मासिक करेंट अफेयर्स

28 February 2018

पीएम ने भारत-कोरिया व्यापार सम्मेलन को संबोधित किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज राजधानी दिल्ली में भारत-कोरिया बिज़नेस सम्मिट को संबोधित किया. भारत-कोरिया के बीच यह दूसरा शिखर सम्मेलन है. सम्मेलन में पीएम मोदी ने 3-डी यानी ..डेमोक्रेसी, डेमोग्राफी और डिमांड का मंत्र दिया. प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत जलवायु संरक्षण के लिए तकनीक के बेहतर इस्तेमाल पर काम कर रहा है. प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत अर्थव्यवस्था के क्षेत्र में लगातार प्रगति कर रहा है और सरकार की नीतियों की वजह से देश की विकास रफ्तार में तेज़ी आ रही है. कोरिया के साथ बेहतर संबंधों पर प्रकाश डालते हुए पीएम मोदी ने कहा कि भारत और कोरिया व्यापारिक क्षेत्र में और बेहतर साझेदारी बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं. उन्होंने ये भी कहा कि क्षेत्र में समृद्धि और स्थिरता बनाए रखने में भारत और कोरिया की अहम भूमिका है. इस मौके पर उन्होंने भारत-कोरिया के बीच व्यापारिक संबंधों का उल्लेख करते हुए दोनों देशों के बीच समानताओं का जिक्र किया.

भारत-कोरिया के बीच बढ़ते व्यापारिक संबंधों के बीच दिल्ली में आयोजित दूसरे शिखर सम्मेलन में प्रधाननमंत्री नरेंद्र मोदी ने संभावनाओं की नई इबारत लिखी. भारत और कोरिया के बीच सालों से चले आ रहे मजबूत और पारंपरिक संबंधों को मजबूती देते हुए प्रधानमंत्री ने बुद्ध से बॉलीवुड और दोनों देशों के स्वतंत्रता दिवस का जिक्र किया. प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत और कोरिया के बीच कई समानताएं हैं. उन्होंने निवेश की अपार संभावनाओं पर बात करते हुए कहा कि भारत के पास अर्थव्यवस्था के सभी तीन फैक्टर एक साथ मिलते हैं. देश में व्यापार सुगमता को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा उठाए गए कदमों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि डिजिटल क्रांति से नया भारत का उदय हो रहा है. प्रधानमंत्री ने कहा कि खरीदने की क्षमता के आधार पर भारत पहले ही दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था हैं. उन्होंने बताया कि जल्द ही भारत जीडीपी के मामले में दुनिया की पांचवी अर्थव्यवस्था बन जाएगा. इसके साथ ही भारत आज दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था हैं और सबसे बड़े स्टार्टअप इको-सिस्टम वाले बड़े देशों में से एक हैं. प्रधानमंत्री ने कहा कि निवेश को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने पारदर्शी व्यवस्था को बढ़ावा दिया है।

शिखर सम्मेलन में आए उद्योग जगत के प्रतिनिधियों ने भी भारत-कोरिया के बीच व्यापार के अपार संभावनाओं पर बात की। उनका कहना था कि भारत-कोरिया मिलकर वैश्विक स्तर पर व्यापार को बढ़ा सकते हैं. भारत-कोरिया के बीच यह दूसरा व्यापार सम्मेलन आयोजित हो रहा है. इस वर्ष सम्मेलन का विषय - भारत-कोरिया "व्यापार और निवेश माध्यम से विशेष रणनीतिक संबंध को बढ़ावा" देना है.

माइकल मैककॉरमेक ऑस्ट्रेलिया के नए उप प्रधानमंत्री बने

माइकल मैककोरमैक ऑस्ट्रेलिया के नए उप प्रधानमंत्री चुने गए हैं. उन्होंने पूर्व उप प्रधानमंत्री बर्नाबाय जॉइस का स्थान लिया है. नेशनल पार्टी के नेता प्रधान मंत्री माल्कम टर्नबुल की लिबरल पार्टी के साथ गठबंधन समझौते की शर्तों के तहत स्वतः उप प्रधान मंत्री बन जाता है. नेशनल्स पार्टी के सांसदों ने माइकल मैककॉरमेक को अपना नेता चुना. इन्होने सोमवार को पदभार संभाल लिया. उनके पूर्ववर्ती बार्नबाय जॉयस ने यौन उत्पीड़न आरोपों के चलते इस्तीफा दे दिया था. हालांकि उन्होंने संसद से इस्तीफा नहीं दिया ताकि प्रतिनिधि सभा में प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल को प्राप्त एक सीट का बहुमत कायम रहे.

प्रधानमंत्री की लिबरल पार्टी के साथ नैशनल्स पार्टी के गठबंधन समझौते के चलते जॉयस स्वत: ही उप प्रधानमंत्री बन गए थे. उप प्रधानमंत्री चुने जाने के बाद 53 वर्षीय मेककॉरमेक ने कहा, ''मैं यह सुनिश्चित करना चाहता हूं कि लोग यह जान लें कि मेरे रूप में उन्हें एक योद्धा मिला है. मेरे सामने एक बड़ी चुनौती है.'' जॉयस का निजी जीवन इन दिनों विवादों में हैं. विवाह के 24 साल बाद वह अपनी पत्नी से अलग हो गए. उनकी चार बेटियां हैं. पिछले दिनों जॉयस और उनकी पूर्व प्रेस सचिव के अफेयर की खबरें आई थीं. जॉयस की पूर्व प्रेस सचिव अप्रैल में उनके बच्चे को जन्म देने वाली हैं.

भारतीय महिला खिलाड़ी सीमा पूनिया और एमसी मेरी कॉम ने स्टंडेजा मेमोरियल बॉक्सिंग टूर्नामेंट में रजत पदक जीता

पांच बार की विश्व चैंपियन एमसी मेरी कॉम पुरुष और महिलाओं के 69वें स्ट्रैंड्जा मेमोरियल मुक्केबाजी टूर्नामेंट के फाइनल में हारकर रजत पदक से संतोष करना पड़ा. दूसरी तरफ इसी प्रतियोगिता में अमित फंगल ने लगातार दूसरा अंतरराष्ट्रीय स्वर्ण पदक हासिल किया. अमित (49 किग्रा) ने पिछले महीने इंडिया ओपन में खिताब जीता था, उन्होंने मोरक्को के सैद मोर्दाजी को हराकर पीला तमगा अपने नाम किया. हरियाणा का यह 23 वर्षीय मुक्केबाज शुरू में लचर शुरूआत से उबरने में सफल रहा, जबकि सैद काफी लंबे थे और चपलता में इस भारतीय की बराबरी पर थे. लेकिन वह सटीकता में थोड़े विफल हो गए. मेरी कॉम (48 किग्रा) की निगाहें एशियाई चैंपियनशिप और इंडिया ओपन में स्वर्ण पदक जीतने के बाद यहां भी पहला स्थान हासिल करने पर लगी हुई थीं. लेकिन वह बुल्गारिया की स्वेदा असेनोवा से हार गईं. सीमा पूनिया (81 किग्रा से अधिक) को भी रजत पदक से संतोष करना पड़ा जो रूस की अन्ना इवानोवा की चुनौती के आगे पस्त हो गईं.

मेरी कॉम के लिए यह परिणाम हालांकि चौंकाने वाला था, क्योंकि वह स्थानीय मुक्केबाज के खिलाफ बाउट में दबदबा बनाए हुए थीं. ओलंपिक कांस्य पदकधारी भारतीय मुक्केबाज बाउट के दौरान आक्रमण की शुरुआत कर रही थीं. बल्कि वह सचमुच स्वेदा पर आक्रमण कर रही थीं, लेकिन जब जजों ने स्वेदा के पक्ष में निर्णय सुनाया, तो भारतीय पक्ष हैरान रह गया. वहीं, सीमा का मुकाबला ताकतवर मुक्के जड़ने वाली अन्ना से था जो अपने सीधे पंच में काफी तेज थी. रूस की मुक्केबाज का इतना दबदबा था कि अंतिम दौर में उन्हें चेतावनी दी गयी थी, लेकिन इसका नतीजे पर कोई फर्क नहीं पड़ा. इस तरह भारतीय मुक्केबाजों ने टूर्नामेंट में दो रजत और चार कांस्य पदक अपने नाम किए. मीना कुमारी देवी (54 किग्रा), एल सरिता देवी (60 किग्रा), स्वीटी बूरा (75 किग्रा) और भाग्यवती काचरी (81 किग्रा) ने कांस्य पदक जीते. पुरुषों में अन्य कांस्य पदकधारी मोहम्मद हसमुद्दीन (56 किग्रा) और सतीश कुमार (91 किग्रा से अधिक) रहे.

यूआईडीएआई ने बच्चों के लिए नीले रंग का ‘बाल आधार’ कार्ड बनाने की घोषणा की

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने 5 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए नीले रंग का ‘बाल आधार’ कार्ड तैयार किया है. इसकी जानकारी यूआईडीएआई ने अपने ट्वीटर अकाउंट से दी. बाल आधार बनवाने के लिए माता या पिता किसी एक का आधार नंबर और बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र ज़रूरी होगा. वहीं 5 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए बायोमीट्रिक डीटेल्स की ज़रुरत नहीं होगी. पंजीकरण की सुविधा अस्पताल में भी मिलेगी. इस आधार में दो बार अपडेट की ज़रूरत होगी. पहले जब बच्चे का पांच साल पूरा होगा तो अपडेट कराना होगा. यदि 7 साल की उम्र तक इसे अपडेट नहीं कराया गया तो यह अपने आप निरस्त हो जाएगा. वहीं दूसरी बार 15 साल की आयु में अपडेट कराने की ज़रूरत होगी.

बाल आधार बनाने के लिए आधार सेंटर जाकर फॉर्म भरें. बच्चे का बर्थ सर्टिफिकेट माता-पिता में से किसी भी एक पैरेंट का आधार नंबर देना होगा. मोबाइल नंबर भी दें. आवेदक की उम्र 5 साल से कम होने पर उसके बायोमेट्रिक की जरूरत नहीं होगी. वही पांच साल के बाद बच्चे का फ़ोटो क्लिक किया जाएगा. बच्चे का ‘आधार’ उसके माता या पिता के आधार कार्ड से लिंक किया जाएगा. कन्फर्मेशन के बाद स्वीकृति पर्ची मिलेगी. वही जब ये सारी प्रक्रिया पूरी हो जाएगी तो रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर संदेश प्राप्त हो जाएगा. विदेश में बच्चे की शिक्षा और स्कॉलरशिप हासिल करने के लिए बाल आधार जरूरी होगा.

टीवी पत्रकार राहुल महाजन राज्यसभा के टीवी एडिटर-इन-चीफ नियुक्त

वरिष्ठ टेलीविजन पत्रकार राहुल महाजन को राज्यसभा टीवी का नया एडिटर-इन-चीफ नियुक्त किया गया है. राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने प्रसार भारती के अध्यक्ष ए सूर्य प्रकाश की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय खोज सह चयन समिति की सिफारिशों को स्वीकार करने के बाद राहुल की नियुक्ति को शनिवार मंजूरी दे दी. एक आधिकारिक बयान में बताया गया कि महाजन को 57 आवेदकों में से चुना गया और चयन समिति ने अपनी सिफारिश भेजने से पहले 15 उम्मीदवारों का इंटरव्यू लिया. 46 वर्षीय महाजन को मीडिया में 26 वर्ष का अनुभव है. इसमें से 23 साल उन्होंने अलग-अलग मीडिया संस्थानों में काम किया है. फिलहाल वह प्रसार भारती में कंसल्टिंग एडिटर हैं. 

राहुल महाजन हिमाचल प्रदेश के शिमला के रहने वाले हैं और उन्हें मीडिया में 26 वर्षों का अनुभव है, जिसमें उन्होंने 23 वर्ष विभिन्न न्यूज चैनलों में काम किया है।. 1995 में इंडियन एक्सप्रेस से अपने पत्रकारिता की पारी की शुरुआत करने वाले राहुल महाजन ने एक साल बाद ही प्रिंट मीडिया को अलविदा कहकर टीवी मीडिया का दामन थाम लिया था और उसके बाद 1996 में वे जी न्यूज के साथ जुड़ गए थे. वर्ष 2004 में वे देश के नंबर-1 चैनल आजतक में बतौर स्पेशल कॉरेस्पोंडेंट जुड़े और उसके बाद स्टार न्यूज चैनल की लॉन्चिंग टीम का हिस्सा बने. 2007 में जब वरिष्ठ टीवी पत्रकार सुप्रिय प्रसाद और अजीत अंजुम के नेतृत्व में न्यूज24 लॉन्च किया गया तो वे उस टीम के फाउंडिंग मेंबर थे. न्यूज24 में अपने पांच साल के कार्यकाल के दौरान  ई24 और दर्शन24 चैनलों को लॉन्च कराने में उनकी अहम भूमिका रही है. 2012 में बतौर एडिटर इन चीफ और सीईओ उन्होंने भास्कर टीवी लॉन्च किया था. उसके बाद वे क्षेत्रीय न्यूज नेटवर्क 1 राजस्थान में बतौर एडिटोरियल कंस्लटेंट जुड़ गए थे. फिलहाल वे प्रसार भारती में कंसल्टिंग एडिटर के तौर पर कार्यरत थे.


