मासिक करेंट अफेयर्स

15 September 2018

केंद्र सरकार ने नेशनल स्कॉलरशिप पोर्टल मोबाइल ऐप लॉन्च किया

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने 13 सितंबर 2018 को 'नेशनल स्कॉलरशिप पोर्टल मोबाइल ऐप' लॉन्च किया जिससे जरूरतमंद छात्रों को सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ मिल सकेगा. नेशनल स्‍कॉलरशिप पोर्टल मोबाइल ऐप निर्धन एवं कमजोर तबकों के छात्रों को एक सुगम, आसान और बाधा मुक्‍त छात्रवृत्ति प्रणाली सुनिश्चित करेगी. सभी छात्रवृत्तियां नेशनल स्‍कॉलरशिप पोर्टल के माध्‍यम से प्रत्‍यक्ष लाभ हस्‍तांतरण (डीबीटी) के तहत जरुरतमंद छात्रों के बैंक खातों में सीधे दी जाएगी. ऐप यह सुनिश्चित किया है कि दुहराव एवं राजस्‍व चोरी की कोई गुंजाइश न रहे. यह ऐप छात्रों के लिए लाभदायक साबित होगी एवं छात्रवृत्तियों के लिए एक पारदर्शी तंत्र को सुदृढ़ बनाने में सहायता करेगी. छात्र अपने मोबाइल ऐप पर विभिन्‍न छात्रवृत्तियों के बारे में सभी प्रकार की सूचनाएं प्राप्‍त कर सकेंगे. वे अपने घर में ही बैठ कर छात्रवृत्तियों के लिए आवेदन कर सकेंगे. छात्र अपने आवेदन, छात्रवृत्तियों के संवितरण आदि की स्थिति की जानकारी भी ले सकेंगे. दूरदराज के क्षेत्रों, पहाड़ी क्षेत्रों, पूर्वोत्‍तर के छात्रों को इससे सबसे अधिक लाभ पहुंचेगा.

 इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री मुख़्तार अब्बास नकवी ने कहा कि यह ऐप सुनिश्चित करेगी कि गरीब और कमजोर वर्गो के छात्रों को छात्रवृत्ति प्रणाली का तुरंत लाभ मिले. उन्होंने कहा कि छात्रों को इस ऐप के जरिए छात्रवृत्ति के बारे में सभी जानकारियां मिलेंगी. वह इसके जरिए छात्रवृत्ति के लिए आवेदन कर सकेंगे. छात्र इस ऐप में जरूरी दस्तावेजों को अपलोड भी कर सकते हैं और अपने आवेदन एवं छात्रवृत्ति वितरण की स्थिति के बारे में जानकारी पा सकते हैं. नकवी ने कहा कि नेशनल स्कॉलरशिप पोर्टल के जरिए डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (डीबीटी) के तहत छात्रवृत्ति की राशि सीधा जरूरतमंद छात्रों के अकाउंट में ट्रांसफर होगा जो यह सुनिश्चित करेगा कि किसी प्रकार की धोखाधड़ी न हो. 

मंत्री ने बताया कि केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय पूरी तरह से ऑनलाइन हो गया है जिससे बिचौलिये समाप्त हो गए हैं और हर कल्याणकारी योजना का लाभ सीधा जरूरतमंदों को मिल रहा है. मंत्री ने कहा कि पिछले चार वर्षो के दौरान अल्पसंख्यकों के गरीब और कमजोर वर्गो के लगभग तीन करोड़ छात्र विभिन्न छात्रवृत्ति कार्यक्रमों से लाभान्वित हुए हैं. लाभार्थियों में लगभग 1.63 करोड़ लड़कियां शामिल हैं. उन्होंने कहा कि मुस्लिम लड़कियों के बीच स्कूल छोड़ने की दर मोदी सरकार की जागरूकता और शैक्षिक सशक्तीकरण कार्यक्रमों के कारण 35-40 फीसदी हो गई है. यह पहले 70 प्रतिशत से अधिक थी. नकवी ने कहा, की हमारा लक्ष्य इसे शून्य प्रतिशत तक ले जाना है. एक पारदर्शी और परेशानी रहित छात्रवृत्ति प्रणाली ने इस प्रयास में मदद की है और नया मोबाइल ऐप इस पारदर्शी तंत्र को मजबूत करने में मदद करेगा.

No comments:

Post a comment