मासिक करेंट अफेयर्स

24 January 2019

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल को वित्त मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया

केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल को 23 जनवरी 2019 को वित्त मंत्रालय और कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार सौंप दिया गया है. दरअसल, केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली अस्वस्थ हैं और इलाज के लिए विदेश में हैं. इस वजह से उनके मंत्रालयों का प्रभार पीयूष गोयल को दिया गया है. वे स्वस्थ होने तक बिना प्रभार के मंत्री बने रहेंगे. अरुण जेटली 13 जनवरी को इलाज के लिए अमेरिका रवाना हुए थे. वित्त मंत्री अरुण जेटली की अस्वस्थता की वजह से केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल 01 फरवरी 2019 को अंतरिम बजट भी पेश कर सकते हैं. बीजेपी की अगुवाई वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार को एक फरवरी को अपने मौजूदा कार्यकाल का अंतिम बजट पेश करना है.

राष्ट्रपति भवन की ओर से जारी सूचना में कहा गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सलाह पर वित्त मंत्रालय और कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार अस्थायी रूप से पीयूष गोयल को सौंपा गया है. पीयूष गोयल के पास पहले से जो मंत्रालय हैं वे उसका कामकाज भी देखते रहेंगे. ये दोनों मंत्रालय अरुण जेटली के पास था. केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल को दूसरी बार वित्त मंत्रालय की अतिरिक्त जिम्मेदारी दी गई है. पिछले साल मई में अरुण जेटली के किडनी ट्रांसप्लांट के कारण उन्होंने कुछ दिनों तक रेल मंत्रालय के साथ-साथ वित्त मंत्रालय का कार्यभार भी संभाला था.

पीयूष गोयल का जन्म 13 जून 1964 को मुंबई, महाराष्ट्र में हुआ था. वें भूतपूर्व केन्द्रीय मंत्री स्व. वेदप्रकाश गोयल के पुत्र हैं. पीयूष गोयल को केंद्र सरकार के कार्यकुशल मंत्रियों में गिना जाता है. वे अब तक मोदी सरकार में ऊर्जा मंत्री का स्वतंत्र प्रभार संभाल रहे तथा भाजपा में भी कई अहम जिम्मेदारियां निभा चुके हैं. वे राज्यसभा सदस्य हैं और पार्टी के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष की जिम्मेदारी निभा चुके हैं. उन्हें भाजपा की सूचना संचार अभियान समिति की अगुवाई करने का अनुभव है. वे वर्ष 2014 के लोकसभा चुनावों के लिए सोशल मीडिया अभियान समेत पार्टी के प्रचार प्रसार अभियान की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं. वे चार्टर्ड एकाउंटेंट हैं और प्रबंधन के मुद्दों पर कई बड़े कॉर्पोरेट संस्थानों को सलाह दे चुके हैं. वे लगभग तीन दशक के राजनीतिक करियर में भाजपा में विभिन्न पदों पर अहम भूमिका निभा चुके हैं. वे पार्टी की राष्ट्रीय कार्यसमिति के सदस्य भी हैं.

No comments:

Post a comment