मासिक करेंट अफेयर्स

15 March 2019

भारत-बांग्लादेश संयुक्त सैन्य अभ्यास संप्रीति-2019 का समापन

भारत और बांग्‍लादेश का संयुक्‍त सैन्‍य अभ्‍यास संप्रीति 14 मार्च 2019 को तंगेल, बांग्‍लादेश में संपन्‍न हुआ. भारत-बांग्‍लादेश सयुक्‍त सैन्‍य अभ्‍यास में भारतीय सेना की ओर से राजपूताना राइफल्‍स की 9वीं बटालियन का कंपनी ग्रुप तथा 36 ईस्‍ट बंगाल बटालियन बांग्‍लादेश की कंपनी ने भाग लिया. समापन समारोह में मुख्‍य अतिथि भारतीय उच्‍चायुक्‍त महामहिम रीवा गांगुली दास ने दोनों देशों के बीच विशेष संबंधों पर प्रकाश डाला. यह आठवां अभ्यास था. दोनों देश वैकल्पिक रूप से संयुक्त अभ्यास करते हैं. यह अभ्यास भारत और बंगलादेश के बीच महत्वपूर्ण द्विपक्षीय रक्षा सहयोग का प्रयास है.

इस अभ्यास का उद्देश्य भारत और बंगलादेश की सेनाओं के बीच अंतर-संचालन और सहयोग के पक्षों को मजबूत और व्यापक बनाना है. इस युद्धाभ्यास का मुख्य उद्देश्य भारत और बांग्लादेश की सेनाओं के बीच पारस्परिक सहयोग के पहलुओं को मजबूत बनाना और उनका विस्तार करना है, साथ ही संयुक्त राष्ट्र के अधिदेश के अंतर्गत विद्रोही और आंतकवादी गतिविधियों से निपटने के लिए मिलकर कार्य करना है. इस अभ्यास में आतंकवाद विरोधी कार्रवाइयों से निपटने में रणनीतिक स्तर की कार्रवाई होगा और यह संयुक्त राष्ट्र की व्यवस्था के अनुसार होगा. यह अभ्यास एक दूसरे की रणनीति को समझने के अतिरिक्त दोनों देशों की आपसी साझेदारी, मजबूत सैन्य विश्वास और सहयोग का आधार रखेगा.

यह सैन्य अभ्यास एक साल बांग्लादेश और दूसरे साल भारत में होता है. इसका उद्देश्य दोनों पड़ोसी देशों की सेनाओं के मध्य सकारात्मक संबंध बनाना है. दोनों देशों के बीच सैन्य संबंधों को बेहतर बनाने के लिए इसे हर साल किया जाता है. दोनों के बीच आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में सहयोग को बढ़ाना भी मकसद है. दोनों देशों के कमांडरों और स्‍टाफ अफसरों ने गुप्‍तचर सूचना प्राप्ति और सूचना साझा करने और संयुक्‍त फिल्‍ड प्रशिक्षण घटकों को उचित संचालन आदेश जारी करने में आपसी सहयोग के साथ कार्य किया. संयुक्‍त प्रशिक्षण में तंगेल के बंगबंधु सेनानिबास छाबनी में वैलिडेशन अभ्‍यास किया गया जिसमें दोनों देशों की सेनाओं की उप इकाइयों ने योजनाओं को अंजाम दिया. इस अभ्‍यास की समीक्षा दोनों देशों के वरिष्‍ठ अधिकारियों द्वारा की गई. प्रशिक्षण के अतिरिक्‍त दोनों दस्‍तों ने मैत्री बॉलीवॉल एवं बास्‍केटबॉल मैच सहित अनेक गतिविधियों में भागीदारी की. भारत-बांग्‍लादेश के संयुक्‍त अभ्‍यास के सफल समापन के अवसर पर शानदार परेड का आयोजन किया गया और रस्‍मी स्‍मृति चिन्‍हों का आदान-प्रदान किया गया. यह अभ्यास वर्ष 2016 में बंगलादेश में ढाका के समीप तंगाइल में तथा वर्ष 2015 में पश्चिम बंगाल के बिन्नागुड़ी में आयोजित किया गया था. पहला अभ्यास वर्ष 2010 में असम के जोरहाट में हुआ था.

भारत-बांग्लादेश संबंध: भारत और बांग्लादेश दक्षिण एशियाई पड़ोसी देश हैं और आमतौर पर उन दोनों के बीच संबंध मैत्रीपूर्ण रहे हैं, हालांकि कभी-कभी सीमा विवाद होते हैं. बांग्लादेश की सीमा तीन ओर से भारत द्वारा ही आच्छादित है. ये दोनो देश सार्क, बिम्सटेक, हिंद महासागर तटीय क्षेत्रीय सहयोग संघ और राष्ट्रकुल के सदस्य हैं. विशेष रूप से, बांग्लादेश और पूर्व भारतीय राज्य जैसे पश्चिम बंगाल और त्रिपुरा बंगाली भाषा बोलने वाले प्रांत हैं. भारत और बांग्लादेश अपने 68 साल पुराने द्विपक्षीय सीमा विवाद को पीछे छोड़ते हुए नया इतिहास रच रहे हैं. भारत और बांग्लादेश की सेनाओं के बीच युद्धाभ्यास सम्प्रीति से दोनों देशों की सेनाओँ के बीच न केवल संबंध मजबूत होते हैं, बल्कि दोनों सेनाओं के बीच आत्मविश्वास भी बढ़ता है.

No comments:

Post a Comment