उमा भारती ने राजस्थान में स्वजल योजना की दूसरी परियोजना का शुभारंभ किया

केन्‍द्रीय पेयजल एवं स्‍वच्‍छता मंत्री उमा भारती ने राजस्‍थान में करौली जिले के भीकमपुरा गांव में स्‍वजल पायलट परियोजना का शुभारंभ किया. इस परियोजना से पूरे वर्ष स्‍वच्‍छ पेयजल की उपलब्‍धता सुनिश्चित होने के अलावा रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे. उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि वे जल्‍द ही शुरू होने वाली परियोजना को पूरे मन से अपनायें. उन्‍होंने याद दिलाया कि चन्‍द्रशेखर आजाद की पुण्‍यतिथि है और सरकार उनके स्‍वराज के सपने को पूरा करने की कोशिश कर रही है. उन्‍होंने भीकमपुरा में 54.17 लाख रूपये से अधिक के बजट की स्‍वजल परियोजना का उद्घाटन किया. स्‍वजल परियोजना सतत पेयजल आपूर्ति के लिए समुदाय के स्‍वामित्‍व वाला पेयजल कार्यक्रम है. इस योजना के अंतर्गत परियोजना की लागत का 90 प्रतिशत खर्च सरकार उठाएगी और समुदाय के योगदान से शेष 10 प्रतिशत व्‍यय किया जाएगा. परियोजना के परिचालन और प्रबंधन की जिम्‍मेदारी स्‍थानीय ग्रामीणों की होगी.

योजना के अनुसार गांवों में चार जलाशयों का निर्माण किया जाएगा और लगभग 300 आवासों में नल के कनैक्‍शन उपलब्‍ध कराये जाएंगे. भीकमपुरा गांव में पेयजल की अत्‍यधिक कमी है और ग्रामीणों को पेयजल के लिए कम से कम तीन किलोमीटर तक पैदल चलना पड़ता है. गर्मी के दौरान टैंकरों से जलापूर्ति की जाती है. नई परियोजना से लोगों की कठिनाई कम होगी और पूरे साल प्रत्‍येक व्‍यक्ति के लिए पेयजल की उपलब्‍धता सुनिश्चित होगी. मंत्री महोदया ने जिले की विभिन्‍न परियोजनाओं की प्रगति की भी समीक्षा की. करौली 115 आकांक्षी जिलों में से एक है. इसका उद्देश्‍य केन्‍द्र और राज्‍य सरकार की योजनाओं का उचित कार्यान्‍वयन तथा अभिसरण के जरिये जिले का सम्‍पूर्ण विकास सुनिश्चित करना है. उन्‍होंने स्‍वास्‍थ्‍य, पोषण, शिक्षा, कौशल विकास, कृषि, वित्‍तीय समावेशन और मूलभूत बुनियादी ढांचे सहित छह महत्‍वपूर्ण क्षेत्रों में प्रगति की समीक्षा की तथा अधिकारियों को कार्यक्रम के त्‍वरित कार्यान्‍वयन के लिए आवश्‍यक कार्रवाई करने का सुझाव भी दिया. पेयजल एवं स्‍वच्‍छता मंत्रालय इस परियोजना की प्रगति पर नजर रखेगा.

ईपीएफओ ने उमंग ऐप के जरिए यूएएन-आधार लिंकिंग सुविधा शुरू की

रिटायरमेंट फंड बॉडी ईपीएफओ ने उमंग मोबाइल ऐप के जरिए यूनिवर्सल अकाउंट नंबर के साथ आधार लिंकिंग की नई सुविधा शुरू की है. श्रम मंत्रालय ने मंगलवार को यह जानकारी दी है. श्रम मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान के अनुसार, इम्‍प्‍लॉइज प्रोविडेंट फंड ऑर्गनाइजेशन (ईपीएफओ) ने यूएएन-आधार लिंकिंग की नई सुविधा शुरू की है.  इसके तहत, मेम्‍बर उमंग ऐप में ईपीएफओ लिंक का यूज कर अपने पीएफ अकाउंट को आधार से लिंक करा सकते हैं. ईपीएफओ की वेबसाइट पर UAN-आधार लिंकिंग की मौजूदा सुविधा के अलावा यह सर्विस है. ई-केवाईसी पोर्टल पर UAN को आधार के साथ लिंक करने की नई सुविधा में ऑनलाइन बॉयोमीटिंग पहचान का यूज होता है. 

ई-नॉमिनेशन फैसेलिटी लॉन्‍च
अब डिजिटल इंडिया की ओर कदम बढ़ाते हुए ईपीएफओ ने ई-नॉमिनेशन फैसेलिटी लॉन्‍च की है. यह सुविधा ईपीएफओ के यूनिफाइड पोर्टल के मेम्‍बर इंटरफेस पर उपलब्‍ध है. एक्टिव और यूएएन से जुड़े आधार अकाउंट वाला कोई भी मेम्‍बर इस सुविधा का फायदा उठा सकता है. यह सुविधा इम्‍प्‍लॉयर से पूरी तरह अलग है. ऑनलाइन नॉमिनेशन डिटेल देने के बाद मेम्‍बर को नॉमिनेशन डिजिटली साइन करना होगा. आधार आधारित ई-साइन का इस्‍तेमाल फॉर्म पर डिजिटल साइन के रूप में किया जा सकेगा. यह ई-साइन ईपीएफओ की ओर से मेम्‍बर्स को बिना किसी शुल्‍क उपलब्‍ध कराई जाएगी. यह सुविधा भी जल्‍द उमंग ऐप पर उपलब्‍ध हो जाएगी. उमंग या यूनिफाइड मोबाइल अप्‍लीकेशन सरकार की ओर से लॉन्‍च किया गया एक ऐप है. इसके जरिए एक ही जगह सरकार की अलग-अलग सर्विसेज को एक्‍सेस किया जा सकता है.

27 February 2018

चीन बना वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (FATF) का उपाध्यक्ष

चीन वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एफएटीएफ) का उपाध्यक्ष बना. भारत ने वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एफएटीएफ) का उपाध्यक्ष बनने के लिए चीन को बधाई दी. एफएटीएफ की पूर्ण बैठक में अमेरिका और उसके कुछ यूरोपीय सहयोगी पाकिस्तान को उन देशों की सूची में डालने के पक्ष में थे जो आतंकवाद का वित्तपोषण करते हैं. भारत ने उम्मीद जताई कि बीजिंग संगठन के उद्देश्य को संतुलित और वस्तुनिष्ठ तरीके से कायम रखेगा और उसे समर्थन देगा. एफएटीएफ एक वैश्विक निकाय है जिसपर आतंक के वित्तपोषण से लड़ने की जिम्मेदारी है.
 
वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एफएटीएफ) को वर्ष 1989 में स्थापित किया गया था. ये संस्था आतंकवाद से जुड़े मनी लांडरिंग से निपटने का कार्य करती आ रही थी. लेकिन वर्ष 2001 में इसके कार्य में विस्तार किया गया. अब एफएटीएफ किसी भी देश के खिलाफ वित्तीय प्रतिबंध जैसी कार्रवाई कर सकती है. एफएटीएफ 37 देशों का वैश्विक संगठन है जो अवैध धन को वैध बनाने तथा आतंकी कार्रवाई गतिविधियों को धन उपलब्ध कराने की निगरानी करता है.

दक्षिणी अफ्रीकी क्रिकेटर मोर्ने मोर्कल ने किया सन्यास का एलान

दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाज मोर्ने मोर्कल ने संन्यास का एलान कर दिया है. मोर्कल ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज खेलने के बाद इंटरनेशनल क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने का फैसला किया है. मोर्कल दक्षिण अफ्रीका टीम में तेज गेंदबाजी की अगुवई करते हैं. मोर्कल ने दक्षिण अफ्रीका के लिये 83 टेस्ट मैच खेले हैं जिनकी 154 पारियों में 294 विकेट ले चुके हैं. इस दौरान उनका इकोनॉमी रेट 3.1 का रहा है. टेस्ट क्रिकेट में उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी 6/23 रही है और उनका औसत 28 के लगभग रहा है. टेस्ट करियर के दौरान उन्होंने 7 बार 5 या उससे ज्यादा विकेट लिये हैं.

आगामी सीरीज में मोर्कल ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 4 टेस्ट मैच खेलने का मौका है. इस दौरान अगर वो 6 विकेट लेने में कामयाब हो जाते हैं तो वो 300 विकेट लेने वाले दक्षिण अफ्रीका के पांचवें गेंदबाज बन जाएंगे. उनके पहले दक्षिण अफ्रीका के लिये शॉन पोलाक, डेल स्टेन, मखाया एनटिनी और एलन डोनाल्ड यह कारनामा कर चुके हैं. मोर्कल ने साल 2006 में भारत के खिलाफ बॉक्सिंग डे टेस्ट से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर की शुरुआत की थी.

प्रधान मंत्री मोदी ने चेन्नई में अम्मा टू-व्हीलर योजना शुरू की


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता की 70वीं जयंती पर महिलाओं को तोहफा दिया. पीएम मोदी ने चेन्नई में एक कार्यक्रम के दौरान कामकाजी महिलाओं को टू-व्हीलर खरीदने के लिए 50 फीसदी सब्सिडी का ऐलान किया. एआईएडीएमके सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना का शुभारंभ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया. तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता 'अम्मा दोपहिया योजना' शुरू करना चाह रही थी लेकिन निधन के बाद यह रुक गया था. इस दौरान पीएम मोदी ने कहा' मुझे खुशी है कि अम्मा टू व्हिलर स्कीम को लॉन्च करने का मौका मिला. ये पहल महिलाओं के सशक्तीकरण की दिशा में बेहतर कदम साबित होगा.'

महिलाओं के सशक्तिकरण को लेकर पीएम ने कहा, 'हमने फैक्ट्री एक्ट में बदलाव किया. महिलाओं को रात में काम करने का परमिशन देने के लिए राज्य सरकार को सलाह दी. मैटरनिटी लीव को 12 से बढ़ाकर 26 हफ्ते किया.' 'अम्मा दोपहिया योजना' योजना के तहत राज्य सरकार ने महिलाओं के लिए टू व्हीलर खरीदने पर 25,000 सब्सिडी का प्रावधान किया है.

भारत ने स्वदेश निर्मित ड्रोन रुस्तम-2 का सफल परीक्षण किया

भारतीय रक्षा अनुसंधान संगठन (डीआरडीओ) ने 25 फरवरी 2018 को कर्नाटक के चित्रदुर्ग जिले में स्थित अपने परीक्षण केंद्र से स्वदेश निर्मित ड्रोन रुस्तम-2 का सफल परीक्षण किया. इस ड्रोन को भारत में ही बनाया गया है. डीआरडीओ की ओर से जारी जानकारी में कहा गया है कि मध्यम ऊंचाई तक और लंबी अवधि तक उड़ने वाले इस ड्रोन का विकास सेना की तीनों शाखाओं के लिए किया गया है. रुस्तम-2 एक बार में लगातार 24 घंटे तक उड़ने की क्षमता रखता है और यह लगातार चौकसी कर सकता है और साथ में हथियार भी ले जा सकता है. मध्यम ऊंचाई तक और लंबी अवधि तक उड़ने वाले इस ड्रोन का विकास सेना की तीनों शाखाओं के लिए किया गया है।

रुस्तम-2 विमान का दूसरा नाम TAPAS-BH-201 है और यह भारत में बनाया गया है. रुस्तम-2 अलग-अलग तरह के पेलोड साथ ले जाने में सक्षम है. यह विमान 22 हजार फीट तक उड़ सकता है और 24 घंटे तक लगातार काम भी कर सकता है. रुस्तम-1 की लॉन्चिंग के 7 साल बाद इसे बनाया गया है, जो अमेरिकी ड्रोन ‘प्रिडेटर’ को टक्कर देगा. डीआरडीओ ने इसे सैन्य मकसद के लिए तैयार किया है. इसका इस्तेमाल दुश्मन की टोह लेने, निगरानी रखने, टारगेट पर सटीक निशाना लगाने और सिग्नल इंटेलिजेंस में भी किया जाएगा. यह 280 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से उड़ सकता है और सभी रेंज में काम कर सकता है. यह मानवरहित विमान है, जिसे जमीन से ही कंट्रोल किया जा सकता है. फिलहाल सेना के पास 200 ड्रोन हैं. इनमें से अधिकांश लंबी दूरी और टारगेट पर नजर रखने वाले इजरायल से खरीदे गए हैं.

