मासिक करेंट अफेयर्स

28 November 2017

इसरो 2019 में सूर्य पर आदित्य एल-1 मिशन भेजेगा

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने हाल ही में घोषणा की कि वह वर्ष 2019 में सूर्य के अध्ययन हेतु पहला मिशन लॉन्च करेगा. इसरो इस मिशन के तहत सूर्य की सतह का अध्ययन करने का प्रयास करेगा. इसरो द्वारा प्रस्तावित इस मिशन का नाम आदित्य एल-1 रखा गया है. वर्तमान में इसरो द्वारा चलाये जा रहे मिशन में मंगल गृह तथा चंद्रमा का अध्ययन किया जा रहा है. इसके अतिरिक्त भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी द्वारा शुक्र ग्रह की सतह तक पहुंचने का भी प्रयास किया जा रहा है. अगले तीन महीनों में इसरो चार महत्वपूर्ण उपग्रह प्रक्षेपित करने जा रहा है. इसके अतिरिक्त अगले तीन वर्षों में इसरो लगभग 70 उपग्रह अन्तरिक्ष में प्रक्षेपित करने की योजना पर कार्य कर रहा है.  

इसरो आदित्य एल-1 मिशन : इसरो द्वारा सूर्य मिशन भेजने का सबसे महत्वपूर्ण कारण सूर्य पर होने वाले रासायनिक प्रतिक्रियाओं का अध्ययन करना है. इसरो के वैज्ञानिकों का मानना है कि इन प्रतिक्रियाओं के अध्ययन से सूर्य से जुड़े वैज्ञानिक तथ्यों को समझने में काफी सहायता मिलेगी. इसरो के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा की सूर्य का अध्ययन इसलिए भी आवश्यक है क्योंकि पराबैंगनी किरणों का भी अध्ययन किया जा सके. साथ ही यह पता करना कि सूर्य की सतह इतनी गरम क्यों है, इस मिशन के मुख्य उद्देश्यों में शामिल होगा. यह मिशन इसरो और भारत दोनों के लिए काफी महत्वपूर्ण होगा. इस पूरे मिशन के लिए इसरो पृथ्वी और सूर्य के मध्य मौजूद एक बिंदु का उपयोग करेगा, जिससे लग्रंजियन पॉइंट-1 (एल-1) कहते हैं. इस बिंदु से सूर्य पर होने वाले हर बदलाव पर अध्ययन किया जा सकता है. इस बिंदु की वजह से ही इस मिशन को आदित्य-एल 1 नाम दिया गया है. इस मिशन को आंध्र प्रदेश के श्री-हरिकोटा से लांच किया जाएगा. श्री-हरिकोटा इसरो के मिशन लांच के लिए एक महत्त्वपूर्ण स्थान है.

No comments:

Post a comment