मासिक करेंट अफेयर्स

19 September 2018

जापान ने दक्षिण चीन सागर में पहली बार पनडुब्बी अभ्यास किया

जापान ने पहली बार विवादित दक्षिण चीन सागर में पनडुब्बी अभ्यास किया है. यह सैन्य अभ्यास हालांकि चीन के दावे वाले जलक्षेत्र से दूर किया गया. मैरीटाइम सेल्फ डिफेंस फोर्स की पनडुब्बी कुरोशियो ने अन्य जंगी जहाजों के साथ दक्षिण चीन सागर में सैन्य अभ्यास किया. इस सैन्य अभ्यास में कागा हेलीकॉप्टर पोत समेत जापानी युद्धपोतों ने भी हिस्सा लिया. यह पोत इस समय दो महीने के लिए दक्षिण-पूर्व एशिया और हिद महासागर क्षेत्र की यात्रा पर है. यह पहला मौका है जब जापानी नौसेना ने दक्षिण चीन सागर क्षेत्र में सैन्य अभ्यास शुरू किया है. रक्षा मंत्रालय ने एक अन्य बयान में कहा कि 80 चालकों के साथ कुरोशियो पनडुब्बी 17 सितम्बर 2018 से केम रान्ह खाड़ी के समीप वियतनाम के सामरिक नौसेना ठिकाने पर पांच दिनों तक रहेगा.

अधिकतर समुद्री इलाके पर अपना दावा करने वाले चीन ने जापान को चेतावनी दी है कि वह ऐसा कोई कदम ना उठाए जिससे इलाके में शांति और स्थिरता को नुकसान पहुंचे. इस दावे को मजबूती देने के लिए उसने कई कृत्रिम द्वीपों पर सैन्य ठिकाने भी बना रखे हैं. ब्रूनेई, मलेशिया, फिलीपीन, ताईवान और वियतनाम के अपने-अपने दावों के बावजूद चीन संसाधन संपन्न दक्षिण चीन सागर के ज्यादातर हिस्से पर अपना दावा करता है. इस क्षेत्र में स्वतंत्र आवाजाही सुनिश्चित करने के लिए अमेरिका भी सैन्य अभ्यास कर चुका है. पिछले माह (अगस्त 2018) ब्रिटेन की नौसेना का युद्धपोत एचएमएस एल्बियन दक्षिण चीन सागर में चीन के दावे वाले द्वीपों के पास से गुजरा था. दक्षिण चीन सागर से हर साल पोतों के जरिए पांच खरब अमेरिकी डॉलर का कारोबार होता है. साल 2012 में चीन द्वारा फिलीपीन से जब्त किए जाने के बाद से ही स्कारबॉरो शोल को लेकर क्षेत्र में काफी तनाव की स्थिति बनी हुई है.

No comments:

Post a comment