मासिक करेंट अफेयर्स

04 October 2018

नोबल पुरस्कार 2018: कैंसर के इलाज में बड़ी खोज करने वाले दो वैज्ञानिकों को मिला नोबेल पुरस्कार

विश्व के प्रतिष्ठित पुरस्कारों में से एक नोबेल पुरस्कार के साल 2018 के विजेताओं का ऐलान हो गया है. इस साल की पहली घोषणा चिकित्सा के क्षेत्र में हुई है वहीं इस बार साहित्य का नोबेल पुरस्कार नहीं दिए जाने का फैसला किया गया है. चिकित्सा के क्षेत्र नोबेल पुरस्कार दो बहुत ही प्रतिभाशाली वैज्ञानिकों को दिया गया है. इस बार नोबेल पुरस्कार की खासियत यह है कि चिकित्सा के क्षेत्र में यह पुरस्कार पहली बार दो लोगों को सामूहिक तौर पर दिया जा रहा है. साल 2018 के नोबेल पुरस्कार विजेताओं के नाम जेम्स पी एलिसन और
तासुकू होंजो है. यह दोनों ही एक वैज्ञानिक हैं और कैंसर थेरपी की खोज के लिए यह सम्मान दिया जा रहा है. इन दोनों ही वैज्ञानिकों ने कैंसर जैसी लाइलाज बीमारी के इलाज के लिए एक ऐसी थेरपी विकसित की है जिससे शरीर की कोशिकाओं में इम्यून सिस्टम को कैंसर ट्यूमर से लड़ने के लिए मजबूत बनाया जा सकेगा. इसमें पुरस्कार स्वरुप 7,70,000 पाउंड की राशि दी जाती है.

बता दें कि, नोबेल फाउंडेशन की ओर से स्वीडन के वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल की याद में यह पुरस्कार दिया जाता है. साल 1901 से यह पुरस्कार देना शुरू किया गया था. नोबेल पुरस्कार शांति, साहित्य, भौतिकी, रसायन, चिकित्सा विज्ञान और अर्थशास्त्र के क्षेत्र में दिया जाने वाला विश्व का सर्वोच्च पुरस्कार है. इस पुरस्कार के रूप में विजेताओं को प्रशस्ति-पत्र के साथ 14 लाख डालर की राशि प्रदान की जाती है. इनमें से केवल 12 महिलाएं हैं, जिनमें से केवल एक महिला बार्बरा मेकक्लिंटन ने यह पुरस्कार किसी के साथ शेयर नहीं किया. इन्हें साल 1983 में इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. अभी तक फिलहाल किसी भी भारतीय को चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार नहीं मिला है. इस बार साहित्य के क्षेत्र में नोबस पुरस्कार नहीं दिया जा रहा है, पिछले 70 साल में ऐसा पहली बार है जब साहित्य का नोबेल पुरस्कार नहीं दिया जाएगा.

No comments:

Post a comment