मासिक करेंट अफेयर्स

22 February 2018

दिल्ली सरकार ने विद्यालयों में बच्चों के सीखने के कौशल में सुधार के लिए ‘‘मिशन बुनियाद’’ स्कीम लांच की


दिल्ली सरकार और एमसीडी स्कूलों में तीसरी से आठवीं क्लास के स्टूडेंट्स के लर्निंग लेवल में सुधार के लिए मिशन बुनियाद स्कीम लॉन्च की गई है. डिप्टी सीएम और एजुकेशन मिनिस्टर मनीष सिसोदिया ने बताया कि हर बच्चे के लर्निंग लेवल को परखने के लिए बेसलाइन असेसमेंट होगा और बच्चों को अलग- अलग ग्रुप में बांटा जाएगा. इस बार गर्मियों की छुट्टियों में मई- जून में स्पेशल ड्राइव चलाई जाएगी और स्कूलों में स्पेशल क्लासेज होगी ताकि बच्चा अपनी टेक्स्ट बुक पढ़ सके और बेसिक मैथमैटिक्स स्किल भी सीख सके. दिल्ली सरकार ने इससे पहले चुनौती स्कीम शुरू की थी और उसी स्कीम को आगे बढ़ाते हुए अब मिशन बुनियाद का प्रोजेक्ट लाया गया है. हर स्कूल में मेंटर टीचर नियुक्त होंगे और दिल्ली सरकार फरवरी और मार्च में मेंटर टीचर्स को ट्रेनिंग देगी.

सिसोदिया ने बताया कि दिल्ली सरकार ने एमसीडी के साथ मिलकर इस स्कीम को चलाने का फैसला किया है. एमसीडी स्कूलों में प्राइमरी क्लासेज में जो बच्चे पढ़ते हैं, वे छठी क्लास में दिल्ली सरकार के स्कूलों में एडमिशन लेते हैं. उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार के हाल ही में नैशनल अचीवमेंट सर्वे में सामने आया है कि दिल्ली और देश में करीब 50 पर्सेंट बच्चे अपने क्लास की टेक्स्ट बुक ठीक से नहीं पढ़ पाते और बेसिक मैथमैटिक्स ऑपरेशंस को भी नहीं कर पाते. यह सर्वे आने के बाद दिल्ली सरकार के एजुकेशन डिपार्टमेंट, एमसीडी के साथ लगातार बैठकें हो रही हैं. 2 हफ्ते से शिक्षा विभाग तमाम एजेंसी के साथ बैठक कर रही है. जो बच्चे टेक्स्ट बुक नही पढ़ पा रहे हैं या सवाल हल नही कर पा रहे हैं उन्हें बेहतर करना है.

दिल्ली सरकार ने इन बैठकों के बाद एक प्लान तैयार किया गया है. हर स्कूल में एक मेंटर टीचर तैनात होगा. इन टीचर की ट्रेंनिग फरवरी और मार्च में दिल्ली सरकार कराएगी. हर बच्चे को अलग अलग ग्रुप में बांटा जाएगा. जो बच्चा बिल्कुल नही पढ़ पा रहा है उनका अलग ग्रुप होगा. अप्रैल, मई और जून में मिशन बुनियाद चलाया जाएगा. हर एक बच्चे की रिपोर्ट तैयार की जाएगी. बेसलाइन असेसमेंट के जरिए हर बच्चे के लर्निंग लेवल की परख होगी और उसमें सुधार किया जाएगा.

No comments:

Post a comment