मासिक करेंट अफेयर्स

17 September 2018

भारत और सर्बिया ने द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देने हेतु दो समझौते पर हस्ताक्षर किए

भारत के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और सर्बिया के प्रेजिडेंट अलेक्जेंडर वुसिस ने 15 सितंबर 2018 को द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देने के लिए दो समझौते पर हस्ताक्षर किए. इसके बाद दोनों नेताओं ने आध्यात्मिक गुरु स्वामी विवेकानंद और महान वैज्ञानिक निकोला टेसला की याद में डाक टिकट जारी किए. सर्बिया के राष्ट्रपति और भारत के उप राष्ट्रपति ने बेलग्रेड में संयुक्त रूप से भारत-सर्बिया व्यापार मंच की बैठक में हिस्सा लिया. दोनों नेताओं के बीच बातचीत में कई मुद्दे उठे. दोनों देशों के नेताओं ने आर्थिक और सांस्कृतिक संबंधों के क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग को बढ़ाने पर सहमति जतायी. दोनों देशों के बीच गैर-गठबंधन आंदोलन के सह-संस्थापक के रूप में ऐतिहासिक और विशेष संबंध हैं.

भारत और सर्बिया ने हर तरह के आतंकवाद से लड़ने का संकल्प व्यक्त करते हुए रक्षा विनिर्माण, सूचना प्रौद्योगिकी और अवसंरचना क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने का फैसला किया. दोनों देशों के बीच पौधों के स्वास्थ्य और उन्हें बीमारियों से बचाने तथा संशोधित हवाई सेवा समझौते पर हस्ताक्षर किये गये. पौधों के स्वास्थ और उन्हें बीमारियों से बचाने के क्षेत्र में सहयोग के समझौते से दोनों देशों के बीच कृषि उत्पादों का व्यापार बढ़ेगा. इसके साथ ही, भविष्य में सर्बिया और भारत के बीच सीधी विमान सेवा शुरू होने से व्यापार और पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा. 

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने सर्बिया की राष्ट्रीय असेंबली के विशेष सत्र को भी संबोधित किया. उन्होंने कहा कि भारत और सर्बिया का संयुक्त राष्ट्र और दूसरे बहुपक्षीय मंचों पर काफी करीबी सहयोग रहा है. हमारे बीच इस बात पर सहमति बनी है कि संयुक्त राष्ट्र में सुधार करने की जरूरत है, ताकि इसमें आज की वास्तविकता को प्रतिबिंबित किया जा सके और वर्तमान वैश्विक चुनौतियों से निपटा जा सके. नायडू ने सर्बिया पैलेस में वुसिस से व्यापार, रक्षा और सूचना प्रौद्योगिकी सहित कई क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग मजबूत बनाने पर बात की. उन्होंने कहा कि दोनों देशों के संबंध मुख्य हितों के मुद्दों पर पारस्परिक विश्वास, आपसी समझ और एक-दूसरे के समर्थन पर आधारित हैं. उन्होंने आपसी हितों के क्षेत्र में सहयोग और तेज करने पर सहमति जतायी. नायडू ने कहा कि आर्थिक सहयोग के क्षेत्र में दोनों पक्ष कृषि, खाद्य प्रसंस्करण, रक्षा विनिर्माण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, सूचना प्रौद्योगिकी, ढांचागत क्षेत्र, पर्यटन और औषधि क्षेत्र में सहयोग को बढ़ाने पर सहमत हुए हैं.

बता दें की उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने भारत और सर्बिया के बीच राजनयिक संबंध स्थापित होने 70 साल पूरे हुए होने के उपलक्ष्य में 14 सितंबर 2018 को सर्बिया पहुंचे थे. सर्बिया पहुंचने पर उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू का सर्बिया पैलेस में वहां के राष्ट्रपति अलेक्जेंडर वुसिक ने गर्मजोशी से स्वागत किया. वेंकैया नायडू इस समय सर्बिया, माल्टा और रोमानिया जैसे यूरोपीय देशों के दौरे पर हैं. उनकी यात्रा का मकसद आर्थिक, पर्यावरण, व्यापार और सांस्कृतिक क्षेत्र में इन देशों के साथ भारत के द्विपक्षीय सहयोग को बढ़ावा देना है. वेंकैया नायडू 20 सितंबर 2018 तक करीब एक सप्ताह की यात्रा के दौरान तीनों देशों के राष्ट्राध्यक्षों से मुलाक़ात करेंगे.

No comments:

Post a comment