हैदराबाद में ई-शासन पर राष्ट्रीय सम्मेलन

ई-गवर्नेंस पर 21वां राष्ट्रीय सम्मेलन हैदराबाद में आयोजित किया गया. भारत सरकार और तेलंगाना प्रशासनिक सुधार विभाग संयुक्त रूप से विकास को गति देने के लिए प्रौद्योगिकी के लिए प्रमुख विषय के साथ सम्मेलन का आयोजन कर रहे हैं. इस वर्ष के सम्मेलन की थीम है, ‘त्वरित विकास के लिए प्रौद्योगिकी‘. पहले दिन उद्घाटन सत्र के बाद उपयोगकर्ता अनुभव का निर्माण, सार्वभौमीकरण एवं प्रतिकृति, ई-गवर्नेंस का प्रशासन विषयों के आधार पर 3 पूर्ण सत्रों का आयोजन किया जाएगा जबकि दूसरे दिन ई-गवर्नेंस अच्छे एवं बुरे प्रचलन, उभरती प्रौद्योगिकियों के आधार पर 2 पूर्ण सत्रों का आयोजन किया जाएगा. 

यह सम्मेलन एक ऐसे मंच का कार्य करता है जिसमें प्रशासनिक सुधारों के सचिव, राज्य सरकारों के सूचना प्रौद्योगिकी के सचिव, केंद्र सरकार के आईटी प्रबंधक, सॉफ्टवेयर सॉल्यूशन प्रदाता, उद्योग आदि भाग लेते हैं, आपस में बातचीत करते हैं, विचारों का आदान प्रदान करते हैं, संबंधित मुद्वों, समस्याओं पर चर्चा करते हैं और विभिन्न सॉल्यूशन संरचनाओं का विश्लेषण करते हैं. दो दिवसीय सम्मेलन ई-गवर्नेंस के कई पहलुओं पर विचार-विमर्श करेंगे, जिसमें सार्वभौमिकरण और प्रतिकृति, ई-शासन, सर्वश्रेष्ठ प्रथाओं, उभरती हुई प्रौद्योगिकियों और राष्ट्रीय और राज्य सरकारों की सहकर्मी भूमिका शामिल है.

नई दिल्ली में सतत जैव ईंधन पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन शुरू

जैव प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा आयोजित टिकाऊ जैव ईंधन पर दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन नई दिल्ली में शुरू हो गया है. केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने सम्मेलन का उद्घाटन किया. 18 देशों के प्रतिनिधियों के साथ 300 से अधिक प्रतिभागियों ने इसमें भाग लिया. इस समारोह का उद्देश्य सरकार के नीति निर्माताओं, उद्योग, निवेशकों और अनुसंधान समुदाय को अनुभव और चुनौतियों का आदान-प्रदान करने के लिए एक आम मंच प्रदान करना है जो उन्नत जैव ईंधन के विकास और स्केलिंग को संबंधित करता है. सम्मेलन में मिशन नवाचार सदस्य देशों के प्रतिनिधियों सहित लगभग 50 अंतर्राष्ट्रीय शिष्टमंडल, आईईए बायोफ्यूचर प्लेटफार्म सदस्य देश, आईआरईएनए भाग ले रहे हैं. सम्मेलन में टिकाऊ जैव ईंधन चुनौती के सामूहिक नेतृत्व कर्ता – चीन, ब्राजील, कनाडा और भारत की सम्मेलन में भरपूर भागीदारी है.     

टिकाऊ जैव ईंधन पर दो दिवसीय सम्मेलन का आयोजन भारत सरकार के जैव प्रौद्योगिकी विभाग तथा बायोफ्यूचर प्लेटफार्म द्वारा संयुक्त रूपसे किया जा रहा है. इस सम्मेलन में 19 देशों के टिकाऊ जैव ईंधन के विशेषज्ञ और प्रतिनिधि वर्तमान ज्ञान की समीक्षा करेंगे तथा सूचना और श्रेष्ठ व्यवहारों को साझा करेंगे और भविष्य के लिए आवश्यक कदम उठाने पर सहमति बनाएंगे.

अरुणा बुद्दा रेड्डी जिमनास्टिक विश्व कप में व्यक्तिगत मेडल जीतने वाले पहली भारतीय बनी


अरुणा बुद्दा रेड्डी ने मेलबर्न, ऑस्ट्रेलिया में जिमनास्टिक्स विश्व कप में व्यक्तिगत पदक जीतने वाली पहली भारतीय बनकर इतिहास बनाया है. उन्होंने वूमेन वॉल्ट में कांस्य पदक जीता है. मेलबर्न में चल रहे जिमनास्टिक वर्ल्ड कप में भारत की इस होनहार खिलाड़ी ने वूमेन वॉल्ट में 13.649 का स्कोर करते हुए ब्रॉन्ज मेडल पर कब्जा किया है. वहीं एक और भारतीय खिलाड़ी प्रणति नायक ने 13.416 अंकों के साथ विश्व कप में छठा स्थान हासिल किया. गौरतलब है कि अरुणा ने 2005 में अपना पहला नेशनल पदक जीता था जिसके बाद वो 2014 कॉमनवेल्थ गेम्स में वॉल्ट के क्वालिफिकेशन राउंड में 14वें स्थान पर रहीं थी.

अरुणा ने धीरे धीरे अपने प्रदर्शन में सुधार करते हुए एशियन गेम्स में नौवा और 2017 एशियन चैंपियनशिप में छठा स्थान हासिल किया. आपको बता दें कि स्लोवेनिया की तजासा किसलेफ ने 13.8 अंको के साथ गोल्ड मेडल और ऑस्ट्रेलिया की ऐमिली वाइटहेड ने 13.699 अंको के साथ सिल्वर मेडल जीता.

प्रधानमंत्री ने सूरत में 'रन फॉर न्यू इंडिया' मैराथन को हरी झंडी दिखाई


प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के सूरत, में 'रन फॉर न्यू इंडिया' मैराथन को ध्वजांकित किया. मैराथन का उद्देश्य सामाजिक कारकों के बारे में जागरुकता पैदा करना है और सभी को न्यू इंडिया बनाने के लिए आह्वान करना है. मैराथन को 4 श्रेणियों में विभाजित किया गया है. करीब 1.50 लाख धावकों ने 'रन फॉर न्यू इंडिया' मैराथन में हिस्सा लिया था जो सूरत नागरिक समिति द्वारा आयोजित किया गया था. इस अवसर पर मोदी ने कहा बहुत लोग सोचते हैं कि सूरत यानी उंधिया पार्टी, लोचो है, लेकिन यहां के लोग जो ठान लें वो करते हैं. इसलिए आपसे मांगने को मन करता है. 31 अक्टूबर को सरदार वल्लभ पटेल की जयंती पर रन फॉर यूनिटी और 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर सूरत तय करे तो देश-दुनिया के रिकॉर्ड टूटें. पीएम मोदी ने कहा कि 1942 में भारत छोड़ो संकल्प के साथ गांधीजी के नेतृत्व में देश आगे बढ़ा और 5 साल में अंग्रेजों को यहां से जाना पड़ा. अब 5 साल बाद 2022 में आजादी के 75 साल पर देश के सवा सौ करोड़ लोग देश को बुलंदी पर पहुंचाने का संकल्प ले आजादी के दीवानों का सपना पूरा कर सकते हैं. मोदी ने कहा कि नया भारत ऐसा हो जो जातिवाद, साम्प्रदायिकवाद और भ्रष्टाचार से मुक्त हो. बहन-बेटियों का सम्मान हो, गरीबी और गंदगी से मुक्ति हो, जहां हर किसी को अपने सपनों के अनुकूल काम करने की शक्ति मिले.

रन फॉर न्यू इंडिया मैराथन की शुरुआत लालभाई कांट्रेक्टर स्टेडियम से रविवार शाम 7.30 बजे हुई. 22000 लाइट्स से जगमगाते मैराथन रूट पर डेढ़ लाख लोगों ने दौड़ लगाई। 42 किमी की फुल मैराथन देर रात 2 बजे तक चलती रही. रन फॉर न्यू इंडिया नाइट मैराथन में 1.5 लाख लोगों ने दौड़ लगाई. 42 किमी की फुल, 21 किमी की हॉफ के अलावा 10 और 5 किमी की दौड़ रखी गई थी. दौड़ को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लालभाई कांट्रेक्टर स्टेडियम से हरी झंडी दिखाई. मैराथन में देश-विदेश के धावकों के साथ व्यापारी, डॉक्टर, वकील, सीए, सीनियर सिटीजन, दिव्यांग और कई क्षेत्रों के लोगों ने भाग लिया. मैराथन रूट में पड़ने वाले सभी ट्रैफिक सर्किल को दुल्हन की तरह सजाया गया था. रूट पर पीने का पानी और कोल्ड ड्रिंक्स आदि की व्यवस्था की गई थी. इमरजेंसी के लिए मेडिकल स्टाफ तैनात था. नाइट मैराथन का आयोजन सूरत नागरिक समिति ने किया था.

अंडमान निकोबार में सबसे बड़े समुद्री नौसैनिक अभ्यास मिलन-2018 का आयोजन

भारतीय नौसेना मार्च 2018 के दूसरे हफ्ते में अंडमान निकोबार में अब तक के सबसे बड़े समुद्री नौसैनिक अभ्यास मिलन-2018 का आयोजन करने जा रही है. यह युद्धाभ्यास नौसेना के अंडमान निकोबार कमांड के तत्वावधान में पोर्ट ब्लेयर में 06 मार्च से 13 मार्च तक आयोजित किया जायेगा. युद्धाभ्यास में हिस्सा लेने के लिए पहली बार एक साथ दुनिया के 22 देशों की नौसेना भारत में जुटेगी. हिंद महासागर में अंडमान निकोबार द्वीप समूह के आसपास के हजारों वर्गमील समुद्री क्षेत्र में होने वाले इस युद्धाभ्यास के दौरान भारत सहित सभी 22 देशों की नौसेना अपने-अपने युद्धपोतों के साथ शक्ति का प्रदर्शन भी करेंगे. इस बार इस युद्धाभ्यास में गैरकानूनी समुद्री गतिविधियों से निपटने के लिए क्षेत्रीय सहयोग पर ज्यादा फोकस किया जायेगा.

इस अभ्यास का मुख्य उद्देश्य समुद्री क्षेत्र में किसी प्रकार की गैरकानूनी गतिविधियों पर रोक लगाना है. सात दिनों तक चलने वाले इस युद्धाभ्यास में युद्धपोतों पर सवार नौसैनिक युद्ध और प्राकृतिक आपदा से निपटने समेत आपसी तालमेल बढ़ाने जैसी तकनिक पर मिलकर काम करेंगे. बचाव कार्यों का अभ्यास, एंटी पायरेसी ऑपरेशंस, सर्च एंड रेस्क्यू ऑपरेशंस, विभिन्न देशों के चेतावनी संकेतों, लॉजिस्टिक मैनेजमेंट, प्राकृतिक आपदाओं के किट और उनकी डिलीवरी के तंत्र को भी परखा जाएगा. भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान को छोड़कर हिंद महासागर के तट से लगे लगभग सभी देश इसमें हिस्सा लेंगे.

पहली बार मिलन वर्ष 1995 में आयोजित किया गया था. मिलन अभ्यास का मकसद पूर्वी एशिया और दक्षिण पूर्व एशिया की नौसेनाओं के दोस्ताना संबंधों को बढ़ावा देना है. यह भारत-प्रशांत क्षेत्र में हमारे पड़ोसी देशों की सुरक्षा और स्थिरता के लिए हमारी प्रतिबद्धता को दिखाता है. समुद्री क्षेत्र में स्थिरता और समुद्री मार्गों से कारोबार को देखते हुए यह अभ्यास काफी अहम है.

भारत और नेपाल के संबंधों पर ईपीजी की सातवीं बैठक काठमांडू में सम्‍पन्‍न

भारत और नेपाल के संबंधों पर प्रबुद्ध लोगों के समूह-ईपीजी की सातवीं बैठक काठमांडू में सम्‍पन्‍न हो गयी। दो दिव‍सीय बैठक में 1950 की शांति और मैत्री संधि सहित व्‍यापार, पर्यावरण, सीमा और जल विद्युत जैसे कई द्विपक्षीय मुद्दों पर विचार-विमर्श किया गया. ईपीजी एक संयुक्त तंत्र है जिसमें भारत और नेपाल के विशेषज्ञ और बुद्धिजीवी शामिल हैं. नेपाल और भारत 1950 की शांति एवं मित्राता संधि दोनों देशों के बीच रणनीतिक संबंध स्थापित करने के लिए की गई एक द्विपक्षीय संधि है. यह दोनों देशों के बीच मौजूद सभी द्विपक्षीय संधियों और समझौतों को अद्यतन करने के लिए सुझाव देने के लिए फरवरी 2016 में स्थापित किया गया था.

