मासिक करेंट अफेयर्स

12 November 2018

केन्द्रीय मंत्री अनंत कुमार का बेंगलुरु में निधन

केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार का 12 नवंबर 2018 को सुबह बेंगलुरु के एक अस्पताल में निधन हो गया. 59 साल के अनंत कुमार काफी लंबे समय से बीमार थे उन्हें कैंसर था. अनंत कुमार के निधन पर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सहित कई केंद्रीय मंत्रियों ने शोक व्यक्त किया है. उनका लंदन और अमेरिका में भी इलाज चला था. पिछले कई दिनों से उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था. उनके निधन पर कर्नाटक में तीन दिन का शोक घोषित किया गया है. यहीं नहीं कर्नाटक में एक दिन की छुट्टी भी घोषित की गई है. गृह मंत्रालय ने कहा है कि अनंत कुमार के निधन पर देशभर में आज राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा. 

कर्नाटक की राजनीति में उनका अहम योगदान था और वह बेंगलुरु दक्षिण से 1996 से ही लगातार 6 बार सांसद रहे थे. वह केंद्र सरकार में दो-दो मंत्रालयों की अहम जिम्मेदारी संभाल रहे थे. प्रधानमंत्री ने अपने शोक सन्देश में लिखा है, 'मेरे अहम सहयोगी और दोस्त, श्री अनंत कुमार जी के निधन से बेहद दुखी हूं. वह एक असाधारण नेता थे, जिन्होंने एक छोटी उम्र में सार्वजनिक जीवन में प्रवेश किया और अत्यंत परिश्रम और करुणा के साथ समाज की सेवा की. उन्हें हमेशा अपने अच्छे काम के लिए याद किया जाएगा.'

अनंत कुमार का जन्म 22 जुलाई 1959 को हुआ था. वे 2009 में हुए आम चुनाव में कर्नाटक के बैंगलुरू दक्षिण चुनाव क्षेत्र से 15 वीं लोकसभा के लिए सदस्य निर्वाचित हुए थे. अनन्त कुमार 1996 से बेंगलुरु दक्षिण लोकसभा सीट से सांसद थे. वर्तमान केंद्र सरकार में उन्हें रसायन और उर्वरक मंत्रालय और संसदीय मामलों का मंत्री पद मिला. इससे पूर्व वे 19 मार्च 1998 से 13 अक्टूबर 1999 तक अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में नागरिक उड्डयन मंत्री भी रहे थे. वह शुरुआत में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े और छात्र राजनति से होते हुए भारतीय जनता पार्टी में आए थे. कुछ समय से वे कैंसर से पीड़ित थे. 12 नवम्बर 2018 को आकस्मिक रूप से उनकी स्थिति बिगड़ने पर उनका निधन हो गया.

No comments:

Post a comment