मासिक करेंट अफेयर्स

11 November 2017

‘उबर एयर’ पायलट योजना के विकास के लिए उबर ने नासा के साथ समझौता किया

उड़ने वाली टैक्सियों के बारे में आपने काफी सुना होगा. लेकिन सब कुछ सही रहा तो यह अब हकीकत में बदल सकता है और आप जल्द ही फ्लाइंग टैक्सी में सफर कर सकेंगे. इसके लिए एप से टैक्सी बुक करने की सुविधा देने वाली कंपनी उबर (UBER) ने उड़ने में सक्षम टैक्सियों के विकास की संभावनाएं तलाशने के लिए अमेरिका के प्रमुख अंतरिक्ष संगठन नासा (NASA) से हाथ मिलाया है. उड़ने वाली टैक्सियों का किराया भी सामान्य टैक्सी यात्रा के बराबर ही रखा जाएगा. यानी आप इस टैक्सी की सेवा लेंगे तो आपको किसी प्रकार का अतिरिक्त चार्ज नहीं देना होगा. उबर की तरफ से घोषणा की गई कि उसकी पहले घोषित की गई 'उबर एयर' (uber air) पायलट योजना में लॉस एंजिलिस भी भागीदार होगा. इससे पहले डलास फोर्ट-वर्थ, टेक्सास और दुबई भी इसमें शामिल हो चुके हैं. उबर ने एक बयान में कहा कि नासा की यूटीएम (मानवरहित यातायात प्रबंधन) परियोजना में उबर की भागीदारी कंपनी के 2020 तक अमेरिका के कुछ शहरों में उबर एयर की विमान सेवा प्रयोगिक तौर पर शुरू करने के लक्ष्य को पाने में मदद करेगी.

आपको बता दें कि उबर नासा के साथ अन्य तरह की संभावनाओं को भी तलाश रहा है. शहरी हवाई यातायात के नए बाजार को लेकर उसका खुला रुख है. इससे पहले एयर टिकट बुक करने के साथ एयरपोर्ट स्थित किओस्क से कैब बुक कराने की सर्विस भी शुरू की गई थी. इसके लिए भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) ने ओला, उबर जैसी कैब एग्रिगेटरों के साथ समझौता किया था. इस सुविधा को देश के पांच हवाई अड्डों चेन्नई, कोलकाता, पुणे, लखनऊ और भुवनेश्वर में इस सेवा को शुरू किया गया है. पिछले तीन-चार साल में यात्रियों की अपेक्षाओं में काफी बदलाव हुआ है. यात्री हवाई अड्डों पर गुणवत्तापूर्ण और बेहतर सेवा-सुविधा चाहते हैं जिसमें प्रौद्योगिकी की भूमिका काफी महत्त्वपूर्ण है.

No comments:

Post a comment