बैठक के बाद ईपीजी के नेपाल संयोजक डॉक्‍टर भेख बहादुर थापा और भारत के संयोजक भगत सिंह कोशियारी ने कहा कि द्विपक्षीय संबंधों को नयी ऊंचाई तक ले जाने के तरीकों पर रिपोर्ट तैयार की जा रही है. समूह की अगली बैठक नई दिल्ली में आयोजित की जाएगी.

प्रधानमंत्री ने दमन में 1000 करोड़ रूपये की परियोजनाओं का उद्घाटन किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दमन एवं दीव के लिए 1,000 करोड़ रुपये की विकास योजनाओं की शुरुआत की. साथ ही प्रधानमंत्री ने अहमदाबाद को तटीय शहर दीव से जोड़ने के लिए उड़ान योजना का भी उद्घाटन किया. मोदी ने केंद्र की 'उड़े देश का आम नागरिक' (उड़ान) योजना के तहत एयर ओडिशा की अहमदाबाद-दीव उड़ान का उद्घाटन करते हुए कहा कि इस हवाई संपर्क से क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा. इसी कार्यक्रम में मोदी ने दमन और दीव के बीच हेलीकॉप्टर सेवा की भी शुरुआत की. मोदी ने कहा कि हवाई संपर्क से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा. जो पर्यटक सोमनाथ मंदिर, गिर वन (गुजरात) जाना चाहते हैं, वे दीव से वहां जा सकेंगे. अहमदाबाद से दीव तक सड़क मार्ग से 12 घंटे लगते हैं. विमान से यह दूरी सिर्फ एक घंटे में तय की जा सकेगी.

मोदी ने कई अन्य परियोजनाओं की भी आधारशिला रखी. इनमें जलशोधन संयंत्र, गैस पाइपलाइन, बिजली सबस्टेशन, नगरपालिका बाजार और पैदल पार पथ शामिल हैं. कारपोरेट सामाजिक दायित्व 'सीएसआर' के तहत बनाए गए बाल रक्षा केंद्र (आंगनवाड़ी) और स्कूलों का भी उन्होंने उद्घाटन किया. इससे पहले मोदी सूरत हवाई अड्डे पहुंचे जहां उनका शानदार स्वागत किया गया. मोदी के स्वागत में दमन में सड़क पर बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे. प्रधानमंत्री ने तमिलनाडु में कामकाजी महिलाओं के लिए रियायती स्कूटर योजना लांच की. यह योजना राज्य की दिवंगत पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की 70वीं वर्षगांठ के मौके पर लांच की गई है. इस मौके पर तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलानिस्वामी और उपमुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम भी मौजूद थे.

पूर्व कैबिनेट सचिव टीएसआर सुब्रमण्यम का निधन

भारत सरकार के पूर्व कैबिनेट सचिव टीएसआर सुब्रमण्यम का निधन हो गया. वह 79 साल के थे. भारतीय प्रशासनिक एसोसिएशन ने टीएसआर सुब्रमण्यम के निधन की जानकारी दी. टीएसआर सुब्रमण्यम उन नौकरशाहों और राजनायिकों के हिस्सा रहे, जिनकी याचिका पर साल 2013 में सुप्रीम कोर्ट ने नागरिक सेवाओं के सुधारों को शुरू किया था. कोर्ट ने सुब्रमण्यम और अन्य नौकरशाहों की याचिका पर सुनवाई करते हुए, नौकरशाहों को राजनीतिक हस्तक्षेप से बचाने के उद्देश्य से आदेश पारित किया था. 

सुब्रमण्यम उत्तर प्रदेश कैडर के 1961 बैच के अधिकारी थे. वह 1 अगस्त 1996 से लेकर 1 मार्ट 1998 तक कैबिनेट सचिव के पद पर रहे. कपड़ा मंत्रालय में सचिव रहने के अलावा वे शिक्षा और पर्यावरण से जुड़ी कई समितियों के अध्यक्ष भी रहे. टीएसआर सुब्रमण्यम कई किताबों के लेखक भी थे.

26 February 2018

उप्र अधीनस्थ सेवा चयन आयोग करेगा 4000 लेखपालों की भर्ती

योगी सरकार पूर्ववर्ती समाजवादी सरकार का एक और महत्वपूर्ण फैसले को पलटते हुए लेखपाल भर्ती प्रक्रिया राजस्व परिषद से लेकर उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग को देने जा रही है. इसके बाद लेखपाल के 4000 पदों की भर्ती प्रक्रिया अधीनस्थ सेवा चयन आयोग करेगा. इसके लिए जल्द ही कैबिनेट मंजूरी के लिए प्रस्ताव भेजने की तैयारी है. राजस्व विभाग में लेखपाल के करीब 4000 पद सालों से खाली हैं. राज्य सरकार ने समूह 'ग' तक के पदों पर भर्ती का अधिकार उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग को दे रखा है. समाजवादी सरकार में इसके बाद भी लेखपालों की भर्ती का अधिकार राजस्व परिषद के पास ही रखा गया. राजस्व परिषद द्वारा पूर्व में किए गए लेखपालों की भर्ती में धांधली के आरोप लग चुके हैं. इसीलिए भाजपा सरकार लेखपाल भर्ती प्रक्रिया राजस्व परिषद से लेकर उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग को देने जा रही है.

लेखपाल भर्ती प्रक्रिया राजस्व परिषद से लेकर अधीनस्थ सेवा चयन आयोग को देने संबंधी प्रस्ताव जल्द ही कैबिनेट मंजूरी के लिए भेजने की तैयारी है. कैबिनेट मंजूरी के बाद राजस्व परिषद लेखपाल के रिक्त पदों पर भर्ती का प्रस्ताव उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग को भेजेगा. आयोग प्रस्ताव मिलने के बाद भर्ती प्रक्रिया शुरू करेगा. अधीनस्थ सेवा चयन आयोग भर्ती संबंधी पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन करने की तैयारी में है. इसके लिए एनआईसी से साफ्टवेयर तैयार कराया जा रहा है. इसके माध्यम से सभी भर्तियों के लिए ऑनलाइन आवेदन लिया जाएगा, जिससे भर्ती प्रक्रिया समय से पूरी हो सके. अधीनस्थ सेवा चयन आयोग का मानना है कि ऑनलाइन आवेदन लेने से धांधली की संभावना कम रहेगा और चयन प्रक्रिया समय से पूरी होगी.

यूपीपीसीएल भर्ती 2842 लेखा अधिकारी, सहायक लेखाकार एवं तकनीशियन

                          रिक्ति विवरण
पोस्ट नाम - तकनीशियन ग्रेड द्वितीय और लेखा अधिकारी और सहायक लेखाकार
पदों की संख्या - क्रमशः 2779/42/21
शैक्षिक योग्यता -
तकनीशियन ग्रेड द्वितीय के लिए - 10 वीं के साथ आईटीआई.
खाता अधिकारी के लिए - सीए / आईसीडब्ल्यूए
सहायक लेखाकार के लिए - किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय / संस्थान से वाणिज्य में स्नातक
आयु सीमा - न्यूनतम 21 वर्ष और अधिकतम 40 साल
चयन प्रक्रिया - चयन लिखित टेस्ट कंप्यूटर आधारित परीक्षा (सीबीटी) पर किया जाएगा
आवेदन शुल्क
सामान्य और अन्य पिछड़ा वर्ग के उम्मीदवारों को - रु 900 / -
अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवारों - रु 600 / -
शारीरिक रूप से विकलांग उम्मीदवारों - रु 10 / - (लेखा अधिकारी)
सामान्य और अन्य पिछड़ा वर्ग के उम्मीदवारों को - रु 1000 / -
अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवारों - रु 700 / - 

ऑनलाइन आवेदन प्रारंभ होने की तिथि - 2018/02/21
ऑनलाइन आवेदन पत्र की अंतिम तिथि - 2018/03/13
डाउनलोड अधिसूचना लेखा अधिकारी
डाउनलोड अधिसूचना सहायक लेखाकार
डाउनलोड अधिसूचना तकनीशियन ग्रेड द्वितीय
ऑनलाइन आवेदन करे (तकनीशियन ग्रेड द्वितीय)
ऑनलाइन आवेदन करे (लेखा अधिकारी) 

ऑनलाइन आवेदन करे (सहायक लेखाकार)

आंध्र प्रदेश पोस्टल सर्किल में डाकिया एंड मेल गार्ड के 245 पदों की भर्ती

                     रिक्ति विवरण
पोस्ट नाम - डाकिया
रिक्त की संख्या - 234 पोस्ट
पे स्केल - Rs.21700 / - 7 वीं सीपीसी के अनुसार वेतन मैट्रिक्स की -3 स्तर
पोस्ट नाम - मेल गार्ड
रिक्त की संख्या - 11 पोस्ट
पे स्केल - Rs.21700 / - 7 वीं सीपीसी के अनुसार वेतन मैट्रिक्स की -3 स्तर
शैक्षिक योग्यता - उम्मीदवार मान्यता प्राप्त बोर्ड से मैट्रिक परीक्षा पास करना चाहिए
आयु सीमा - न्यूनतम और अधिकतम आयु सीमा 2018/03/15 पर के रूप में 18 से 27 वर्ष है.
चयन प्रक्रिया - चयन एप्टीट्यूड टेस्ट और मेरिट सूची के आधार पर की जाएगी.
ओसी / अन्य पिछड़ा वर्ग - रु। 500 / -
ओसी / अन्य पिछड़ा वर्ग पूर्व सेवा पुरुषों - रु। 500 / -
अनुसूचित जाति / जनजाति पूर्व सेवा पुरुषों - रु। 100 / -
सभी महिला - रु। 100 / -
ऑनलाइन आवेदन पत्र शुरू की तिथि - 2018/02/14
ऑनलाइन आवेदन पत्र की अंतिम तिथि - 2017/03/15
अधिक जानकारी के लिए अधिकारिक विज्ञापन देखे.
आवेदन करने लिए लिए अधिकारिक वेबसाईट देखे.

बिहार पुलिस में कांस्टेबल ड्राइवर और फायरमैन ड्राइवर के 1669 पदों की भर्ती

                        रिक्ति विवरण
पोस्ट का नाम: कांस्टेबल ड्राइवर
रिक्तियां की संख्या: 700 पदों
वेतन स्केल: रु। 5200-20200 / -
ग्रेड पे: रु। 2000 / -
पोस्ट का नाम: फायरमैन ड्राइवर
रिक्तियां की संख्या: 969 पदों
वेतन स्केल: रु। 2000 / -
शैक्षिक योग्यता - किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड या विश्वविद्यालय से 10 + 2 या समकक्ष
आयु सीमा - न्यूनतम और अधिकतम उम्र सीमा 18 से 25 वर्ष 01-01-2018 तक 
चयन प्रक्रिया - चयन लिखित टेस्ट और ड्राइविंग टेस्ट के आधार पर की जाएगी
आवेदन शुल्क
जनरल / ओबीसी / अन्य पिछड़ा वर्ग-एनसीएल - रु 450 / -
अनुसूचित जाति / जनजाति - रु 112 / -
 आवेदन प्रारंभ होने की तिथि : 21-02-2018
आवेदन करने की अंतिम तिथि : 23-03-2018

भारत के स्टार शटलर पारुपल्ली कश्यप ने ऑस्ट्रियन ओपन इंटरनेशनल चैलेंज का खिताब जीता

भारत के स्टार शटलर पारुपल्ली कश्यप ने शनिवार को ऑस्ट्रियन ओपन इंटरनेशनल चैलेंज का खिताब जीता. कॉमनवेल्थ गेम्स चैंपियन कश्यप ने मेंस सिंगल्स के फाइनल में मलेशिया के जून वी चीम को मात देकर तीन साल में पहली बार इंटरनेशनल खिताब जीता. दूसरी वरीय कश्यप ने चीम को 37 मिनट तक चले मुकाबले में 23-21, 21-14 से मात देकर खिताब जीता. फाइनल जीतने के बाद कश्यप ने एक फोटो के साथ कैप्शन लिखा, 'विएना में खिताब जीतकर खुशी हुई. इस साल मेरा पहला खिताब है. धन्यवाद इंडियन आयल, ओजिक्यू इंडिया और गोपीचंद एकेडमी. मेरे सभी फैंस का शुक्रिया अदा, जिन्होंने लगातार मेरा समर्थन किया.'

भारतीय शटलर ने टूर्नामेंट की शुरुआत से ही बेहतरीन प्रदर्शन किया. उन्होंने टूर्नामेंट में एक भी मैच नहीं गंवाया. हालांकि, फाइनल के पहले गेम में कश्यप को चीम से कड़ी स्पर्धा मिली, लेकिन भारतीय शटलर ने तीन पॉइंट सुरक्षित करते हुए पहला गेम जीत लिया. कश्यप ने फिर दूसरे गेम में शानदार प्रदर्शन किया और चीम को कोई मौका नहीं दिया. इस तरह कश्यप ने फाइनल सिर्फ 37 मिनट में अपने नाम किया.

