मासिक करेंट अफेयर्स

19 March 2018

भारत और ADB ने रेल इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार के लिए $120 मिलियन ऋण पर हस्ताक्षर किए

सरकार ने उच्च घनत्व वाले कॉरिडोर के साथ रेल इंफ्रास्ट्रक्चर और भारतीय रेलवे की परिचालन दक्षता में सुधार के लिए परियोजनाओं को पूरा करने के लिए एशियन डेवलपमेंट बैंक (ADB) के साथ $ 120 मिलियन का ऋण करार किया है. ऋण में 20 वर्ष का कार्यकाल है, जिसमें 5 साल की रियायती अवधि भी शामिल है और ADB की लंदन इंटरबैंक की पेशकश की दर (लिबोर) आधारित ऋण सुविधा और प्रति वर्ष 0.15% की प्रतिबद्धता प्रभार के अनुसार निर्धारित वार्षिक ब्याज दर है. 2011 में ADB बोर्ड द्वारा अनुमोदित रेलवे सेक्टर निवेश कार्यक्रम के लिए लोन की राशि $ 500 मिलियन की बहु-किश्त वित्तपोषण सुविधा है. ऋण की राशि का उपयोग पहले की शाखाओं के तहत शुरू होने वाली कार्य को पूरा करने के लिए किया जाएगा. इस परियोजना का लक्ष्य है कि देश में बिजली के विद्युतीकरण, आधुनिक सिग्नलिंग प्रणाली की शुरूआत और रेल मार्गों की दोहरीकरण के जरिए रेल बुनियादी ढांचे की दक्षता में वृद्धि करना है. यह ऊर्जा-कुशल, सुरक्षित और विश्वसनीय रेलवे प्रणाली विकसित करने में मदद करेगी जो कि परियोजना रेल मार्गों के साथ कम यात्रा के समय और बेहतर परिचालन और वित्तीय दक्षता का परिणाम देगा.

इस परियोजना का उद्देश्‍य देश भर में महत्‍वपूर्ण मार्गों पर रेल लाइनों के दोहरीकरण, विद्युतीकरण और आधुनिक सिग्‍नलिंग प्रणाली को स्‍थापित कर रेलवे की बुनियादी ढांचागत सुविधाओं की क्षमता को बढ़ाना है. इस कार्यक्रम से कम ऊर्जा खपत, सुरक्षित और विश्‍वसनीय रेल प्रणाली विकसित करने में मदद मिलेगी, जिससे परियोजना के तहत आने वाले रेल रूटों पर सफर की अवधि घटाने में मदद मिलेगी और बेहतर परिचालनगत एवं वित्‍तीय दक्षता सुनिश्चित होगी. ऋण की तीसरी किस्‍त के जरिये होने वाले वित्‍त पोषण से लगभग 840 किलोमीटर लंबे रेलमार्गों के दोहरीकरण और अधिक भीड-भाड़ वाले गलियारों से सटे 640 किलोमीटर लंबी पटरियों के विद्युतीकरण से जुड़े कार्यक्रम के लक्ष्‍यों को प्राप्‍त करने में मदद मिलेगी. ऋण की आय का इस्तेमाल छत्तीसगढ़, ओडिशा, महाराष्ट्र, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में व्यस्त माल और यात्री मार्गों के लिए किया जाएगा, जिसमें चेन्नई, कोलकाता, मुंबई और नई दिल्ली से जुड़ने वाले “गोल्डन क्वाड्रिलेटल” कॉरिडोर शामिल हैं.

इस निवेश कार्यक्रम के तहत छत्‍तीसगढ़, ओडिशा, महाराष्‍ट्र, कर्नाटक और आन्‍ध्र प्रदेश के व्‍यस्‍त माल एवं यात्री ढुलाई वाले रूटों को लक्षित किया जा रहा है, जिसमें ‘स्वर्णिम चतुर्भुज’ गलियारा भी शामिल है, जो चेन्‍नई, कोलकाता, मुम्‍बई और नई दिल्‍ली को आपस में जोड़ता हैं. रेल खंडों का दोहरीकरण दौंड-टिटलागढ़ खंड, संबलपुर-टिटलागढ़ खंड, रायपुर-टिटलागढ़ खंड और हॉस्पेट-टिनाइघाट खंड पर किया जा रहा है, जबकि विद्युतीकरण का कार्य 641 किलोमीटर लंबे पुणे-वाडी गुंटाकल खंड पर किया जा रहा है.

एशियाई विकास बैंक (ADB) : ADB क्षेत्रीय विकास बैंक है जिसका उद्देश्य एशिया में सामाजिक और आर्थिक विकास को बढ़ावा देना है. यह 1966 में स्थापित किया गया था. इसका मुख्यालय मनीला, फिलीपींस में है. अब इसमें 67 सदस्य हैं, जिनमें से 48 एशिया और प्रशांत के भीतर से हैं और 19 बाहर हैं. ADB को विश्व बैंक के साथ मिलकर तैयार किया गया है. इसके पास वेटेड वोटिंग सिस्टम है, जहां सदस्यों की कैपिटल सब्सक्रिप्शन के साथ मतों का वितरण किया जाता है. 2014 तक, जापान 15.7% शेयरों वाला सबसे बड़ा शेयरधारक (पूंजी सदस्यता) था, उसके बाद अमेरिका (15.6%), चीन (6.5%), भारत (6.4%) और ऑस्ट्रेलिया (5.8%) का स्थान था.

No comments:

Post a comment