मासिक करेंट अफेयर्स

04 April 2018

प्रत्यक्ष कर संग्रह 17 फीसदी बढ़कर 9.95 लाख करोड़ रुपये


वित्त वर्ष 2017-18 में देश के प्रत्यक्ष कर संग्रह में पिछले वित्त वर्ष की तुलना में 17.1 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है, और कुल 9.95 लाख करोड़ रुपये का प्रत्यक्ष कर संग्रह किया गया. वित्त सचिव हंसमुख अधिया ने कहा कि ये आंकड़े पहले ही बजटीय अनुमान (बीई) के आंकड़ों को पार कर चुके थे. वित्त मंत्रालय ने कहा, कुल प्रत्यक्ष कर संग्रह बजटीय अनुमानों (9.8 लाख करोड़ रुपये) का 101.5 फीसदी रहा है और संशोधित अनुमानों (10.05 लाख करोड़ रुपये) का 99 फीसदी रहा है. बयान में कहा गया कि पिछले वित्त वर्ष में कॉरपोरेट आयकर (सीआईटी) संग्रह की वृद्धि दर 17.1 फीसदी तथा निजी आयकर संग्रह की वृद्धि दर 18.9 फीसदी रही है.

आधिकारिक बयान में कहा गया, हालांकि ये आंकड़े अनंतिम हैं और मिलान के बाद अंतिम आंकड़ों में कुछ
परिवर्तन हो सकता है. केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड के अध्यक्ष सुशील चंद्रा ने कहा, वित्त वर्ष 2017-18 में कुल 6.84 करोड़ आयकर रिटर्न दाखिल किए गए, जबकि वित्त वर्ष 2016-17 में कुल 5.43 करोड़ रिटर्न दाखिल हुए थे. इसमें 26 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई.

No comments:

Post a comment