मासिक करेंट अफेयर्स

22 January 2018

निर्मला सीतारमण सुखोई-30 लड़ाकू विमान में उड़ान भरने वाली देश की पहली महिला रक्षा मंत्री बनीं

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को एक रेकॉर्ड अपने नाम कर लिया. जोधपुर में एयरफोर्स बेस से सुखोई-30 लड़ाकू विमान में उड़ान भरने वाली वह देश की पहली रक्षा मंत्री हैं. इससे पहले 25 नवंबर 2009 में तीनों सेनाओं के सुप्रीम कमांडर के तौर पर पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल पुणे में सुखोई में उड़ान भर चुकी हैं. सुखोई को वायु सेना के सबसे बेहतरीन लड़ाकू विमानों में से एक माना जाता है.  सुखोई में उड़ान भरने से पहले रक्षा मंत्री ने वायु सेना के जवानों से भी मुलाकात की और उड़ान के लिए पहले की सारी बारीकियों को जाना. इसके बाद वे एंटी जी सूट पहनकर देश के सबसे आधुनिक और अग्रिम पंक्ति के लड़ाकू विमान में सवार हुईं. इस विमान को सीओ 31 स्क्वाडर्न लायन्स कैप्टन सुमित गर्ग उड़ा रहे थे. उड़ान दोपहर 1 बजे शुरू हुई और 40 से 45 मिनट तक रक्षा मंत्री सुखोई में उड़ान भरी.

इस उड़ान के बाद रक्षा मंत्री ने अपने अनुभव को साझा किया. जोधपुर का ये वायुसेना अड्डा पाकिस्तान सीमा से तक़रीबन 200 किलोमीटर दूर है और सुखोई को दुश्मन के इलाक़े तक महज़ 15 मिनट का समय लगता है. ये मार्क-2 लड़ाकू विमान है जिसका मतलब है कि ये अधिकतम रफ़्तार लगभग 2000 किलोमीटर प्रतिघंटा से उड़ान भर सकता है और एक बार में ये 3000 किलोमीटर तक उड़ान भर सकता है. हवा में ही रीफ्यूल के बाद सुखोई 10 घंटे तक लगातार उड़ सकता है. अधिकतम 8000 कीलोमीटर तक लागातार उड़ान भर सकता है. सेना को लागातार ताक़त देने की नीति पर काम करते हुए मोदी सरकार लगातार कमियों को दूर करने में लगी है और उसकी ख़ुद रक्षा मंत्री निगरानी कर रही है.

इससे पहले पिछले हफ़्ते ही निर्मला सीतारमण ने गोवा में देश के सबसे बड़े नौसैनिक युद्धपोत आईएनएस विक्रमादित्य का जायज़ा लिया था. रक्षा मंत्री बनने के बाद से ही निर्मला सीतारमण की कोशिश सेना के अलग-अलग अंगों की कार्यप्रणाली और तैयारी के बारे में पूरी जानकारी लेने की है. रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण सेना के तीनों अंगों की हौसला अफजाई करती नजर आती रहती हैं. इससे पहले रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण इसी महीने 'रक्षामंत्री डे एट सी' अभियान में हिस्सा लेने के लिए गोवा के भारतीय नौसेना अड्डा आईएनएस पहुंची थीं। रक्षामंत्री जोधपुर पहुंची और वायुसेना के अधिकारियों से मुलाक़ात की

No comments:

Post a comment