मासिक करेंट अफेयर्स

10 April 2018

राष्ट्रमंडल खेल 2018: राष्ट्रमंडल खेल में पहली बार भारतीय बैडमिंटन टीम ने जीता स्वर्ण

21वें राष्ट्रमंडल खेलों के पांचवें दिन सोमवार को बैडमिंटन की मिश्रित टीम स्पर्धा में भारत की दिग्गज महिला खिलाड़ी सायना नेहवाल ने भारत की झोली में स्वर्ण पदक डाल दिया. भारत ने कैरारा स्पोर्ट्स एरेना में खेले गए फाइनल मैच में इतिहास रचते हुए मलेशिया को 3-1 से मात देकर पहली बार स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया. इससे पहले भारत ने कभी भी राष्ट्रमंडल खेलों में बैडमिंटन की टीम स्पर्धा में स्वर्ण नहीं जीता था. फाइनल मुकाबले का पहला मैच मिश्रित युगल का था जिसमें सात्विक रंकीरेड्डी और अश्विनी पोनप्पा की जोड़ी का सामना मलेशिया की पेंग सून चान और लियू यिंग गोह से था. भारतीय जोड़ी को यह मुकाबला जीतने
के लिए थोड़ा संघर्ष करना पड़ा. पहला गेम जीतने के बाद भारतीय जोड़ी दूसरा गेम हार गई. सत्विक और पोनप्पा की जोड़ी ने चान और यिंग की जोड़ी को 21-14, 15-21, 21-15 से मात दी.

दूसरा मैच पुरुष एकल वर्ग का था जहां भारत के वर्ल्ड नंबर-2 किदाम्बी श्रीकांत का सामना दिग्गज खिलाड़ी ली चोंग वेई से था. श्रीकांत ने पूर्व नंबर-1 वेई को सीधे गेमों में 21-17, 21-14 से मात दी. मुकाबले का तीसरा मैच पुरुष युगल वर्ग का था जहां भारत की जीत का दारोमदार सात्विक और चिराग शेट्टी की जोड़ी पर था. उनके सामने वी शेम गोह और वी कियोंग तान की जोड़ी थी. मलेशियाई जोड़ी ने भारतीय जोड़ी को 21-15, 22-20 से मात देकर अपनी टीम को पहली जीत दिलाई. चौथा मैच महिला एकल वर्ग का था जिसमें टीम की जिम्मेदारी लंदन ओलम्पिक की कांस्य पदक विजेता सायना पर थी. सायना ने कड़े मुकाबले में सोनिया चेह को तीन गेमों तक चले कड़े मुकाबले में 21-11, 19-21, 21-9 से मात देकर भारत की झोली में स्वर्ण डाला.

No comments:

Post a comment