मासिक करेंट अफेयर्स

15 December 2017

होटल और रेस्टोरेंट बोतलबंद पानी जैसी पैकेज्ड प्रोडक्ट्स एमआरपी से ज्यादा कीमत में बेच सकते हैं: सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि होटल और रेस्टोरेंट बोतलबंद पानी जैसी पैकेज्ड प्रोडक्ट्स को उनकी एमआरपी से ज्यादा कीमत में बेच सकते हैं. उन्हें इन प्रोडक्ट्स को तय कीमत पर बेचने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता. कोर्ट के मुताबिक, होटल और रेस्टोरेंट सर्विस देते हैं और उन्हें लीगल मिट्रॉलजी ऐक्ट के तहत नहीं चलाया जा सकता. जस्टिस आर.एफ. नारीमन की अध्यक्षता वाली पीठ ने यह फैसला देते हुए कहा कि होटल और रेस्तरां में बिक्री और सेवा के संयुक्त तत्व होते हैं, यहां ग्राहकों को सुखद एवं आरामदायक वातावरण दिया जाता है जिसमें काफी निवेश किया जाता है. फेडरेशन ऑफ होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन्स ऑफ इंडिया की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार का रुख दरकिनार ही कर दिया.

कोर्ट ने सुनवाई के दौरान टिप्पणी की थी कि अगर वो पानी की मनमानी कीमत वसूलते भी हैं तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई नहीं की जा सकती. केंद्र सरकार ने 2009 में संशोधित एक्ट की दुहाई देते हुए कोर्ट में कहा था कि तय खुदरा मूल्य से ज्यादा कीमत वसूलने पर होटल या रेस्तरां मालिक या मैनेजमेंट पर आर्थिक जुर्माना और कैद का प्रावधान है. दूसरी बार पकड़े जाने पर जुर्माना 50 हजार रुपये तक हो सकता है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि होटल और रेस्तरां फूड और ड्रिंक्स सर्व करते हैं, वे सर्विस देते हैं और यह कंपोजिट बिलिंग के साथ मिला-जुला ट्रांजैक्शन है और इन इकाइयों पर एमआरपी रेट के लिए दबाव नहीं डाला जा सकता.

No comments:

Post a comment