बॉलीवुड अभिनेत्री श्रीदेवी का निधन

अपने शानदार अभिनय से सिनेमाप्रेमियों के दिलों पर राज करनेवाली बॉलिवुड अभिनेत्री श्रीदेवी हमारे बीच नहीं रहीं. श्रीदेवी दुबई में थीं जहां हृदय-गति रुक जाने (कार्डिएक अरेस्ट) की वजह से उनका अचानक निधन हो गया. श्रीदेवी 54 साल की थीं. उन्हें हिंदी फिल्मों की पहली फीमेल सुपरस्टार भी कहा जाता है. साल 2013 में उन्हें पद्मश्री सम्मान से नवाजा गया था. वह बोनी कपूर के भांजे मोहित मारवाह की शादी में शामिल होने के लिए परिवार समेत दुबई में थीं. देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने श्रीदेवी के निधन पर दुख जताया है. पीएम मोदी ने श्रीदेवी के निधन पर दुख जताते हुए कहा, 'सुप्रसिद्ध अभिनेत्री श्रीदेवी की असामयिक मृत्यु से दुखी हूं. वह फिल्म इंडस्ट्री की एक बड़ी कलाकार थीं, जिनके लंबे करियर में विविध और यादगार भूमिकाएं शामिल हैं. दुख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिवार और प्रशंसकों के साथ हैं.'  

ऐसा रहा बॉलिवुड की 'चांदनी' का सफर
बॉलिवुड की 'चांदनी' के नाम से मशहूर श्रीदेवी ने अपने करियर की शुरुआत 1978 में आई फिल्म 'सोलवां सावन' से की थी, लेकिन बॉलिवुड में उनको पहली सफलता पांच साल बाद फिल्म 'हिम्मतवाला' से मिली. इस फिल्म में जितेंद्र ने लीड एक्टर के तौर पर काम किया था. उन्होंने बतौर बाल कलाकर तमिल फिल्म 'कंदन करुनई' में भी अभिनय किया था. उस समय उनकी उम्र महज 4 वर्ष थी. इसके बाद फिल्म 'मवाली (1983)', 'तोहफा (1984)', 'मिस्टर इंडिया (1987)' और 'चांदनी (1989)' जैसी जबरदस्त फिल्मों से श्रीदेवी देशभर के लोगों दिलों पर राज करने लगीं. श्रीदेवी ने 'सदमा (1983)', 'चालबाज (1989)', 'लम्हे (1991)', और 'गुमराह (1993)' जैसी फिल्मों से उन्होंने दुनिया को अपनी ऐक्टिंग का लोहा मनवाने पर मजबूर कर दिया.

इसके बाद 2012 में आई 'इंग्लिश विंग्लिश' को उनकी कमबैक फिल्म माना जाता है. पिछले साल आई फिल्म 'मॉम' में उनके काम की काफी तारीफ हुई थी. इस फिल्म में नवाजुद्दीन सिद्दीकी और अक्षय खन्ना भी थे. शाहरुख खान की आने वाली फिल्म 'जीरो' में भी उन्होंने मेहमान कलाकार के तौर पर काम किया है. जिस समय वह बॉलिवुड में अपने कदम जमा रहीं थीं, उस दौरान उनके काम की धमक दक्षिण भारतीय फिल्मों में भी होने लगी थी. श्रीदेवी ने हिंदी और तमिल फिल्मों के अलावा मलयालम, तेलुगु और कन्नड़ फिल्मों में भी काम किया है.

25 February 2018

हरियाणा में परिवर्तन योजना शुरू की गई

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने 21 फरवरी, 2018 को राज्य के 46 विकासशील ब्लॉकों में 10 मुद्दों को संबोधित करने के लिए एक योजना ‘परिवर्तन’ की शुरूआत की. ’परिवर्तन’ योजना के अंतर्गत 10 मुद्दे में वित्तपोषण की सुविधा, स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार, कृषि को लाभदायक और टिकाऊ बनाना, स्वच्छ भारत का कार्यान्वयन, युवाओं को शामिल करना, बाजार क्षेत्रों को कम करना, वायु प्रदूषण की जांच करना, प्रभावी पुलिस व्यवस्था की जांच करना, पहचान-संबंधित की उपलब्धता सेवा सुनिश्चित करना और सड़क व्यवस्था एंव आचरण सुनिश्चित करना शामिल है. राज्य के 46 शीर्ष अधिकारी, जिनमें आईएएस, आईएफएस और आईपीएस कैडर शामिल हैं, को एक ब्लॉक आवंटित किया गया है, जिसमें वे ऊपर दिए गए 10 मुद्दों से संबंधित कार्य करेंगे.

योजना का शुभारंभ करने के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि योजना के तहत 46 शीर्ष आईएएस, आईपीएस और आईएफएस अधिकारियों को एक-एक खंड आवंटित किया गया है, जिसमें वे 10 चयनित समान क्षेत्रों और अपनी पसंद के एक क्षेत्र में कार्य करेंगे. इन दस क्षेत्रों में वित्तपोषण की सुविधा, कृषि को लाभप्रद और स्थिर बनाना, स्वास्थ्य सेवाओं का बेहतर वितरण, स्वच्छ भारत, भीड़ मुक्त बाज़ार, युवा संलग्नता, वायु प्रदूषण में कमी, पहचान संबंधित सेवाओं की उपलब्धता, प्रभावी पुलिसिंग और सडक़ व्यवस्था एवं सडक़ आचरण शामिल हैं. उन्होंने कहा कि दस क्षेत्रों में से हर एक के लिए तीन से सात मानदंड हैं, जिसके आधार पर अधिकारियों के प्रदर्शन का वस्तुनिष्ठ आधार पर आकलन किया जाएगा. 

इनमें 10 किलोमीटर क्षेत्र को दुर्घटना मुक्त बनाना, एक कस्बा या महाग्राम को आवारा पशुओं से मुक्त करना, सभी स्कूली विद्यार्थियों को जाति प्रमाण-पत्र जारी करना सुनिश्चित करना और जघन्य अपराध में सभी एफआईआर में चार्जशीट दायर करना सुनिश्चित करने जैसे कार्य शामिल हैं. इन दस क्षेत्रों में आने वाले 38 मानदंडों के लिए अधिकतम 39 अंक होंगे और अधिकारियों द्वारा स्वयं स्कोरिंग की जाएगी. अधिकतम चार अंक 'अधिकारी के पसंद का कोई भी क्षेत्र' के लिए रखे गए हैं जो तीसरे पक्ष द्वारा ऑडिट किया जाएगा. हरियाणाा शासन सुधार प्राधिकरण (एचजीआरए) द्वारा सामाजिक लेखा परीक्षण के आधार पर सात अंक दिए जाएंगे.

मनोहर पर्रीकर ने 17,123 करोड़ का गोवा बजट पेश किया

गोवा के मुख्‍यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने 22 फरवरी को विधानसभा में बजट पेश किया. वह मुंबई के लीलावती अस्‍पताल से डिस्‍चार्ज किये जाने के कुछ ही घंटों बाद विधानसभा पहुंचे. पर्रिकर ने अपने बजट भाषण की शुरुआत शुभचिंतकों को धन्‍यवाद व्‍यक्‍त करने से की. उन्‍होंने कहा, ”मेरे स्‍वास्‍थ्‍य ने मुझे विस्‍तृत बजट पेश करने से रोक दिया. आज पेश किया जा रहा बजट सिर्फ अंतरिम व्‍यवस्‍था है. नई योजनाएं 1 अप्रैल से लागू होंगी.’ पर्रिकर ने सदन में सरप्‍लस बजट पेश किया. बजट कुल 17,123.28 करोड़ रुपये का है, जो कि पिछले साल के बजट से 6.84 फीसदी ज्‍यादा है. राजस्‍व सरप्‍लस 144.61 करोड़ रुपये है. केंद्रीय टैक्‍स में राज्‍य के अंश में 17 फीसदी की बढ़ोत्‍तरी देखने को मिली है. औद्योगिक श्रम और रोजगार क्षेत्र के लिए बजट में 548.89 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है.

कमजोर दिख रहे मुख्यमंत्री ने अपने भावुक संबोधन में कहा कि वे अब पूरी तरह ठीक हैं, बस उन्हें किसी से नजदीकी संपर्क से बचने के लिए कहा गया है. अपने बेटे उत्पल के साथ आए पर्रिकर को वरिष्ठ अधिकारियों और सत्तापक्ष के विधायकों, मंत्रियों ने शुभकामनाएं दीं. बजट पेश करने से पहले अपने संक्षिप्त भाषण में पर्रिकर ने कहा, विभिन्न मंदिरों, मस्जिदों, गिरिजाघरों या अन्य तरीकों से संदेशों, पत्रों और प्रार्थनाओं में मेरे अच्छे स्वास्थ्य की कामना करने वाले सभी लोगों को मैं धन्यवाद देता हूं. उन्होंने कहा, मैं आपके प्यार से गदगद हूं।.इससे मेरी उस धारणा को और मजबूती मिली है कि गोवा और गोवा के लोग मेरा परिवार हैं. आपकी प्रार्थनाओं और पूजा ने मुझे जल्द स्वस्थ होने तथा गोवा लौटने में मदद की. उन्होंने बताया कि डॉक्टरों ने उन्हें लोगों से कम मिलने को कहा है. लेकिन, उन्होंने कहा कि वे राज्य के मुख्यमंत्री के तौर पर अपनी जिम्मेदारियों का निर्वाहन करते रहेंगे.

पर्रिकर ने बजट कोष में श्रम, रोजगार और सूचना प्रोद्यौगिकी पर जोर देते हुए 144.65 करोड़ रुपये के राजस्व आधिक्य का बजट पेश किया. पर्रिकर ने अपने स्वास्थ्य का हवाला देते हुए कहा कि वे पारंपरिक बजट भाषण पढ़ने में असमर्थ हैं. वित्त वर्ष 2018-19 के लिए 17,123 करोड़ रुपये का बजट पेश करते हुए उन्होंने कहा, "यह वर्ष रोजगार वर्ष होगा. मेरी सरकार उद्योग, श्रम, रोजगार और सूचना प्रोद्यौगिकी को 548.89 करोड़ रुपये का अनुदान देकर स्थानीय रोजगारों का सृजन करेगी."

पेटीएम ने लॉन्च की दो नई बीमा कंपनियां, लाइफ और जनरल इंश्योरेंस के क्षेत्र में रखेेगा कदम

वन 97 कम्यूनिकेशन लिमिटेड के स्वामित्व वाली डिजिटल पेमेंट फर्म 'पेटीएम' ने रजिस्ट्रार ऑफ कम्पनियों (आरओसी) के साथ दो नई बीमा कंपनियों को रजिस्टर किया है. पेटीएम ने 21 फरवरी को दो नई बीमा कंपनियों पेटीएम लाइफ इंश्योरेंस लिमिटेड और पेटीएम जनरल इंश्योरेंस कॉरपोरेशन लि. का पंजीकरण कराया है. कंपनी के अनुसार इन नई इकाइयों के जरिए बीमा उत्पादों जैसे स्वास्थ्य बीमा, मोटर बीमा और अन्य बीमा उत्पादों की पेशकश करेगी.

आरओसी दस्तावेजों के मुताबिक पेटीएम के वरिष्ठ उपाध्यक्ष शंकर नाथ, मुख्य वित्तीय अधिकारी मधुर देवरा और वन 97 कंपनी के संस्थापक विजय शेखर शर्मा इन इकाइयों के मुख्य निदेशक होंगे. गौरतलब है कि विनियामक मानदंडों के अनुसार, गैर-जीवन बीमा और सामान्य बीमा उत्पादों को अलग-अलग रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता होती है.
मोबाइल वॉलेट पेटीएम एक और कारोबार शुरू करने जा रही है. पेटीएम ब्रान्ड का मालिकाना हक रखने वाली कंपनी वन97 कॉम्युनिकेंशंस जल्द बीमा क्षेत्र में कदम रखने वाली है.
इसके लिए कंपनी ने बीमा नियामक इरडा से अनुमति और लाइसेंस ले लिया है. इसके अलावा पेटीएम जल्द ही अपनी क्रेडिट स्कोर सेवा भी लॉन्च करने वाली है.

कंपनी मामलों के मंत्रालय के अनुसार, 21 फरवरी को, पेटीएम लाइफ इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन और पेटीएम जनरल इंश्योरेंट कॉर्पोरेशन नाम से दो कंपनियां बनाई गई ..
मोबाइल वॉलेट पेटीएम एक और कारोबार शुरू करने जा रही है. पेटीएम ब्रान्ड का मालिकाना हक रखने वाली कंपनी वन97 कॉम्युनिकेंशंस जल्द बीमा क्षेत्र में कदम रखने वाली है.
इसके लिए कंपनी ने बीमा नियामक इरडा से अनुमति और लाइसेंस ले लिया है. इसके अलावा पेटीएम जल्द ही अपनी क्रेडिट स्कोर सेवा भी लॉन्च करने वाली है.

