मासिक करेंट अफेयर्स

18 November 2017

मूडीज ने भारत के बॉन्ड की रेटिंग बढ़ाई

मूडीज ने अच्छे दिनों पर मुहर लगाई है. 13 साल बाद भारत की रैंकिंग में सुधार हुआ है. दुनिया की दिग्गज रेटिंग एजेंसी मूडीज ने भारत की सॉवरन क्रेडिट रेटिंग्स को एक पायदान ऊपर कर दिया है. एजेंसी ने स्टेबल आउटलुक देते हुए भारत की रेटिंग बीएए3 से बढ़ाकर बीएए2 कर दिया है. इससे पहले 2004 में मूडीज ने भारत की रेटिंग में सुधार करते हुए उसे बीएए3 किया था. बीएए3 न्यूनतम निवेश श्रेणी की रेटिंग है जो जंक दर्जे से थोड़ी ही ऊपर है. मूडीज ने भारत का आउटलुक भी पॉजिटिव से स्टेबल किया है. मूडीज ने मोदी सरकार का ऑर्थिक रिफॉर्म की भी जमकर तारीफ की है और कहा है कि आर्थिक सुधारों को रफ्तार मिलने की वजह से भारत की क्रेडिट रेटिंग बढ़ाई गई है. उसने नोटबंदी और जीएसटी को बड़ा कदम बताया है.

मूडीज के वाइस प्रेसिडेंट विलियम फॉस्टर ने कहा कि लगातार हो रहे रिफॉर्म से इकोनॉमी को लेकर भरोसा बढ़ा है इसलिए रेटिंग को अपग्रेड किया गया. विलियम फॉस्टर ने आगे कहा कि आर्थिक सुधारों से तेज ग्रोथ को बढ़ावा मिलेगा. वित्त वर्ष 2018 में जीडीपी ग्रोथ 6.7 फीसदी और वित्त वर्ष 2019 में 7.5 फीसदी रहना संभव है. वित्त वर्ष 2020 के बाद ग्रोथ की रफ्तार में तेज बढ़त संभव है. वित्त वर्ष 2018 में कर्ज और जीडीपी अनुपात में 1 फीसदी बढ़त संभव है. मूडीज का ये भी मानना है कि भारत की ग्रोथ उभरते देशों में सबसे अधिक रहेगी. आगे सरकारी कर्ज, वित्तीय घाटे में स्थिरता संभव है. वहीं, पीएसयू बैंकों के रीकैपिटलाइजेशन से ग्रोथ बढ़ेगी.

इस पर नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार का कहना है कि मूडीज की रेटिंग बढ़ने से विदेशी निवेशकों का भारत पर भरोसा बढ़ेगा. सरकार के कदमों से रेटिंग बढ़नी ही थी. इकोनॉमी पर अब सरकार के आर्थिक सुधआरों का असर दिखना शुरु हुआ है. आगे चल कर दूसरी रेटिंग एजेंसियां भी रेटिंग बढ़ाएंगी. रेटिंग बढ़ने से इंफ्रा में निवेश बढ़ेगा. सुधारों के कारण मूडीज ने रेटिंग बढ़ाई है.

No comments:

Post a comment