मासिक करेंट अफेयर्स

06 November 2019

भारत का नया नक्शा जारी, PoK के दो क्षेत्र भी शामिल

केंद्र सरकार ने जम्मू और कश्मीर राज्य के पुनर्गठन के बाद भारत का एक नया राजनीतिक मानचित्र जारी किया है. भारत के दो नए केंद्र शासित प्रदेश 31 अक्टूबर 2019 को विधिवत अस्तित्व में आ गये थे. इसके बाद 02 नवंबर 2019 को दोनों नए केंद्र शासित प्रदेशों का मानचित्र जारी किया गया है. नए नक्शे के अनुसार, पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) के मीरपुर और मुजफ्फराबाद जिलों को जम्मू और कश्मीर का हिस्सा बताया गया है. इन दोनों जिलों सहित जम्मू और कश्मीर में कुल 22 जिले होंगे. लद्दाख में दो जिले कारगिल और लेह शामिल हैं, जबकि जम्मू और कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश में 22 जिले शामिल हैं.

यह नक्शा भारत के सर्वेक्षण जनरल द्वारा जम्मू और कश्मीर और लद्दाख के नए केंद्र शासित प्रदेशों को दर्शाते हुए तैयार किया गया है. जम्मू और कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश के मानचित्र में 22 जिले शामिल हैं, जिनमें मुजफ्फराबाद और मीरपुर के क्षेत्र शामिल हैं जो पिछले नक्शे में पीओके के अधीन थे. इसके अलावा, कुपवाड़ा, बांदीपोरा, बारामूला, पुंछ, बडगाम, शोपियां, कुलगाम, किश्तवाड़, उधमपुर, डोडा, सांबा, जम्मू, कठुआ, रामबन, राजौरी, अनंतनाग, पुलवामा, श्रीनगर, रियासी और गांदरबल जिले जम्मू और कश्मीर का हिस्सा होंगे.

1947 में, पूर्ववर्ती जम्मू और कश्मीर राज्य में 14 जिले थे - जम्मू, मीरपुर, रियासी, मुज़फ़्फ़राबाद, कठुआ, अनंतनाग, बारामूला, उधमपुर, पुंछ, गिलगित, गिलगित वज़रात, चिलास, लेह और लद्दाख और जनजातीय क्षेत्र. 2019 तक विभिन्न सरकारों द्वारा इन 14 जिलों को 28 जिलों में पुनर्गठित किया गया. यह नए जिले हैं - श्रीनगर, कारगिल राजौरी, कुपवाड़ा, गांदरबल, डोडा, पुलवामा, शोपियां, बांदीपुर, कुलगाम, रामबन, किश्तवाड़, बडगाम और सांबा.

केंद्र सरकार ने 5 अगस्त, 2019 को संसद में राज्य के विभाजन के लिए एक प्रस्ताव पेश किया. राष्ट्रपति के अनुमोदन के बाद जम्मू-कश्मीर को दो भागों में विभाजित किया गया और केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा दिया गया. साथ ही, राज्य को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को निरस्त कर दिया गया. इस निर्णय के बाद, 31 अक्टूबर को भारत में दो नए केंद्र शासित प्रदेश अस्तित्व में आए. केंद्र सरकार ने जीसी मुर्मू और आरके माथुर को क्रमशः जम्मू और कश्मीर और लद्दाख के पहले उपराज्यपालों के रूप में नियुक्त किया.

No comments:

Post a Comment