कंपनी मामलों के मंत्रालय के अनुसार, 21 फरवरी को, पेटीएम लाइफ इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन और पेटीएम जनरल इंश्योरेंट कॉर्पोरेशन नाम से दो कंपनियां बनाई गई ..

केंद्र सरकार और एशियाई विकास बैंक ने बिहार में पानी की आपूर्ति में सुधार हेतु 84 मिलियन डॉलर के ऋण समझौते पर हस्ताक्षर किये

केंद्र सरकार और एशियाई विकास बैंक ने 23 फरवरी 2018 को बिहार के भागलपुर और गया शहरों में पानी की आपूर्ति में सुधार और विस्‍तार के लिए 84 मिलियन डॉलर के ऋण समझौते पर हस्‍ताक्षर किये. इस ऋण समझौते पर वित्‍त मंत्रालय में आर्थिक मामलों के विभाग में संयुक्‍त सचिव (बहुउद्देशीय संस्‍थानों) समीर कुमार खरे, एडीबी के इंडिया रेजीडेंट मिशन के कंट्री डायरेक्‍टर केनीची योकोयामा और बिहार सरकार की ओर से रेजीडेंट कमिश्‍नर विपिन कुमार ने समझौते पर हस्‍ताक्षर किये. यह ऋण दो भागों में बिहार शहरी विकास निवेश कार्यक्रम के लिए 200 मिलियन डॉलर की बहु-श्रृंखला वित्‍तीय सुविधा (एमएफएफ) का हिस्‍सा है. एडीबी ने 2012 में बिहार के चार शहरों-भागलपुर, गया, दरभंगा और मुजफ्फरपुर में निरंतर शहरी बुनियादी ढांचा और सेवाएं प्रदान करने के लिए इसकी मंजूरी दी थी.

इस परियोजना से भागलपुर और गया शहरों के लोगों को बेहतर गुणवत्‍ता वाली और निरंतर पानी की आपूर्ति हो सकेगी. इससे बेहतर जल प्रबंधन को बढ़ावा मिलेगा, जिसके परिणामस्‍वरूप दोनों शहरों में 135 लीटर प्रति व्‍यक्ति प्रति दिन शोधित जल की 24 घंटे बिना किसी बाधा के आपूर्ति हो सकेगी. इस परियोजना के अंतर्गत दोनों शहर राष्‍ट्रीय शहरी सेवा उद्देश्‍यों को हासिल करेंगे अथवा भारत में शहरी सेवा वितरण कार्य निष्‍पादन के अनेक राष्‍ट्रीय औसतों के अनुरूप होंगे. 
 
ऋण के रूप में मिलने वाली राशि से उप परियोजना कार्यों को सहायता मिलेगी और परियोजना वाले दोनों शहरों में 1.1 मिलियन लोगों को फायदा मिलेगा. वर्ष 2021 तक दोनों शहरों में अधिक मात्रा में शोधित जल मिलेगा. ऋण की अवधि 25 वर्ष की होगी, जिसमें पांच वर्ष की छूट अवधि शामिल होगी. लंदन इंटरबैंक ऑफर्ड रेट (एलआईबीओआर) पर आधारित एडीबी की ऋण देने की सुविधा के अनुसार वार्षिक ब्‍याज दर तय की जाएगी और प्रतिवर्ष 0.15 प्रतिशत प्रतिबद्धता शुल्‍क देना होगा.

भारत ने किया 'धनुष' बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण

भारत ने शुक्रवार को ओडिशा तट के पास एक नौसैनिक पोत से परमाणु क्षमता युक्त धनुष बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया. इस मिसाइल की मारक क्षमता 350 किलोमीटर है. सतह से सतह पर मार करने वाली इस मिसाइल का परीक्षण सुबह करीब 10:52 बजे बंगाल की खाड़ी में पारादीप के पास तैनात पोत से किया गया. धनुष मिसाइल 500 किलोग्राम पेलोड साथ लेकर जाने और जमीन एवं समुद्र में अपने लक्ष्यों को भेदने में सक्षम है. रक्षा बलों के सामरिक बल कमान (एसएफसी) ने इसके परीक्षण को अंजाम दिया.

एक अधिकारी ने बताया कि भारतीय नौसेना की एसएफसी की ओर से प्रशिक्षण अभ्यास के तहत मिसाइल प्रक्षेपण किया गया. मिसाइल परीक्षण को पूरी तरह सफल करार देते हुए अधिकारियों ने कहा कि परीक्षण के दौरान मिशन के सभी उद्देश्य पूरे हुए. उन्होंने कहा कि मिसाइल परीक्षण एवं इसकी उड़ान के प्रदर्शन की निगरानी ओड़िशा तट में रेडार सुविधाओं और डीआरडीओ की टेलीमेट्री (दूरमापी) से की गई.

एक चरण वाला और द्रव्य से प्रणोदित धनुष को रक्षा सेवाओं में पहले ही शामिल किया जा चुका है. यह एकीकृत निर्देशित मिसाइल विकास कार्यक्रम (आईजीएमडीपी) के तहत रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) की ओर से विकसित पांच मिसाइलों में से एक है. पिछला सफल परीक्षण नौ अप्रैल 2015 को हुआ था.

एनबीएफसी के लिए आरबीआई ने लोकपाल योजना शुरू की

आरबीआई ने गैर-बैंकिग वित्तीय कंपनियों (NBFC) के लिए शुक्रवार को लोकपाल योजना पेश की है. केंद्रीय बैंक ने कहा कि यह व्यवस्था NBFC की सेवाओं में कमी से जुड़ी शिकायतों के तेज और शुल्क मुक्त निवारण की सुविधा पूरी तरह उपलब्ध कराएगी. NBFC लोकपाल के कार्यालय दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई और मुंबई महानगरों में कार्य करेंगे. यह कार्यालय संबंधित परिक्षेत्रों के ग्राहकों की शिकायतों पर पूरी तरह विचार करेंगे. अब आप नॉन-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियों यानी एनबीएफसी के खिलाफ अपनी शिकायतें दर्ज करा सकेंगे. 

फिलहाल डिपॉजिट लेने वाले सभी एनबीएफसी इसके दायरे में आएंगे. इसके बाद 100 करोड़ रुपये और उससे ज्यादा के एसेट वाले एनबीएफसी भी लोकपाल के दायरे में आएंगे.

भारत मार्च 2018 में प्रथम अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन की मेजबानी करेगा

भारत 11 मार्च 2018 को पहले अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेगा. यह शिखर सम्मेलन दिल्ली में आयोजित किया जाएगा. फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रॉन और संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरस पहले अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे. अफ्रीकी देशों के प्रमुख, बांग्लादेश और श्रीलंका के राष्ट्रपतियों, दक्षिण अमरीकी सह अन्तःकरण और प्रशांत द्वीप समूह के नेताओं की शिखर सम्मेलन में भाग लेने की उम्मीद है. अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन सौर ऊर्जा पर आधारित 121 देशों का एक सहयोग संगठन है जिसका शुभारंभ भारत और फ्राँस द्वारा 30 नवंबर 2015 को पेरिस में किया गया. इस संगठन में ये सभी देश सौर ऊर्जा के क्षेत्र में मिलकर काम करेंगे. इस प्रयास को वैश्विक स्तर पर ऊर्जा परिदृश्य में एक बड़े बदलाव के रूप में देखा जा रहा है.

अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन का प्रमुख उद्देश्य:
• इस संगठन का उद्देश्य सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने के मार्ग में आने वाली बाधाओं को दूर करना है.
• आईएसए का उद्देश्य सूर्य की बहुतायत ऊर्जा को एकत्रित करने के साथ देशों को एक साथ लाना है.
• यह सौर ऊर्जा के विकास और उपयोग में तेज़ी लाने की एक नई शुरुआत है ताकि वर्तमान और भावी पीढ़ी को ऊर्जा सुरक्षा प्राप्त हो सके.
पृष्ठभूमि:
यह भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई पहल का परिणाम है जिसकी घोषणा उन्होंने सर्वप्रथम लंदन के वेंबली स्टेडियम में अपने उद्बोधन के दौरान की थी. यह संगठन कर्क और मकर रेखा के बीच स्थित राष्ट्रों को एक मंच पर लाएगा. ऐसे राष्ट्रों में धूप की उपलब्धता बहुलता में है. भारत अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन के सदस्य देशों को सौर ऊर्जा से घरेलू प्रकाश, किसानों हेतु सौर पंप और अन्य सौर उपकरणों संबंधी परियोजनाओं के लिए समर्थन भी देगा.

मध्य प्रदेश में 44वां खजुराहो नृत्य महोत्सव आयोजित

खजुराहो नृत्य महोत्सव 2018 का 44 वां संस्करण मध्यप्रदेश में यूनेस्को की विश्व विरासत स्थल, खजुराहो मंदिर में आयोजित किया गया. इसका उद्घाटन मध्य प्रदेश के राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और यह राज्य सरकार के संस्कृति विभाग द्वारा आयोजित किया गया. महोत्सव का समापन 26 फरवरी को होगा. उन्होंने इस विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी में हो रहे सालाना नृत्य महोत्सव का उद्घाटन करते हुए कहा कि खजुराहो में आने वाले पर्यटकों को भारतीय पुरातन संस्कृति की जीवन्त झलक दिखाई देती है. इस अवसर पर राज्यपाल श्रीमती पटेल ने शास्त्रीय नृत्य विधा में चयनित कलाकारों को (वर्ष 2013 से 2016 तक के) राष्ट्रीय कालीदास सम्मान एवं अन्य पुरस्कार भी वितरित किये.

वर्ष 2013 के लिए नई दिल्ली के राजा-राधा रेडडी, वर्ष 2014 के लिए चेन्नई की लक्ष्मी विश्वनाथन, वर्ष 2015 के लिए मुम्बई की दर्शना झवेरी एवं वर्ष 2016 के लिए नई दिल्ली के पंडित जितेन्द्र महाराज को राष्ट्रीय कालिदास सम्मान से अलंकृत किया गया. इसके अलावा उन्होंने अन्य कलाकारों को मध्यप्रदेश राज्य रूपंकर कला प्रदर्शनी पुरस्कार भी वितरित किये गए. खजुराहो नृत्य महोत्सव का आयोजन राज्य सरकार के संस्कृति विभाग एवं उस्ताद अलाउद्दीन खां संगीत एवं कला अकादमी, मध्यप्रदेश संस्कृति परिषद भोपाल के संयुक्त तत्वावधान में किया गया है. महोत्सव का समापन 26 फरवरी को होगा. इस दौरान प्रतिदिन पृथक-पृथक विधाओं में विख्यात कलाकारों द्वारा नृत्य प्रस्तुतियां दी जाएंगी.

ग्लोबल टी-20 कनाडा को मिली आईसीसी की स्वीकृति

कनाडा की अपनी पहली घरेलू टी-20 लीग ग्लोबल टी-20 कनाडा को अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की ओर से स्वीकृति मिल गई है. इस स्वीकृति से क्रिकेट कनाडा काफी खुश है. गुरुवार को राजधानी दिल्ली में आयोजित एक समारोह में इसकी घोषणा की गई. इस लीग की शुरुआत इसी साल जुलाई में होगी. इस लीग की अवधारणा, प्रणाली और प्रबंधन मर्करी ग्रुप ने देश में आधिकारिक क्रिकेट निकाय-क्रिकेट कनाडा के साथ मिलकर किया है. कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने अपने भारत दौरे के अंतिम चरण में गुरुवार को राजधानी दिल्ली के एक स्कूल में आयोजित समारोह में हिस्सा लिया. इस दौरान, एक बल्ले पर हस्ताक्षर करते हुए ट्रूडो ने ग्लोबल टी-20 कनाडा को शुभकामनाएं दीं.

इस लीग में छह टीमें होंगी, जिनके मैच टोरंटो के टोरंटो क्रिकेट स्केटिंग एवं कर्लिग क्लब, सनीब्रुक पार्क, माप्ले लीफ क्रिकेट क्लब में खेले जाएंगे. लीग में हिस्सा लेने वाली हर टीम में कनाडा के चार-चार खिलाड़ी शामिल हैं और अन्य अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी हैं. इस मौके पर क्रिकेट कनाडा के अध्यक्ष रणजीत सैनी ने कहा, "इस लीग में कनाडा में खेले जाने वाले क्रिकेट को पूरी तरह से बदलने की क्षमता है. यह एक बड़ी चुनौती है और क्रिकेट कनाडा एक सफल लीग के आयोजन के लिए पूरी तरह से तैयार है. यह लीग न केवल एक बड़ी प्रतियोगिता होगी, बल्कि इससे कनाडा के पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा." 

