मासिक करेंट अफेयर्स

21 November 2019

डेविड एटनबरो को मिला इंदिरा गांधी शांति पुरस्कार

मशहूर प्रकृतिवादी एवं प्रसारक सर डेविड एटनबरो का चयन 2019 के इंदिरा गांधी शांति पुरस्कार हेतु किया गया है. ट्रस्ट के ओर से कहा गया कि डेविड एटनबरो ने प्रकति में बड़े-बड़े बदलाव करने के लिए उन्हें इस पुरस्कार से सम्मानित किया जा रहा है. यह जानकारी इंदिरा गांधी स्मारक न्यास के सचिव ने 19 नवंबर 2019 को यहां जारी एक विज्ञप्ति में दी. उन्होंने बताया कि सर डेविड एटनबरो पांच दशक से अधिक समय से जीव-जंतुओं पर लगातार काम कर रहे हैं और उन्होंने इस पर कई अहम पुस्तकें भी लिखी हैं. पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की अध्यक्षता वाली अंतरराष्ट्रीय जूरी ने प्रसिद्ध प्रकृति विज्ञानी और प्रसारक सर डेविड एटनबरो को ‘इंदिरा गांधी शान्ति, निरस्त्रीकरण और विकास’ सम्मान 2019 हेतु चयनित किया है.

डेविड एटनबरो का जन्म 08 मई 1926 को यूनाइटेड किंगडम में हुआ था. उन्होंने ब्रॉडकास्टर प्रकृतिवादी प्रस्तुतकर्ता के तौर काफी काम किया है. वे ज्यादातर अपने लेखन और प्रस्तुति हेतु जाने जाते है. उन्होंने ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन (बीबीसी) नेचुरल युनिट में काम किया हुआ है. इसके अतिरिक्त बीबीसी में डेविड वरिष्ठ पत्रकार रहे हैं. डेविड एटनबरो एकमात्र ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने बाफ्टा के अंतर्गत साल 2019 में पुरस्कार जीता है. इसके अतिरिक्त साल 2018 से 2019 में उत्कृष्ट नरेटर हेतु प्राइमटाइम एमी अवार्ड दिया गया था. उनको साल 2002 में बीबीसी हेतु यूके के व्यापक सर्वेक्षण के बाद उन्हें 100 महानतम ब्रिटिशों में नामित किया गया था. उन्होंने वर्षों तक, अपने कार्यक्रमों और पुस्तकों के माध्यम से, हमारे ग्रह पर जीवन की महिमा के सामान्य लोगों की पीढ़ियों को शिक्षित किया है.

भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की याद में ‘इंदिरा गांधी शांति पुरस्कार’ दिया जाता है. यह पुरस्कार उनकी स्मृति में स्थापित 'इंदिरा गांधी मेमोरिल ट्रस्ट' की ओर से दिया जाता है. इस पुरस्कार के तहत 25 लाख रुपए नकद, एक ट्रॉफी और प्रशस्तिपत्र प्रदान किया जाता है. इंदिरा गांधी शांति पुरस्कार कई विदेशी हस्तियों को भी दिया गया है. साल 1986 से 'इंदिरा गांधी शांति, निरस्त्रीकरण और विकास पुरस्कार' प्रत्येक साल विश्व के किसी ऐसे व्यक्ति को प्रदान किया जाता है, जिसने समाज सेवा, निरस्त्रीकरण या विकास के कार्य में अहम योगदान किया हो. पार्लियामेंट्रियंस फॉर ग्लोबल एक्शन को इंदिरा गांधी शांति का पहला पुरस्कार साल 1986 में दिया गया था. उसके बाद साल 1987 में रूसी नेता मिखाइल गोरबचेव को सम्मान से नवाजा गया था.

No comments:

Post a Comment