मासिक करेंट अफेयर्स

21 January 2019

वाराणसी में प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन, सुषमा-योगी ने किया उद्घाटन

प्रवासी भारतीय दिवस का 15 वां संस्करण 21 जनवरी 2019 को उत्तर प्रदेश के वाराणसी में शुरू हो गया है. प्रवासी भारतीय दिवस (Pravasi Bhartiya Divas 2019) के लिए इस बार वाराणसी में बेहद खास आयोजन किया गया है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी के बड़ा लालपुर स्थित ट्रेड फैसिलिटी सेंटर के अटल सभागार में आयोजित समारोह में आयोजन का उद्घाटन किया. प्रवासी भारतीय दिवस समारोह वाराणसी में 21 से 23 जनवरी तक चलेगा. प्रवासी भारतीय दिवस का मकसद भारत के विकास में प्रवासी भारतीयों के योगदान को पहचान दिलाने से है. प्रवासी भारतीय दिवस सम्‍मेलन 2019 का विषय है- नये भारत के निर्माण में भारतीय प्रवासियों की भूमिका.

इस सम्‍मेलन में विदेश में रह रहे उन भारतीयों को आमंत्र‍ित कर सम्मानित किया जाता है जिन्‍होंने अपने-अपने क्षेत्र में विशेष उपलब्‍धि हासिल कर भारत का नाम विश्व पटल पर गौरवान्‍वित किया हो. देश का नाम रौशन करने वाले ऐसे लोगों को राष्‍ट्रपति के हाथों प्रवासी भारतीय सम्‍मान से नवाजा जाता है. इसके अलावा इस सम्‍मेलन में प्रवासी भारतीयों से जुड़े मामलों और समस्‍याओं पर भी विचार किया जाता है. यह आयोजन विदेशों में रहने वाले भारतीय समुदाय को सरकार के साथ काम करने और अपनी जड़ो से दोबारा जुड़ने का मंच उपलब्‍ध कराता है. सम्‍मेलन के दौरान भारत और विदेश दोनों में विभिन्‍न क्षेत्रों में महत्‍वपूर्ण योगदान देने वाले चुने गये भारतीय प्रवासियों को प्रवासी भारतीय सम्‍मान प्रदान किये जाते हैं.

ये प्रवासी भारतीय दिवस का 15वां आयोजन है, इससे पहले प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन 9 जनवरी को या उसके आस-पास होता आया था. प्रवासी दिवस की शुरुआत वर्ष 2003 से हुई थी. इस मौके पर हर साल भारत सरकार अमूमन तीन दिवसीय सम्‍मेलन का आयोजन करती है. पूर्व भारतीय प्रधानमंत्री स्‍वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी ने प्रवासी भारतीय दिवस मनाने का निर्णय लिया था. पहले प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन 9 जनवरी 2003 को नई दिल्‍ली में हुआ था. प्रवासी भारतीय दिवस के आयोजन के लिए 9 जनवरी का दिन इसलिए चुना गया था क्‍योंकि वर्ष 1915 में इसी दिन महात्‍मा गांधी दक्षिण अफ्रीका से भारत वापस आये थे.

No comments:

Post a Comment