मासिक करेंट अफेयर्स

23 February 2019

भारत और दक्षिण कोरिया के बीच वैश्विक अपराध से लड़ने समेत सात समझौतों पर हस्ताक्षर

भारत और दक्षिण कोरिया ने 22 फरवरी 2019 को वैश्विक अपराध से लड़ने समेत सात समझौतों पर हस्ताक्षर किये. दोनों पक्षों ने आधारभूत ढांचे के विकास, मीडिया,स्टार्टअप्स,सीमा पार और अंतरराष्ट्रीय अपराध से निपटने जैसे अहम क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने के लिए सात समझौतों पर हस्ताक्षर किए. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी दक्षिण कोरिया के साथ कूटनीतिक संबंधों को मजबूत करने के लिए दो दिवसीय दौरे पर यहां 21 फरवरी 2019 को पहुंचे हैं. प्रधानमंत्री का ‘द ब्लू हाउस’ में आधिकारिक स्वागत किया गया. यह सियोल में राष्ट्रपति मून जेइ इन का कार्यकारी कार्यालय तथा आधिकारिक आवास है.

दोनों नेताओं के बीच व्यापार, निवेश, रक्षा तथा सुरक्षा जैसे अनेक क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर रचनात्मक बातचीत के बाद समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर हुए. दोनों पक्षों ने निवेश, मीडिया, सड़क एवं परिवहन के क्षेत्र में ढांचागत विकास जैसे अनेक अहम क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने पर हस्ताक्षर किए है. दोनों नेताओं ने वर्ष 2010 से प्रभावी मुक्त व्यापार समझौते यानी व्यापक आर्थिक भागीदारी समझौता (सीपा) को बढ़ाने के लिए वार्ता को गति देने पर सहमति व्यक्त की है. सीपा के तहत बाजार उदारीकरण पर जोर देने के लिए अबतक सात दौर की बातचीत हो चुकी है. दोनों नेताओं ने वर्ष 2030 तक व्यापार को दोगुना करके इसे 50 अरब डॉलर तक के अपने साझा लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सहयोग करने का भी आश्वासन दिया.

पहला समझौता कोरियाई राष्ट्रीय पुलिस एजेंसी तथा गृह मंत्रालय के बीच हुआ. यह समझौता दोनों देशों में कानून लागू करने वाली एजेंसियों के बीच सहयोग बढ़ाने तथा सीमा पार और अंतरराष्ट्रीय अपराधों से निपटने के क्षेत्र में किया गया है. दूसरा समझौता राजकुमारी सूरीरत्ना (रानी हूर ह्वांग-ओक) की याद में संयुक्त टिकट जारी करने के लिए हुआ. वह अयोध्या की राजकुमारी थीं, जो कोरिया आईं थीं और फिर उन्होंने किंग किम सूरो से विवाह कर लिया था. बड़ी संख्या में कोरियाई लोग उनके वंशज होने का दावा करते हैं.

भारत-दक्षिण कोरिया संबंध: भारत और दक्षिण कोरिया के बीच व्यापारिक और आर्थिक संबंधों के अलावा सामरिक संबंधों में ऐसा बदलाव देखा गया जो ऐतिहासिक कहा जा सकता है. दक्षिण कोरिया ने भारत को अपना ‘विशेष रणनीतिक साझेदार’ घोषित किया. वहीं इस बीच उसने भारत का दर्जा बढ़ाते हुए उसे अपने उन पारंपरिक सहयोगियों की सूची में भी शामिल किया जिनमें केवल रूस, चीन, जापान और अमेरिका जैसे कुछ गिने-चुने देश ही हैं. दक्षिण कोरिया ने भारत में बुनियादी ढांचा विकास के लिए बड़ी आर्थिक मदद दी हैं. उसने स्मार्ट सिटी, सागरमाला जैसी योजनाओं के साथ ही बुनियादी ढांचा क्षेत्र से जुड़ी करीब आधा दर्जन परियोनाओं के लिए 10 अरब डॉलर से ज्यादा की मदद दी.

भारत ने नवंबर 2018 में कोरियाई राष्ट्रपति की पत्नी को अपने यहां आमंत्रित किया था. वे दीपावली के मौके पर बनारस और अयोध्या में आय़ोजित कई कार्यक्रमों में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुई थीं. दक्षिण कोरिया की अर्थव्यवस्था पूरी तरह से निर्यात पर आधारित है. उसके सबसे बड़े निर्यातक देश चीन, अमेरिका और रूस हैं. भारत और दक्षिण कोरिया के बीच वर्ष 2017 के अंत तक द्विपक्षीय व्यापार 20 अरब डॉलर से ज्यादा हो चुका था, जो वर्ष 2015 और वर्ष 2016 में 16 अरब डॉलर के आसपास था. दोनों देशों ने बीते साल द्विपक्षीय व्यापार को 2030 तक 50 अरब डॉलर तक पहुंचाने का लक्ष्य रखा है.

No comments:

Post a Comment