मासिक करेंट अफेयर्स

18 August 2018

आनंदीबेन ने संभाला छत्तीसगढ़ राज्यपाल का अतिरिक्त प्रभार

मध्यप्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को छत्तीसगढ़ के राज्यपाल बलरामजी दास टंडन के निधन के बाद वहां का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है. उन्होंने 15 अगस्त 2018 को शपथ ग्रहण की. छत्तीतसगढ़ के राज्यपाल बलरामजी दास टंडन का 91 वर्ष की उम्र में निधन होने के पश्चात् यह पद रिक्त हो गया था. छत्तीसगढ़ के राज्यपाल की स्थायी नियुक्ति तक आनंदीबेन पटेल इस पद पर कार्यरत रहेंगी. उन्होंने छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश अजय कुमार त्रिपाठी के समक्ष शपथ ग्रहण की. 

आनंदीबेन पटेल का जन्म मेहसाणा जिले के विजापुर तालुका के खरोद गांव में, 21 नवम्बर 1941 को एक पाटीदार परिवार में हुआ था. वर्ष 1988 में आनंदीबेन भाजपा में शामिल हुईं. वे पहली बार उस समय चर्चा में आई जब उन्होंने अकाल पीड़ितों के लिए न्याय मांगने के कार्यक्रम में हिस्सा लिया. वर्ष 1998 के विधानसभा चुनावों में उन्हें शिक्षा मंत्री बनाया गया. वे 22 मई 2014 से 7 अगस्त 2016 तक गुजरात की मुख्यमंत्री भी रहीं.

क्या कहता है संविधान?
संविधान के भाग-6 के अंतर्गत अनुच्छेद 153 से 167 तक राज्य कार्यपालिका का वर्णन किया गया है. राज्य कार्यपालिका में मुख्यत: राज्यपाल, मुख्यमंत्री, मंत्रिपरिषद व राज्य का महाधिवक्ता शामिल होते हैं. राज्यपाल राज्य का संवैधानिक प्रमुख होता है व राज्यपाल केंद्र सरकार के प्रतिनिधि के रूप में भी कार्य करता है , इस प्रकार राज्यपाल दोहरी भूमिका निभाता है. सामान्यत: एक राज्य के लिए एक ही राज्यपाल होता है किंतु 7 वें संविधान संसोधन अधिनियम के अंतर्गत एक ही व्यक्ति को दो या दो से अधिक राज्यों का राज्यपाल नियुक्त किया जा सकता है.

No comments:

Post a comment