मासिक करेंट अफेयर्स

30 December 2017

रेल मंत्रालय ने रेलवे स्टेशनों का पुनर्वर्गीकरण किया

रेल मंत्रालय ने एक बड़े नीतिगत निर्णय में देश के सभी रेलवे स्टेशनों के वर्गीकरण में व्यावहारिक आधार पर बदलाव किए हैं और स्टेशनों पर संरक्षा कार्यों को मंजूरी देने के लिये असीमित अधिकार दे दिये हैं तथा वे निचली श्रेणी के स्टेशनों पर भी यात्री सुविधाओं के कार्यों के बारे में फैसला ले सकेंगे. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने आमदनी, स्टेशन से आने जाने वाले यात्रियों की संख्या एवं रणनीतिक महत्व के आधार पर उनके पुनर्वर्गीकरण करने के निर्देश दिए थे ताकि स्टेशनों पर यात्री सेवाएं एवं सुविधाएं बढ़ाने की योजना सही प्रकार से बनाई जा सके.

पहले स्टेशनों पर ए-1, ए, बी, सी, डी, ई एवं एफ इन सात श्रेणियों में बांटा गया था. अब स्टेशनों को उपनगरीय, गैरउपनगरीय और हाल्ट इन वर्गों में बांटा गया और फिर गैरउपनगरीय (एनएसजी) स्टेशनों को एक से लेकर छह, उपनगरीय (एसजी) स्टेशनों को एक से लेकर तीन और हाल्ट (एचजी) स्टेशनों को भी एक से लेकर तीन की श्रेणियों में विभाजित किया गया है. इस प्रकार से रेलवे स्टेशन अब 12 श्रेणियों में विभाजित किए गये हैं. नये वर्गीकरण के कारण बहुत से स्टेशनों जैसे पनवेल, कल्याण, तांबरम आदि को ऊंची श्रेणी मिल गयी है. 

पांच सौ करोड़ से अधिक आमदनी एवं दो करोड़ से अधिक यात्रियों की आवाजाही वाले स्टेशनों को एनएसजी-1 स्टेशन माना जाएगा जबकि सौ से पांच सौ करोड़ रुपए के बीच आय अौर एक से दो करोड़ यात्रियों की आवाजाही वाले स्टेशनों को एनएसजी-2 श्रेणी में रखा जाएगा. उपनगरीय श्रेणी में 25 करोड़ से अधिक अामदनी एवं तीन करोड़ यात्रियों की आवाजाही वाले स्टेशनों को एसजी-1 वर्ग में रखा गया है जबकि हाल्ट श्रेणी में 50 लाख रुपए से अधिक आय एवं पांच लाख यात्रियों की आवाजाही वाले स्टेशनों को एचजी-1 श्रेणी में रखा गया है. एनएसजी में कुल 5976, एसजी में 484 और 2153 स्टेशन हैं. इस प्रकार कुल 8613 स्टेशनों को वर्गीकृत किया गया है.

No comments:

Post a comment