मासिक करेंट अफेयर्स

18 March 2019

भारत-मालदीव ने तीन समझौतों पर हस्ताक्षर किये

भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज द्वारा हाल ही में मालदीव की दो दिवसीय अधिकारिक यात्रा के दौरान तीन द्विपक्षीय समझौतों पर हस्ताक्षर किये गये. सुषमा स्वराज ने मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सालेह से मुलाकात की. इसके अतिरिक्त उन्होंने मालदीव के गृहमंत्री शेख इमरान अब्दुल्ला के साथ भी बैठक की. सुषमा स्वराज ने मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद से भेंट की और एक संयुक्त मंत्रिस्तरीय बैठक में भी भाग लिया. वार्ता के बाद जारी साझा वक्तव्य जारी किया गया. इस वक्तव्य में मालदीव के साथ भारत के संबंधों की प्राथमिकता देने की नीति को दोहराया गया. सुषमा स्वराज ने मालदीव के सामाजिक और आर्थिक विकास के लिए भारत की प्रतिबद्धता दोहराई. वहीं मालदीव सरकार ने भारत के सुरक्षा और सामरिक हितों के प्रति अपनी वचनबद्धता जताई है.

घनिष्ठ एवं मैत्रीपूर्ण पड़ोसियों के रूप में भारत और मालदीव के मध्य जातीय, भाषायी, सांस्कृतिक, धार्मिक एवं वाणिज्यिक संबंध हैं. वर्ष 1965 में मालदीव की स्वतंत्रता के बाद उसे मान्यता प्रदान करने और मालदीव के साथ राजनयिक संबंध स्थापित करने वाले पहले देशों में भारत भी शामिल है. भारत ने वर्ष 1972 में माले में अपना मिशन स्थापित किया था. हिंद महासागर में स्थित मालदीव कूटनीतिक और सामरिक दृष्टि से भारत के लिए काफी अहम है. यहां से भारत के समुद्री क्षेत्र की सुरक्षा पर नजर रखी जा सकती है. मालदीव में हिंदी की वाणिज्यिक फ़िल्में, टीवी सीरियल तथा संगीत बहुत ही लोकप्रिय हैं. मालदीव में भारतीय समुदाय दूसरा सबसे बड़ा प्रवासी समुदाय है. मालदीव हिंद महासागर में स्थित 1200 द्वीपों का देश है, जो भारत के लिए रणनीतिक दृष्टि से काफी अहम है.

No comments:

Post a comment