मासिक करेंट अफेयर्स

12 November 2017

पूर्व भारतीय टेस्ट क्रिकेटर मिल्खा सिंह का निधन

पूर्व भारतीय टेस्ट क्रिकेटर एजी मिल्खा सिंह का हृदय की गति रुकने की वजह से निधन हो गया. वो 75 वर्ष के थे और अब उनके परिवार में उनकी पत्नी एक बेटा और बेटी हैं. मिल्खा सिंह ने साठ के दशक की शुरुआत में भारत के लिए चार टेस्ट मैच खेले थे. उनके छोटे भाई कृपाल सिंह भी भारत के लिए 14 टेस्ट मैच खेल चुके हैं. वर्ष 1961-62 में इंग्लैंड के खिलाफ दोनों भाई एक साथ भारत के लिए खेले थे. मिल्खा सिंह बाएँ हाथ के शानदार बल्लेबाज और बेहतरीन फील्डर थे. 17 वर्ष की उम्र में उन्होंने रणजी ट्रॉफी में अपना डेब्यू किया था और पहला टेस्ट मैच 18 साल की उम्र में खेला. उस वक्त वो मद्रास (अब तमिलनाडु में) के लिए रणजी ट्रॉफी में खेलते थे. मद्रास के लिए खेलते हुए उन्होंने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 4000 से ज्यादा रन बनाए जिसमें आठ शतक शामिल था. वो स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में भी कार्यरत थे.
 
मिल्खा सिंह को बेहद स्टाइलिश बल्लेबाजों में शुमार किया जाता था. वो लंबे समय तक अपनी स्टेट टीम के साथ जुड़े रहे और कई युवा क्रिकेटरों को उनसे काफी कुछ सीखने को मिला. मिल्खा सिंह के भतीजे अर्जन कृपाल सिंह तमिलनाडु के लिए रणजी ट्रॉफी में खेलते थे और वर्ष 1987 में गोवा के खिलाफ एक मैच में उन्होंने तिहरा शतक लगाया था. इस मैच में उन्होंने डब्ल्यू वी रमन के साथ मिलकर रिकॉर्ड साझेदारी की थी. रमन ने भी इस मैच में तीहरा शतक लगाया था और इन दोनों की पारी की मदद से उनकी टीम ने 912 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया था.

No comments:

Post a comment