मासिक करेंट अफेयर्स

20 April 2018

वेंकैया नायडू ने असम सरकार की कैशलेस हेल्थ योजना को लॉन्च किया

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने अटल अमृत अभियान नामक असम सरकार की एक स्वास्थ्य योजना को लॉन्च किया है, जो गरीबी रेखा से नीचे (BPL) और गरीबी रेखा से ऊपर (APL) परिवारों हेतु प्रत्येक व्यक्ति के लिए 2 लाख रुपये तक की मुफ्त चिकित्सा देखभाल प्रदान करती है. राज्य सरकार ने वित्तीय वर्ष 2018-19 में इस योजना के लिए 400 करोड़ रुपए तय किए हैं. नकद रहित योजना अटल अमृत अभियान में राज्य की आबादी का 92 प्रतिशत हिस्सा 5 लाख रूपये से कम वार्षिक आय वाला कवर होगा. इस स्वास्थ्य बीमा के अंतर्गत 3.2 करोड़ लोगों को गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा सेवा मुहैया कराई जाएगी.
 
इस अवसर पर उपराष्ट्रपति ने लोगो को संबोधित करते हुए कहा कि ऐसी स्वास्थ्य कवरेज योजनाओं को बनाने की जरूरत है, जो युवाओं, वृद्धजनों तथा दिव्यांग व्यक्तियों और गंभीर बीमारियों से जूझ रहे लोगों को कवर कर सकें. उपराष्ट्रपति ने निजी क्षेत्र से ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सा सेवा पहुंचाने के सरकारी प्रयासों में सहायक बनने को कहा. उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं की गुणवत्ता ऐसी होनी चाहिए, जो सेवा प्राप्त करने वालों के स्वास्थ्य में सुधार कर सके. उन्होंने कहा, 'लोगों को वित्तीय जोखिम से बचाया जाना चाहिए और यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि वित्तीय नुकसान के जोखिम पर लोगों को स्वास्थ्य सेवाओं का उपयोग न करना पड़े.' उपराष्ट्रपति ने कहा, 'आधुनिक जीवन शैली से अनेक गैर-संक्रमणकारी बीमारियां हो रही हैं. ऐसी बीमारियों को रोकने की जरूरत है क्योंकि यह बीमारियां युवाओं को चपेट में ले रही हैं.' 
 
उन्होंने कहा कि सभी हितधारकों की ओर से अनियमति जीवनशैली के खतरों, जंक फूड के उपयोग और शराब तथा तम्बाकू से होने वाले नुकसान के प्रति जागरूकता पैदा करने के प्रयास किए जाने चाहिए. उपराष्ट्रपति ने स्कूली पाठ्यक्रमों में बदलाव पर बल दिया और कहा, इनमें एनसीडी के पाठ्य भी शामिल करना चाहिए. उन्होंने कहा कि स्कूल और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए शारीरिक अभ्यास को अनिवार्य बनाया जाना चाहिए. जहां कही संभव हो बच्चों को योगासनों की शिक्षा दी जानी चाहिए. नायडू ने कहा, भारत के शेष भागों की तरह ही पूर्वोत्तर राज्य ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्साकर्मियों और चिकित्सा सुविधाओं का अभाव झेल रहे है. उन्होंने कहा कि यह खाई अधिक से अधिक मेडिकल कॉलेज खोलकर और ग्रामीण इलाकों में अधिक संख्या में स्वास्थ्य सुविधाएं स्थापित करके पाटी जा सकती है.

No comments:

Post a comment