मासिक करेंट अफेयर्स

10 October 2018

विश्व आर्थिक मंच द्वारा 'फ्यूचर ऑफ़ वर्क इन इंडिया' रिपोर्ट जारी की गई

विश्व आर्थिक मंच ने ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन (ORF) के सहयोग से ‘फ्यूचर ऑफ वर्क इन इंडिया’ रिपोर्ट पेश की है. इस रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में काम की अनिश्चितता है लेकिन भारत में भरपूर अवसर हैं. यह रिपोर्ट भारत में रोज़गार सृजन, कार्यस्थल, रोज़गार के रुझानों और संबंधों तथा काम की प्रकृति को लेकर परिवर्तनीय प्रौद्योगिकी के प्रभाव पर प्रकाश डालती है. इसके अलावा, इस रिपोर्ट में पाया गया कि भारत में कंपनियाँ भविष्य को लेकर आशावादी हैं और नई प्रौद्योगिकियों तथा डिजिटलीकरण द्वारा प्रस्तुत की गई उन संभावनाओं के लिये खुली हैं जो नवाचार को प्रोत्साहित करने और नई तकनीक को अपनाने तथा विकास एवं प्रगति में तेज़ी लाने वाली हों.

रिपोर्ट में पाया गया है कि भारत में उच्चतम संवृद्धि वाली कंपनियाँ पुरुषों को भर्ती करना पसंद करती हैं. इस प्रकार प्रौद्योगिकी पर आधारित यह रोज़गार की वृद्धि महिलाओं से अधिक पुरुषों को लाभ देती है जो लैंगिक समानता तथा महिला सशक्तीकरण की दिशा में भारत के अभियान पर चिंता करने का बड़ा कारण बनती है. रिपोर्ट में कहा गया है कि एक तिहाई कंपनियों में कोई भी महिला कर्मचारी नहीं है. भारत में रोज़गार सृजन काफी तीव्र गति से हो रहा है लेकिन देश की केवल 26 प्रतिशत महिलाएं ही कार्यक्षेत्र में प्रवेश कर रही हैं, यह वैश्विक स्तर से काफी नीचे है. रिपोर्ट के अनुसार प्रत्येक तीन में से एक कंपनी महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों की काम पर रखने में प्राथमिकता देती है जबकि दस में से एक कंपनी ही महिलाओं को काम पर रखने के लिए प्राथमिकता देती है. रिटेल सेक्टर में 45 प्रतिशत कंपनियों में कोई महिला कर्मचारी नहीं है, जबकि परिवहन और लॉजिस्टिक में 36 प्रतिशत कंपनियों में कोई भी महिला कर्मचारी कार्यरत्त नहीं है.

फ्यूचर ऑफ़ वर्क इन इंडिया रिपोर्ट के अनुसार फ्रीलान्स क्षेत्र में भी 75 प्रतिशत पुरुष ही कार्यरत हैं. इस क्षेत्र में पाया गया है कि फ्रीलान्स पुरुषों को महिलाओं की अपेक्षा 30 प्रतिशत अधिक सैलरी दी जाती है. इस सर्वेक्षण यह भी पाया गया कि केवल एक चौथाई कंपनियां ही महिला कर्मचारियों को मातृत्व अवकाश की सुविधा प्रदान करती हैं. आब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन द्वारा इस रिपोर्ट के लिए 700 सूक्ष्म आकार की कंपनियों का सर्वेक्षण किया गया. इन कंपनियों में 25,000 से अधिक कर्मचारी कार्य करते हैं. इस रिपोर्ट के लिए वस्त्र उद्योग, लोजिस्टिक्स, परिवहन तथा बैंकिंग व वित्तीय सेवा क्षेत्र व रिटेल कंपनियों का सर्वेक्षण किया गया. इस रिपोर्ट में टेक्नोलॉजी का कार्यबल पर प्रभाव का अध्ययन में किया गया, इस रिपोर्ट में सामने आया की मशीने मानव कार्यबल का स्थान ले रही हैं, इससे जॉबलेस ग्रोथ होने के आसार हैं.

1 comment:

  1. Sarkari Naukri Daily is Top Sarkari Jobs Portal For Banking, Railway Naukari, Public Sector, Research Sarkari Naukri 2018 2019 in India

    ReplyDelete