आदित्य बिड़ला आइडिया पेमेंट्स बैंक ने संचालन शुरू किया

आदित्य बिरला के आइडिया पेमेंट बैंक ने काम करना शुरू कर दिया है. अगस्त 2015 में पेमेंट बैंक का संचालन शुरू करने के लिए करीब 11 कंपनियों को लाइसेंस दिए गए थे. इससे पहले तीन और कंपनियां अपने पेमेंट बैंक का संचालन शुरू कर चुकी हैं. रिजर्व बैंक की ओर से जारी की गई रिलीज में कहा गया है कि आदित्य बिरला का आइडिया पेमेंट बैंक 22 फरवरी 2018 से ही संचालन में आ चुका है. पेमेंट बैंक की सेवा देने के मामले में आइडिया चौथी कंपनी है. इससे पहले एयरटेल पेमेंट बैंक, पेटीएम पेमेंट्स बैंक और फिनो पेमेंट बैंक अपना संचालन शुरू कर चुके हैं. इंडिया पोस्ट का पेमेंट बैंक भी जल्द ही अपनी सेवाएं शुरू कर सकता है. 

टेलिकॉम क्षेत्र की प्रमुख कंपन भारती एयरटेल पहली ऐसी टेलिकॉम कंपनी थी जिसने नवंबर 2016 में अपना संचालन शुरू कर दिया था. इस कड़ी में इस तरह के क्षेत्र में उतरने वाली आदित्य बिरला की आइडिया सेल्युलर दूसरी टेलिकॉम कंपनी है. यह जानकारी भी सामने आ रही है कि रिलायंस जियो भी जल्द अपना पेमेंट बैंक शुरू कर सकती है. वहीं नेशनल सिक्योरिटी डिपॉडिटरी लिमिटेड का पेमेंट बैंक मार्च के अंत तक शुरू हो सकता है. पेमेंट बैंक मुख्य रूप से मोबाइल फोन के माध्यम से ग्राहकों तक अपनी पहुंच बनाते हैं, इसमें सुविधाओं का लाभ लेने के लिए परंपरागत रुप से बैंक ब्रांच तक पहुंचने की जरूरत नहीं होती है.

पेमेंट बैंक क्या कर सकते हैं और क्या नहीं:
  • लोन की पेशकश नहीं कर सकते हैं. आपके खाते में एक लाख रुपए तक की राशि जमा कर सकते हैं और आम बैंकों के सेविंग खातों की ही तरह जमा राशि पर ब्याज का भुगतान कर सकते हैं.
  • इसमें सिर्फ मोबाइल फोन के माध्यम से पैसे स्थानांतरित और भेजे जा सकते हैं.
  • ये तमाम तरह की सेवाएं आपको उपलब्ध करवाते हैं जैसे कि आप इसके जरिए बिलों का भुगतान कर सकते हैं, बिना नकदी के कोई सामान खरीद सकते हैं और मोबाइल फोन के माध्यम से चैकलेस ट्रांजेक्शन कर सकते हैं.
  • ये डेबिट और एटीएम कार्ड भी जारी कर सकते हैं जिन्हें आप सभी बैंकों की एटीएम मशीन में जाकर इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • ये सीधे तौर पर बैंक खातों में पैसा ट्रांसफर कर सकते हैं, बैंक से जोड़ने वाले इस गेटवे के लिए कोई भी शुल्क नहीं लगता है.
  • ये यात्रियों को विदेशी मुद्रा कार्ड प्रदान कर सकते हैं, जिसका इस्तेमाल डेबिट और एटीएम कार्ड के तौर पर पूरे भारत में कहीं भी किया जा सकता है.
  • ये अन्य बैंकों की तुलना में कम शुल्क पर विदेशी मुद्रा सेवाएं प्रदान कर सकते हैं.
  • वे थर्ड पार्टी के लिए कार्ड स्वीकृति तंत्र (मैकेनिज्म) भी प्रदान कर सकते हैं जैसे कि 'ऐप्पल पे’.

भारत का पहला 5जी का हुआ सफल परीक्षण, 3जीबीपीएस से ज्‍यादा की स्‍पीड मिली

चीनी प्रौद्योगिकी दिग्गज हुआवेई और दूरसंचार सेवा प्रदाता भारती एयरटेल ने शुक्रवार को भारत में 5जी नेटवर्क के सफल परीक्षण की घोषणा की. कंपनी ने एक बयान में कहा कि यह परीक्षण एयरटेल के मानेसर (गुरुग्राम) स्थित नेटवर्क एक्सपीरिएंस केंद्र में किया गया. भारती एयरटेल के निदेशक (नेटवर्क्‍स) अभय सावरगांवकर ने कहा, “हम 5जी इंटेरोपेराबिलिटी और विकास परीक्षण (आईओडीटी) और भागीदारी की तरफ तेजी से बढ़ रहे हैं. हम भारत में एक मजबूत 5 जी पारिस्थितिकी तंत्र विकसित करने के लिए अपने भागीदारों के साथ मिलकर काम करने की आशा करते हैं.” 
 
कंपनी ने बताया कि परीक्षण के दौरान 3जीबीपीएस से अधिक की स्पीड दर्ज की गई. यह 3.5 गीगाहट्र्ज बैंड पर 100 मेगाहट्र्ज बैंडविथ के साथ प्राप्त की गई अधिकतम स्पीड है जिसकी एंड-टू-एंड नेटवर्क लेटेंसी करीब एक मिलीसेकेंड रही. हुआवेई एचक्यू के निदेशक (वायरलेस मार्केटिंग) इमैनुएल एल्व्स ने कहा, “हम 5जी पारिस्थितिक तंत्र की तैनाती पर ध्यान दे रहे हैं और भारती एयरटेल के साथ 3.5 गीगाहट्ज बैंड पर 5जी की क्षमता का प्रदर्शन इसे शानदार ढंग से दर्शाता है.” 
 आपको बता दें की अभी हाल ही में संचार प्रौद्योगिकी की प्रमुख वैश्विक कंपनी एरिक्सन ने भी पहली बार 5जी तकनीक का एंड-टू-एंड प्रदर्शन किया. इस टेस्ट में एरिक्सन ने 5जी टेस्टको बेड और 5जी न्यू रेडियो के द्वारा किया. जिसमें पाया गया कि महज 3 मिली सेकेंड में इसकी स्पीड 5.7 गीगा बाइट पर सेकेंड है. वहीं एरिक्सन के अध्ययन के अनुसार, 5जी तकनीक में भारतीय दूरसंचार सेवा प्रदाताओं के लिए साल 2026 तक 27.3 अरब राजस्व पैदा करने की क्षमता है. इतना ही नहीं एरिक्सन के दक्षिण-पूर्व एशिया, प्रशांत क्षेत्र और भारत के बाजारों के प्रमुख नुनजियो मिर्तिलो ने इस कहा है कि  “हम देश में पहले 5जी प्रदर्शन के आधार पर भारतीय बाजार के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को मजबूत कर रहे हैं. वहीं सरकार ने 2020 तक देश में 5जी सर्विस को पेश करने की योजना बनाई है.

23 February 2018

कमर्चारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ने 2017-18 के लिए ब्याज दर घटाकर 8.55% की


कमर्चारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ने साल 2017-18 के लिए ब्याज दर को घटा दिया है. नई ब्याज दर 8.55% होगी जो पिछले साल 8.65% थी. प्रॉविडेंट फंड डिपॉजिट पर ब्याज का यह फैसला बुधवार को ईपीएफओ के सेंट्रल बोर्ड के ट्रस्टियों की बोर्ड मीटिंग में लिया गया है. श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के ट्रस्टियों की आज हुई बैठक के बाद कहा, ‘मौजूदा आर्थिक परिदृश्य को देखते हुए भविष्य के बारे में मूल्यांकन करना मुश्किल है. हमने पिछले साल 8.65 प्रतिशत की दर से ब्याज दिया, जिसके बाद 695 करोड़ रुपये का सरप्लस बचा है. इस साल हमने 2017-18 के लिये 8.55 प्रतिशत की दर से ब्याज देने की सिफारिश की है, इससे 586 करोड़ रुपये का सरप्लस बचेगा.' 

मंत्री ने बताया कि ट्रस्ट ने ईपीएफओ योजनाओं के तहत कवरेज के लिए कर्मचारी संख्या सीमा को मौजूदा 20 से घटाकर 10 करने का भी फैसला किया है. उन्होंने उम्मीद जताई कि इस फैसले से ईपीएफओ अंशधारकों की संख्या 9 करोड़ तक हो जाएगी. बता दें कि ईपीएफओ ने 2016-17 के लिए 8.65% इंट्रेस्ट रेट तय किया था, जो 2015- 16 में 8.8% था. यानी लगातार तीसरी बार इसे घटा दिया गया है. गौरतलब है कि बजट में भी नौकरीपेशा और मिडिल क्लास के लोगों को सरकार ने कोई बड़ी राहत नहीं दी थी. इनकम टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया गया था. अब EPFO का फैसला भी नौकरीपेशा लोगों को निराश करेगा.

खादी के उत्पादों की होगी ऑनलाइन बिक्री, योगी सरकार ने अमेजऩ इंडिया के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किया

उत्तर प्रदेश के खादी और ग्रामोद्योग बोर्ड ने खादी उत्पादों की ऑनलाइन बिक्री की सुविधा के लिए अमेज़ॅन इंडिया के साथ समझौता किया है. अमेज़ॅन इंडिया, ग्रामीण खादी कारीगरों को शिक्षित, प्रशिक्षित करने और यूपी खादी के ब्रांड के तहत देश भर में अपने उत्पादों को सीधे Amazon.in पर बेचने में करने के लिए कार्य करेगा. खादी के उत्पादों की ऑनलाइन बिक्री के लिए मशहूर अमेजऩ इण्डिया के निदेशक गोपाल पिल्लई तथा खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अविनाश कृष्ण सिंह के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए. ऑनलाइन पोर्टफोलियों में खादी शर्ट, कुर्ता, धोती, तौलिया तथा स्वादिष्ट खाद्य पदार्थ जैसे उत्पाद शामिल होंगे, जिसकी शहरी क्षेत्रों में भारी मांग तथा संभावनायें हैं. इस मौके पर खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री सत्यदेव पचौरी ने कहा कि खादी के उत्पादों को लोकप्रिय बनाने के लिए सरकार पूरी तरह कृत संकल्प है. सरकार का प्रयास है कि खादी एवं ग्रामोद्योग क्षेत्र के समग्र विकास में बेरोजगारों को बड़ी संख्या में जोड़ा जाय और वे इसके माध्यम से रोजगार के अवसर प्राप्त कर आर्थिक रूप से समृद्ध हो सकें. 
 
उन्होंने खादी के इतिहास में  स्मरणीय बताते हुए कहा कि समिट के ठीक पहले खादी बोर्ड के साथ एमओयू हस्ताक्षरित होने से स्पष्ट है कि अब बड़ी कम्पनियां उत्तर प्रदेश में अपना व्यापार शुरू करने के लिए काफी उत्सुक हैं. उन्होंने कहा कि अभी तक देश-दुनिया में खादी की पहचान खादी इण्डिया के नाम से थी. अब लोग उत्तर प्रदेश के खादी उत्पाद को यूपी खादी के ब्रांड के नाम से जानेंगे. उन्होंने कहा कि जिस तरह उत्तर प्रदेश के हैण्डलूम और पावरलूम की मांग दुनिया के अनेक देशों है. उसी प्रकार अब खादी एवं ग्रामोद्योग के उत्पादों को भी विश्व में ख्याति हासिल होगी. अमेजऩ के माध्यम से विदेशों में बैठे लोग आसानी से खादी के उत्पाद खरीद सकेंगे.  

वायु सेना की फ्लाइंग ऑफिसर अवनि चतुर्वेदी ने अकेले मिग-21 बाइसन लड़ाकू विमान उड़ाकर इतिहास रचा

भारतीय वायु सेना की फ्लाइंग ऑफिसर अवनि चतुर्वेदी ने अकेले मिग-21 बाइसन लड़ाकू विमान उड़ाकर इतिहास रचा. अवनि ने 19 फरवरी की सुबह गुजरात के जामनगर एयरबेस से उड़ान भरकर अपना मिशन पूरा किया. अकेले लड़ाकू विमान उड़ाने वाली वह भारत की पहली महिला बन गई हैं. यह पूर्णरूप से फाइटर पायलट बनने की दिशा में पहला कदम है. अकेले लड़ाकू विमान उड़ाने से पहले सोमवार सुबह अवनि के प्रशिक्षक ने मिग-21 की जांच की. उड़ान के दौरान अनुभवी पायलट और प्रशिक्षक एयर ट्रैफिक कंट्रोल और रन-वे पर निगरानी के लिए मौजूद रहे. बता दें कि महिला फाइटर पायलट बनने के लिए 2016 में पहली बार तीन महिला पायलटों अवनि चतुर्वेदी, मोहना सिंह और भावना को वायु सेना में कमिशन किया गया था.
एयर कमोडोर प्रशांत दीक्षित ने कहा, यह भारतीय वायुसेना और पूरे देश के लिए एक विशेष उपलब्धि है. दुनिया के चुनिंदा देशों जैसे ब्रिटेन, अमेरिका, इजरायल और पाकिस्तान में ही महिलाएं फाइटर पायलट बन सकीं हैं. भारत में अक्टूबर 2015 में सरकार ने महिलाओं के फाइटर पायलट बनने की राह प्रशस्त कर दी थी. जिसके बाद अवनी, मोहना और भावना ने वो सीखा जिससे देश में महिलाओं की साख यकीनन आसमान छू रही है. गौतरलब है कि केंद्र सरकार ने साल 2015 में महिलाओं को फाइटर पायलट में शामिल करने का फैसला किया था.

