मासिक करेंट अफेयर्स

13 December 2017

सऊदी अरब ने सिनेमाघरों पर 35 साल से लगा प्रतिबंध हटाया

सऊदी अरब में 35 साल पहले सिनेमाघरों पर लगाई पाबंदी को हटाने का फैसला किया गया है. सऊदी अरब के संस्कृति और सूचना मंत्रालय का कहना है कि मार्च में सऊदी अरब में सिनेमा खुल सकते हैं.  मंत्रालय का कहना है कि सऊदी अरब का बोर्ड ऑफ द जनरल कमिशन फॉर ऑडियोविजु्अल मीडिया सिनेमाघरों को लाइसैंस देने के लिए सहमत हो गया है. इस कदम को भी सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के 2030 विजन का हिस्सा माना जा रहा है जिसका मकसद तेल पर निर्भर देश सऊदी अरब की अर्थव्यवस्था में विविधता लाना है. क्राउन प्रिंस का कहना है कि वह सऊदी अरब को "उदार इस्लाम" की तरफ ले जाना चाहते हैं. इसी कड़ी में वह देश में कट्टरपंथी इस्लाम के प्रभाव को कम करने की कोशिश कर रहे हैं. हाल ही में सऊदी अरब में महिलाओं के ड्राइविंग करने पर लगी पाबंदी हटाई गई थी. हाल के महीनों में सऊदी अरब ने कॉन्सर्ट, कॉमिक-कॉन पॉप कल्चर फेस्टिवल का आयोजन किया था, जिसमें लोगों को पहली बार इलेक्ट्रॉनिक म्यूजिक पर सड़कों पर डांस करते देखा गया था.

साल 2030 तक सऊदी अरब में 2000 से ज्यादा स्क्रीनों के साथ 300 से ज्यादा सिनेमाघर खोले जाने का लक्ष्य है. सरकार को उम्मीद है कि सिनेमा इंडस्ट्री से देश की इकोनॉमी ग्रोथ में 90 बिलियन रियाल से ज्यादा की मदद मिलेगी और 30,000 से ज्यादा स्थायी रोजगार पैदा होने की उम्मीद है. संस्कृति और सूचना मंत्री अव्वाद अल अव्वाद ने कहा, "सिनेमाघरों को खोलने से आर्थिक विकास को बढ़ावा मिलेगा और इससे विविधता आएगी. एक व्यापक सांस्कृतिक सैक्टर तैयार कर हम नए रोजगार और ट्रेनिंग के अवसर पैदा करेंगे. साथ ही इससे सऊदी अरब में मनोरंजन के विकल्प भी समृद्ध होंगे." सऊदी अरब सुन्नी मुस्लिम मुल्क है. मुस्लिम कट्टरपंथी सिनेमा को सांस्कृतिक और धार्मिक पहचान के लिए खतरा मानते हैं. इसीलिए 1980 के दशक की शुरुआत में सऊदी अरब में सिनेमा पर पाबंदी लगाई गई थी.

No comments:

Post a comment