य देशों द्वारा सार्वजनिक अवकाश के रूप में देखा जाना चाहिए.

क्यों बनाया गया संयुक्त राष्ट्र : 
द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान विश्व में काफी अशांति फैल गई थी. देशों के बीच संबंध काफी खराब हो गए थे. विश्व युद्ध के बाद विजेता देशों ने मिलकर एक ऐसा संगठन बनाने का प्रस्ताव रखा, जो विश्व में शांति कायम कर सके और फिर संयुक्त राष्ट्र संघ का गठन किया गया. 24 अक्तूबर 1945 को विश्व के 50 देशों ने चार्टर (संयुक्त राष्ट्र अधिकार पत्र) पर हस्ताक्षर कर इसका गठन किया. संयुक्त राष्ट्र में 193 सदस्य देश है. दुनिया के लगभग सभी मान्यता प्राप्त देश इसका हिस्सा है. अपना देश भारत इसमें शुरुआती दिनों में ही जुड़ गया था. संयुक्त राष्ट्र ने 6 भाषाओं को अधिकारिक भाषा का दर्जा दिया है (अरबी, चीनी, अंग्रेजी, फ्रेंच, रूसी,और स्पेनिश) लेकिन इन भाषाओं में केवल दो भाषा (अंग्रेजी और फ्रेंच) ही परिचलन में है. जबकि स्थापना के समय सिर्फ चार भाषाओं (अरबी, चीनी, अंग्रेज़ी, फ्रेंच, रूसी और स्पेनी) को ही स्वीकृति दी गई थी.

No comments:

Post a comment