मासिक करेंट अफेयर्स

05 February 2019

यूरोपियन देशों ने ईरान के साथ व्यापार के लिए पेमेंट चैनल INSTEX की घोषणा की

हाल ही में जर्मनी, फ्रांस और इंग्लैंड ने ईरान के साथ एक अलग पेमेंट चैनल बनाने की घोषणा की है. यह पेमेंट चैनल INSTEX के नाम से बनाया गया है जिसका उद्देश्य अमेरिकी प्रतिबंधों को बाईपास करके ईरान के साथ व्यापार जारी रखना है. यूरोपियन देशों का कहना है कि उनकी कोशिश अमेरिकी प्रतिबंधों के बावजूद ईरान से कारोबार जारी करने की है. इस पर अमेरिका की ओर से अभी तक कोई विशेष टिप्पणी नहीं की गई है लेकिन उम्मीद लगाई जा रही है कि इससे विश्व में ट्रेड वॉर बढ़ सकती है.

इस पेमेंट चैनल को जर्मनी, फ्रांस और ब्रिटेन ने तैयार किया है. INSTEX का पूरा नाम "इंस्ट्रुमेंट इन सपोर्ट ऑफ ट्रेड एक्सचेंज" है. ईरान पर लगे अमेरिकी प्रतिबंधों के बावजूद इस चैनल के जरिए कारोबारी भुगतान किया जा सकेगा. INSTEX का बेस फ्रांस की राजधानी पेरिस में होगा. जर्मनी के बैंकिंग एक्सपर्ट इसका प्रबंधन करेंगे. यूनाइटेड किंगडम सुपरवाइजरी बोर्ड की अगुवाई करेगा. यूरोपीय देश शुरू में इस चैनल के माध्यम से ईरान को भोजन, दवाएं और मेडिकल उपकरण बेचेंगे, लेकिन भविष्य में अन्य सेवाओं या उत्पादों को इसमें शामिल किया जा सकता है.

बेल्जिमय का कहना है कि ईरान को लेकर अमेरिका जो चिंताएं जताता है, यूरोप उनसे पूरी तरह सहमत नहीं है. यह कंपनियों पर निर्भर है कि वे ईरान में काम करना चाहती हैं या नहीं. लेकिन उन्हें भी अमेरिकी प्रतिबंधों के कारण सामने आए जोखिमों का ख्याल करना पड़ रहा है. यूरोप की इन कोशिशों को ईरान के साथ 2015 में हुई परमाणु संधि को बचाने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है.

पृष्ठभूमि: अक्टूबर 2015 में अमेरिका, रूस, चीन, फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी ने ईरान के साथ समझौता किया था. इसके कुछ महीने बाद ही मई 2018 में अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने स्वयं को समझौते से अलग करने की घोषणा कर दी तथा तेहरान पर पुनः प्रतिबन्ध लगा दिए. संधि में शामिल अन्य देशों ने ट्रंप से ऐसा न करने की मांग की थी. अमेरिका के परमाणु समझौते से बाहर निकलने के बावजूद यूरोपीय संघ ने इस समझौते के साथ बने रहने की घोषणा की है. यूरोप में ईरानी सत्ता के विरोधियों की हत्या की साजिशों और ओरान मिसाइल टेस्ट के बाद जनवरी 2019 में यूरोपीय संघ ने भी ईरान पर कुछ प्रतिबंध लगाए हैं लेकिन यूरोपियन यूनियन ईरान से संबंध समाप्त करने के पक्ष में नहीं है.

No comments:

Post a comment