मासिक करेंट अफेयर्स

12 September 2018

प्रधानमंत्री मोदी ने आशा और आंगनवाड़ी श्रमिकों के पारिश्रमिक में वृद्धि की घोषणा की

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 11 सितम्बर 2018 को आशा और आंगनवाड़ी योजना से जुड़े लोगों को मिलने वाले पारिश्रमिक में वृद्धि की घोषणा की है. प्रधानमंत्री ने देश की आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं से सोशल मीडिया के जरिए सीधे संवाद किया. प्रधानमंत्री ने आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का मानदेय 3000 रूपये से बढ़ा कर 4500 रूपये करने का फैसला किया है. नरेन्द्र मोदी ऐप और वीडियो लिंक के माध्यम से आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री ने बताया कि जिन आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का मानदेय 2250 रूपये था, उन्हें अब 3500 रूपये मिलेगा. आंगनवाड़ी सहायिकाओं को 1500 रूपये के बजाय 2250 रूपये मिलेंगे.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, यह बढ़ा हुआ मानदेय अगले महीने 1 अक्टूबर से लागू हो जायेगा. यानि कि नवंबर से नया पैसा या तनख्वाह या मानदेय मिलेगा. उन्होंने जोर दिया कि यह बढ़ी हुई राशि केंद्र सरकार के हिस्से की है. मोदी ने बताया कि आशा कार्यकर्ताओं की प्रोत्साहन राशि को दोगुना करने के अलावा यह भी फैसला किया गया है कि उन्हें प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा और प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना मुफ्त दी जाएंगी. पीएम ने कहा कि इसका मतलब ये हुआ कि दो-दो लाख रूपये की इन दोनों बीमा योजना के तहत कोई भी प्रीमियम नहीं देना होगा और यह खर्च सरकार स्वयं उठायेगी. प्रधानमंत्री ने यह भी घोषणा की कि विभिन्‍न तकनीकों जैसे कि कॉमन एप्‍लीकेशन सॉफ्टवेयर (आईसीडीएस-सीएएस) का उपयोग करने वाले आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिका को अतिरिक्‍त प्रोत्‍साहन प्राप्‍त होंगे. 250 रुपये से लेकर 500 रुपये तक के प्रोत्‍साहन आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिका के प्रदर्शन पर आधारित होंगे. 

प्रधानमंत्री ने देश भर में आशा कार्यकर्ताओं, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और एएनएम (सहायिका नर्स मिडवाइफ) की टीमों के साथ संवाद किया. उन्‍होंने आपस में मिल-जुल कर काम करने, अभिनव साधनों एवं प्रौद्योगिकी का इस्‍तेमाल करने, स्‍वास्‍थ्‍य एवं पोषण सेवाएं बेहतर ढंग से सुलभ कराने और ‘पोषण’ अभियान के लक्ष्‍य की प्राप्ति अर्थात देश भर में कुपोषण में कमी करने के उद्देश्‍य से अथक प्रयास करने के लिए इन कार्यकर्ताओं की सराहना की. प्रधानमंत्री ने कहा की सरकार का ध्यान पोषण और गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने पर है. टीकाकरण की प्रक्रिया तेज गति से चल रही है. इससे महिलाओं और बच्चों को खासी मदद मिलेगी. अब तक 3 करोड़ से ज्यादा बच्चों और 85 लाख से ज्यादा महिलाओं का टीकाकरण कराया गया है.

No comments:

Post a Comment