मासिक करेंट अफेयर्स

22 September 2018

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा के लिए दो ऑनलाइन पोर्टल लॉन्च किये

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने 20 सितंबर 2018 को नई दिल्ली में महिला सुरक्षा सुदृढ़ करने के लिए दो अलग-अलग पोर्टल लॉन्च किए. इनमें एक यौन आपराधियों के डेटा बेस का है और दूसरा महिलाओं और बच्‍चों के खिलाफ साइबर अपराध पर रोक लगाने पर आधारित है. केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने दोनों पोर्टल का उद्घाटन किया. यौन अपराधियों के राष्‍ट्रीय डेटा बेस का रख-रखाव राष्‍ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्‍यूरो करेगा और इसमें देशभर के यौन अपराधियों की जानकारी इकट्ठा की जाएगी. यह डेटा बेस जांच एजेंसियों के लिए उपलब्‍ध होगा, जो जांच तथा निगरानी के लिए इसका इस्‍तेमाल
करेंगी. इसमें दुष्‍कर्म, सामूहिक दुष्‍कर्म, पॉक्‍सों और छेड़खानी के अपराधियों के ब्‍यौरे दर्ज होंगे. 

इसके अलावा महिलाओं और बच्‍चों को ऑनलाइन अश्‍लील सामग्री भेजने वालों की शिकायत करने वालों के लिए www.cybercrime.gov.in पोर्टल शुरू किया गया है. पोर्टल “cybercrime.gov.in” चाइल्ड पोर्नोग्राफी, बाल यौन उत्पीड़न सामग्री, दुष्कर्म एवं सामूहिक दुष्कर्म जैसी यौन रूप से स्पष्ट सामग्री से संबंधित आपत्तिजनक ऑनलाइन कंटेंट पर नागरिकों से शिकायतें प्राप्त करेगा. इस अवसर पर राजनाथ सिंह ने कहा कि पीड़ितों को त्वरित न्याय सुनिश्चित करने के लिए पुलिस को जमीनी स्तर पर आने वाली चुनौतियों का सामना करना होगा. इस मौके पर महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने जांच एजेंसियों से शेल्‍टर होम में रहने वाले बच्‍चों की सुरक्षा पर विशेष ध्‍यान देने को कहा है.

गृह मंत्रालय ने इन दोनों पोर्टल को लॉन्च करने से पहले ही साइबर अपराध जांच को सुदृढ़ बनाने के लिए साइबर फोरेंसिक व प्रशिक्षण प्रयोगशालाओं की स्थापना तथा पुलिस अधिकारियों, सरकारी वकीलों तथा न्यायिक अधिकारियों की क्षमताओं में वृद्धि के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन करने हेतु राज्यों/संघ शासित प्रदेशों को 94.5 करोड़ रुपये का अनुदान जारी कर दिया है. सरकार ने महिलाओं एवं बच्चों के खिलाफ अपराध रोकने के लिए कई कदम उठाए हैं. इनमें सख्त सजा का प्रावधान एवं जांच में सुधार लाने के लिए आधुनिक फोरेंसिक सुविधाओं का सृजन, गृह मंत्रालय मामले में महिला सुरक्षा प्रभाग की स्थापना एवं महिलाओं की सुरक्षा के लिए सुरक्षित नगर परियोजनाएं शुरू करना शामिल हैं.

No comments:

Post a comment