मासिक करेंट अफेयर्स

08 September 2018

अंतरराष्ट्रीय साक्षरता दिवस

विश्वभर में 08 सितंबर 2018 को अंतरराष्ट्रीय साक्षरता दिवस मनाया गया. इस वर्ष का विषय था –साक्षरता और कौशल विकास (Literacy and skills development). मानव विकास और समाज के लिये उनके अधिकारों को जानने और साक्षरता की ओर मानव चेतना को बढ़ावा देने के लिये अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस मनाया जाता है. सफलता और जीने के लिये खाने की तरह ही साक्षरता भी महत्वपूर्णं है. गरीबी को मिटाना, बाल मृत्यु दर को कम करना, जनसंख्या वृद्धि को नियंत्रित करना, लैंगिक समानता को प्राप्त करना आदि को जड़ से उखाड़ना बहुत जरुरी है. साक्षरता में वो
क्षमता है जो परिवार और देश की प्रतिष्ठा को बढ़ा सकता है. 

ये उत्सव लगातार शिक्षा को प्राप्त करने की ओर लोगों को बढ़ावा देने के लिये और परिवार, समाज तथा देश के लिये अपनी जिम्मेदारी को समझने के लिये मनाया जाता है. इसका उद्देश्य व्यक्तिगत, सामुदायिक और सामाजिक रूप से साक्षरता के महत्व पर प्रकाश डालना है. यह उत्सव दुनियाभर में मनाया जाता है. पूरी दुनिया में साक्षरता बढ़ाने के लिए इसे मनाया जाता है. आज भी विश्व में अनेक लोग निरक्षर है. इस दिवस को मनाने का मुख्य लक्ष्य विश्व में सभी लोगो को शिक्षित करना है. बच्चे, वयस्क, महिलाओं और बूढों को साक्षर बनाना ही इसका मुख्य लक्ष्य है.

भारत में साक्षरता: वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार, भारत में 22 प्रतिशत लोग अनपढ़ हैं. केरल भारत का सबसे अधिक साक्षर राज्य है जिसमें 93.91 लोग शिक्षित हैं, इसके बाद लक्षद्वीप में 92.28 प्रतिशत, मिज़ोरम में 91.58 प्रतिशत, त्रिपुरा में 87.75 प्रतिशत एवं गोवा में 87.40 प्रतिशत लोग शिक्षित हैं. बिहार एवं तेलंगाना में सबसे कम लोग शिक्षित हैं, वहां क्रमशः 63.82 प्रतिशत एवं 66.50 प्रतिशत लोग शिक्षित हैं. वर्ष 2014 में भारत की साक्षरता दर में 10 प्रतिशत बढ़ोतरी दर्ज की गयी. धार्मिक आधार पर आंकड़ों के अनुसार, भारत के मुस्लिमों में सबसे अधिक 42.72 प्रतिशत लोग अशिक्षित हैं. हिन्दुओं में 36.40 प्रतिशत, सिखों में 32.49 प्रतिशत एवं बौद्ध लोगों में 28.17 प्रतिशत एवं ईसाईयों में 25.66 प्रतिशत लोग अशिक्षित हैं. जैन सबसे अधिक शिक्षित हैं, इनमें 86.73 प्रतिशत लोग शिक्षित हैं जबकि 13.57 प्रतिशत लोग अशिक्षित हैं.भारत में लगभग 61.6 प्रतिशत पुरुष एवं 38.4 प्रतिशत महिलाएं स्नातक स्तर से ऊपर पढ़े हैं.

अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस का इतिहास: विश्व कांग्रेस के शिक्षा मंत्रियों ने वर्ष 1965 में इसी दिन तेहरान में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शिक्षा कार्यक्रम पर चर्चा करने के लिए पहली बार बैठक की थी. यूनेस्को ने 7 नवंबर 1965 में ये फैसला किया कि अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस हर वर्ष 8 सितंबर को मनाया जायेगा जोकि पहली बार 1966 से मनाना शुरु हुआ। व्यक्ति, समाज और समुदाय के लिये साक्षरता के बड़े महत्व को ध्यान दिलाने के लिये पूरे विश्व भर में इसे मनाना शुरु किया गया। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के लिये वयस्क शिक्षा और साक्षरता की दर को दुबारा ध्यान दिलाने के लिये इस दिन को खासतौर पर मनाया जाता है.

No comments:

Post a Comment