मासिक करेंट अफेयर्स

17 September 2018

संयुक्त राष्ट्र मानव विकास सूचकांक में भारत 130वें स्थान पर पहुंचा

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) की ओर से जारी मानव विकास रैकिंग (Human Development Index) में भारत को 130वां स्थान प्राप्त हुआ है. भारत को वर्ष 2018 की रैंकिंग में एक स्थान का सुधार मिला जिससे भारत 189 देशों के बीच 130वां नंबर मिला है. यह रिपोर्ट साल 2017 के विकास पर आधारित है. इससे पहले 2016 की रिपोर्ट में भारत 131वें स्थान पर था. यूएनडीपी इंडिया के कंट्री निदेशक फ्रांसिन पिकअप ने एचडीआई में सुधार करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कई योजनाओं का जिक्र किया है. इनमें बेटी बचाओ-पढ़ाओ, स्वच्छ भारत व मेक इन इंडिया आदि योजनाएं शामिल हैं. प्रधानमंत्री मोदी के समग्र विकास लक्ष्य ‘किसी को भी पीछे नहीं छोड़ेंगे’ को रिपोर्ट में विशेष तौर पर स्थान दिया गया है.

यूएनडीपी द्वारा नवीनतम मानव विकास रैंकिंग में भारत 189 देशों में 130 वें स्थान पर पहुंच गया है. 2017 के लिए भारत का एचडीआई मूल्य 0.640 है. इसी के चलते भारत को मानव विकास श्रेणी में रखा गया है. पिछले 27 वर्षों के दौरान इस मूल्य में 50 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. यह देश में गरीबी रेखा से नीचे रह रहे लाखों लोगों को उपर उठाने की उपलब्धि का संकेतक है.संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के अनुसार भारत में जीवन प्रत्याशा के मामले में स्थिति बेहतर हुई है. वर्ष 1990 से 2017 के बीच भारत में जन्म के वक्त जीवन प्रत्याशा में करीब 11 सालों की बढ़ोतरी हुई है. भारत में जीवन प्रत्याशा 68.8 साल है जबकि 2016 में यह 68.6 साल और 1990 में 57.9 साल थी. रिपोर्ट के अनुसार, स्कूली शिक्षा के मामले में भी स्थिति सुधरी है, जबकि 1990 और 2017 के बीच भारत की सकल राष्ट्रीय आय (GNI) प्रति व्यक्ति 266.6 प्रतिशत बढ़ी है. 

इसके अलावा 189 देशों में से 59 देशों को उच्च मानव विकास की श्रेणी में, जबकि 38 देशों को न्यूनतम मानव विकास की श्रेणी में शामिल किया गया है. हालाँकि, असमानताओं के कारण भारत के HDI मान में 26.8 प्रतिशत की कमी हुई है, जो दक्षिण एशियाई पड़ोसियों (क्षेत्र के लिये औसत नुकसान 26.1 प्रतिशत) के मुकाबले ज्यादा है. इस रिपोर्ट में लैंगिक असमानता सूचकांक के स्तर पर भारत 160 देशों की सूची में 127वें स्थान पर है और बांग्लादेश और पाकिस्तान के मुकाबले बेहतर स्थान हासिल किया है. 

नॉर्वे, स्विट्जरलैंड, ऑस्ट्रेलिया, आयरलैंड और जर्मनी एचडीआई रैंकिंग का नेतृत्व करते हुए शीर्ष पर हैं. वहीं, नाइजर, मध्य अफ्रीकी गणराज्य, दक्षिण सूडान, चाड और बरूंडी, स्वास्थ्य, शिक्षा और आय में राष्ट्रीय उपलब्धियों के एचडीआई माप में निम्नतम स्कोर पर हैं. दक्षिण एशिया में भारत का एचडीआई मूल्य इस क्षेत्र के लिए तय 0.638 के औसत से ऊपर है. सूची में बांग्लादेश 136वें और पाकिस्तान 150वें स्थान पर हैं. 189 देशों में से जिनके लिए एचडीआई की गणना की गई है वह 59 देश आज बहुत अच्छी हालत में हैं. केवल 38 देशों में गिरावट दर्ज की गई है. आठ साल पहले 2010 में ये आंकड़े क्रमश: 46 और 49 देश थे.

No comments:

Post a comment