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस

यूनेस्को ने 21 फरवरी को अंतर्राष्ट्रीय मातृ भाषा दिवस मनाया है. 2018 का विषय है- "Linguistic diversity and multilingualism count for sustainable development". यह भाषाई विविधता के संरक्षण और मातृभाषा आधारित बहुभाषी शिक्षा को बढ़ावा देने के उद्देश्य से लगभग 20 वर्षों से आयोजित किया जा रहा है.17 नवंबर, 1999 को यूनेस्को ने इसे स्वीकृति दी. इस दिवस को मनाने का उद्देश्य है कि विश्व में भाषाई एवं सांस्कृतिक विविधता और बहुभाषिता को बढ़ावा मिले. यूनेस्को द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस की घोषणा से बांग्लादेश के भाषा आन्दोलन दिवस को अन्तर्राष्ट्रीय स्वीकृति मिली, जो बांग्लादेश में सन 1952 से मनाया जाता रहा है. बांग्लादेश में इस दिन एक राष्ट्रीय अवकाश होता है. 2008 को अन्तर्राष्ट्रीय भाषा वर्ष घोषित करते हुए, संयुक्त राष्ट्र आम सभा ने अन्तर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के महत्व को फिर महत्त्व दिया था. 
 
भारतीय संविधान निर्माताओं की आकांक्षा थी कि स्वतंत्रता के बाद भारत का शासन अपनी भाषाओं में चले ताकि आम जनता शासन से जुड़ी रहे और समाज में एक सामंजस्य स्थापित हो और सबकी प्रगति हो सके. इसमें कोई शक नहीं कि भारत प्रगति के पथ पर अग्रसर है. पर यह भी सच है कि इस प्रगति का लाभ देश की आम जनता तक पूरी तरह पहुंच नहीं पा रहा है. इसके कारणों की तरफ़ जब हम दृष्टि डालते हैं तो पाते हैं कि शासन को जनता तक उसकी भाषा में पहुंचाने में अभी तक क़ामयाब नहीं हैं. यह एक प्रमुख कारण है. जब तक इस काम में तेज़ी नहीं आती तब तक किसी भी क्षेत्र में देश की बड़ी से बड़ी उपलब्धि और प्रगति का कोई मूल्य नहीं रह जाता. अन्तर्राष्ट्रीय मानचित्र पर अंग्रेज़ी के प्रभाव को नकारा नहीं जा सकता. किन्तु वैश्‍विक दौड़ में आज हिन्दी कहीं भी पीछे नहीं है. यह सिर्फ़ बोलचाल की भाषा ही नहीं, बल्कि सामान्य काम से लेकर इंटरनेट तक के क्षेत्र में इसका प्रयोग बख़ूबी हो रहा है. हमें यह अपेक्षा अवश्य है कि 'क' क्षेत्र के शासकीय कार्यालयों में सभी कामकाज हिन्दी में हो. ’ख’ और ’ग’ क्षेत्र में भी निर्धारित प्रतिशत के अनुसार हिन्दी का प्रयोग होता रहे. 

मातृभाषा : मातृभाषा आदमी के संस्कारों की संवाहक है. मातृभाषा के बिना, किसी भी देश की संस्कृति की कल्पना बेमानी है. मातृभाषा हमें राष्ट्रीयता से जोड़ती है और देश प्रेम की भावना उत्प्रेरित करती है. मातृ भाषा आत्मा की आवाज़ है तथा देश को माला की लड़ियों की तरह पिरोती है. माँ के आंचल में पल्लवित हुई भाषा बालक के मानसिक विकास को शब्द व पहला सम्प्रेषण देती है. मातृ भाषा ही सबसे पहले इंसान को सोचने-समझने और व्यवहार की अनौपचारिक शिक्षा और समझ देती है. बालक की प्राथमिक शिक्षा मातृ भाषा में ही करानी चाहिए.

मोदी सरकार का किसानो को डिजीटल तोहफा, 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने के लिए ई-एनएएम प्लेटफार्म में जोड़ी 6 नई सुविधाएं

केन्‍द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री राधा मोहन सिंह ने आज राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) प्लेटफार्म के इस्‍तेमाल को और अधिक आसान बनाने के लिए इसकी 6 नई विशेषताओं का शुभारंभ किया. ई-नाम योजना भारत सरकार की प्रमुख और महत्वपूर्ण फ्लैगशिप योजनाओं में से एक है, जिसे कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा किसानों को उनकी उपज का ऑन-लाइन प्रतिस्पर्धात्मक बोली द्वारा बेहतर मूल्य दिलाने के उद्देश्य से क्रियान्वित किया गया है. इस अवसर पर अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का यह सपना है कि वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना किया जाए और किसानों को विकास की मुख्यधारा का हिस्सा बनाया जाए. उन्‍होंने कहा कि ई-नाम का मुख्य उद्देश्य अधिक पारदर्शिता और प्रतिस्पर्धा सुनिश्चित करते हुए किसानों को उनकी उपज का बेहतर मूल्य दिलाना है. किसानों के लिए कृषि वस्तु्ओं के विपणन की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए राष्ट्रीय कृषि बाजार ई-नाम) की परिकल्‍पना की गई थी और 14 अप्रैल, 2016 को इसे 21 मंडियों में शुरू किया गया था. अब तक 14 राज्यों और एक केन्द्र शासित प्रदेश की 479 मंडिया इससे जुड़ चुकी हैं.

ई-नाम वेबसाइट अब आठ स्थानीय भाषाओं (हिंदी, अंग्रेजी, गुजराती, मराठी, तमिल, तेलुगु, बंगाली और ओडिया) में उपलब्ध है तथा इस पर लाइव ट्रेडिंग सुविधा भी छह भाषाओं (हिंदी,अंग्रेजी, बंगाली, गुजराती, मराठी और तेलुगु) में उपलब्ध कराई गई है. केन्‍द्रीय मंत्री ने कहा कि कृषि मंत्रालय अब ई-नाम पोर्टल को नई और यूजर फ्रेंडली सुविधाओं जैसे कि बेहतर विश्लेषण के लिए एमआईएस डैशबोर्ड, व्यापारियों को भीम एप द्वारा भुगतान की सुविधा, व्यापारियों को मोबाइल भुगतान की सुविधा, मोबाइल एप पर विस्तृ्त सुविधाएं जैसे कि गेट एंट्री और मोबाइल के जरिए पेमेंट, किसानों के डाटाबेस का एकीकरण, ई-नाम बेवसाइट में ई-लर्निंग मॉड्यूल आदि से लैस करते हुए और अधिक सुदृढ़ बना रहा है 

ई-नाम मोबाइल एप: मोबाइल एप का कई तरीके से संवर्धन किया जा रहा है ताकि किसानों और व्यापारियों के लिए सभी प्रक्रिया सुविधाजनक बन सके. मोबाइल एप को बहुभाषायी बनाया गया है. अब मंडी प्रचालकों (ऑपरेटर्स) द्वारा गेट एंट्री का महत्वपूर्ण कार्य सीधे ई-नाम मोबाइल एप से किया जा सकता है. इससे किसानों को मोबाइल एप पर अग्रिम रूप से गेट एंट्री करने की सुविधा उपलब्ध होगी और परिणामस्वरूप मंडी आने वाले किसानों का काफी समय बचेगा तथा गेट एंट्री और आवक सूचना आसानी से दर्ज की जा सकेगी. किसानों के लिए एक नई सुविधा शुरू की गई है जिसमें वे अपनी फसल के क्रय-विक्रय तथा वास्‍तविक बोली प्रक्रिया की प्रगति की जानकारी अपने मोबाइल एप पर प्राप्‍त कर सकेंगे.

व्यापार के दौरान फसल की गुणवत्ता संबंधी जानकारी को देखने की सुविधा व्यापारियों को मोबाइल एप पर उपलब्ध कराई गई है. अब व्यापारी (क्रेता) ई-नाम मोबाइल एप से डेबिट कार्ड और नेट बैंकिंग के माध्यम से भी ऑन-लाइन भुगतान कर सकता है. इससे खरीददारों के लिए धनराशि को एप के माध्यम से सीधे ट्रांसफर करना आसान होगा और व्यापारियों के लिए भी किसानों को ऑनलाइन भुगतान करना आसान हो जाएगा. इसके अलावा, किसान को उनके बैंक खाते में भुगतान प्राप्त होने के संबंध में एसएमएस अलर्ट भेजा जाएगा जिससे किसानों को भुगतान रसीद संबंधी सूचना मिल सकेगी.
 
भीम एप से भुगतान सुविधा : वर्तमान में ई-नाम पोर्टल किसानों को आरटीजीएस/पेमन्ट, डेबिट कार्ड और इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से सीधे आनलाइन भुगतान करने की सुविधा देता है. भीम के जरिए यूनीफाइड पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई) सुविधा किसानों को भुगतान करने की प्रकिया को आसान बनाने का एक महत्वपूर्ण कदम है जिससे खरीददारों के अकाउंट से भुगतान लेकर उसे पूल अकाउंट में डालने तथा किसानों को भुगतान वितरण करने में लगने वाले समय में कमी आएगी.

ई-लर्निंग माड्यूल सहित नवीन और समुन्नत वेबसाइट: समुन्नत और अधिक सूचनापरक सुविधाओं जैसे कि गेट एंट्री पर ई-नाम मंडियों की वर्तमान स्थिति, नवीनतम घटनाओं की सूचना, डायनामिक ट्रेनिंग केलेंडर आदि के साथ एक नई वेबसाइट विकसित की गई है. इसके अलावा, हिन्दी भाषा में ई-लर्निंग माड्यूल डिजाइन किया गया है और उसे वेबवाइट पर उपलब्ध कराया गया है, ताकि विभिन्न हित धारक इस सिस्टम को प्रयोग करने के बारे में ऑन-लाइन सीख सकें और अपनी सुविधा अनुसार इस सिस्टम में लगातार प्रशिक्षण प्राप्त कर सकें. वर्तमान में यह माड्यूल हिन्दी में उपलब्ध है.

एमआईएस डैशबोर्ड : बिजनेस इंटेलीजेंस आधारित एमआईएस डैशबोर्ड फसल की आवक और व्यापार के संबंध में प्रत्येक मंडी के कार्य निष्पादन की विस्तृत जानकारी उपलब्ध कराएगा. इससे मंडी बोर्ड के अधिकारियों तथा मंडी सचिव को, प्रत्येक मंडी की दैनिक, साप्ताहिक, मासिक, त्रैमासिक और वार्षिक तुलनात्मक कार्य निष्पादन की जानकारी उपलब्ध हो सकेगी. इससे अधिकारी और मंडी सचिव जिंस व राज्य स्तर पर वास्तविक व्यापार विश्लेषण करने में समर्थ हो सकेंगे. इसके अलावा, मंडी बोर्ड और मंडी सचिव को अपने ऑपरेशन के पोस्ट ऐतिहासिक विश्लेषण और कार्य की योजना तैयार करने व समन्वित करने में भी मदद मिलेगी.

मंडी सचिवों के लिए शिकायत निवारण प्रबंधन प्रणाली : इस सिस्टम द्वारा मंडी सचिव को पोर्टल/सॉफ्टवेयर और उसके प्रचालन से सम्बन्धित तकनीकी मुद्दे उठाने तथा उनके प्रश्नों के निवारण की ऑन-लाइऩ निगरानी करने में भी मदद मिलेगी.

किसान डेटाबेस का एकीकरण : ई-नाम को सेंट्रल फार्मर डेटाबेस के साथ जोड़ा गया है ताकि पंजीकरण की प्रक्रिया ज्यादा आसान हो सके तथा मंडी गेट पर आवक के दौरान किसान की पहचान आसानी से की जा सके. इससे गेट एंट्री स्तर पर कार्यक्षमता बढ़ेगी और कतार समय(क्यू टाइम) में भी कमी आएगी. इसके अलावा, रबी और खरीफ की अधिक आवक के समय अधिक कार्य क्षमता के साथ गेट स्तर पर लोड को व्यवस्थित करने में मदद मिलेगी और एंट्री गेट पर किसानों के अपनी उपज के साथ प्रतीक्षा करने के समय में कमी आएगी.