मासिक करेंट अफेयर्स

16 October 2018

तुषार मेहता भारत के नये सॉलिसिटर जनरल नियुक्त किये गये

देश के वरिष्ठ वकील तुषार मेहता को 10 अक्टूबर 2018 भारत का नया सॉलिसिटर जनरल नियुक्त किया गया है. वर्तमान में वह एडिशनल सॉलिसिटर जनरल हैं. तुषार मेहता यह पद रंजीत कुमार के स्थान पर संभालेंगे. रंजीत कुमार ने दिसंबर 2017 में इस पद से इस्तीफ़ा दिया था. दरअसल बीजेपी के सत्ता में आते ही साल 2014 से तुषार मेहता भारत के एडिशनल सॉलिसिटर जनरल के पद पर अपनी सेवाएं दे रहे थे. इसके अलावा मेहता सूचना एक्ट सेक्शन 66ए में केंद्र सरकार के सामने पक्ष रख चुके हैं. पिछली साल से ही 20 अक्टूबर 2017 के बाद जब रंजीत कुमार ने इस्तीफा दिया था इसके बाद से ही ये पद खाली पड़ा था.

बीती साल रंजीत कुमार ने बिना कारण बताए ही अपने पद से इस्तीफा देने का एलान कर दिया था. जिसके बाद से ही केंद्र सरकार ने केके वेणुगोपाल को अटार्नी जनरल के पद पर नियुक्त कर दिया था हालांकि सॉलिसिटर जनरल के पद पर नियुक्ति नहीं हो पाई थी. इसके बाद तुषार मेहता के नाम को लेकर अटकलें अक्सर लगाई जाती रहीं, लेकिन आधिकारिक तौर पर साल भर तक इस पद पर कोई नियुक्ति नहीं हो सकी. आपको बता दें कि तुषार मेहता ने 80 के दशक में वकालत शुरू की थी और अभी अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे थे.

सॉलिसिटर जनरल प्रधान पब्लिक प्रोसेक्यूटर होता है. सॉलिसिटर जनरल केंद्र सरकार का दूसरा सबसे बड़ा विधि अधिकारी होता है. वह महान्यायवादी (अटॉर्नी जनरल) के सहायक के रूप में कार्य करता है, जबकि अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल, सॉलिसिटर जनरल की सहायता करता है. सॉलिसिटर जनरल वह कानूनी प्रतिनिधि होता है जो अदालत और कानूनी मामलों में सरकार का पक्ष रखता है. भारत के पहले सॉलिसिटर जनरल सी.के. दफ्तरी थे. अटॉर्नी जनरल सरकार का मुख्य कानूनी सलाहकार तथा सर्वोच्च न्यायालय में सरकार का प्रमुख वकील होता है. अटॉर्नी जनरल की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा संविधान के अनुच्छेद 76(1) के तहत की जाती है.

No comments:

Post a comment