मासिक करेंट अफेयर्स

06 January 2020

पीएम मोदी ने भारतीय विज्ञान कांग्रेस के 107वें सत्र का उद्घाटन किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 03 जनवरी 2020 को बेंगलुरू में भारतीय विज्ञान कांग्रेस के 107वें सत्र का उद्घाटन किया. प्रधानमंत्री ने कर्नाटक में भारतीय विज्ञान कांग्रेस के 107वें सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि कृषि क्षेत्र को सहायता करने वाली तकनीकों में क्रांति की आवश्यकता है. प्रधानमंत्री मोदी ने भारतीय साइंस कांग्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि मुझे इस बात की खुशी है कि इस दशक और नए साल के मेरे शुरुआती कार्यक्रमों में से एक ये विज्ञान, तकनीक और अन्वेषण पर आधारित है. इस कार्यक्रम में देश-विदेश के वैज्ञानिक, विद्वान और कॉरपोरेट अधिकारियों सहित 15 हजार से अधिक प्रतिनिधि शामिल हो रहे है. देश-विदेश में वैज्ञानिक प्रवृत्ति को बढ़ावा देने तथा वैज्ञानिक अनुसंधान को प्रोत्साहन देने में भारतीय विज्ञान कांग्रेस की अहम भूमिका है. 

इस बार भारतीय विज्ञान कांग्रेस 2020 की थीम ‘ग्रामीण विकास के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी’ है. पांच दिनों के इस कार्यक्रम में बहुत सारे विषयों पर चर्चा परिचर्चा भी की जाएगी. 07 जनवरी तक चलने वाले इस विज्ञान कांग्रेस में कृषि क्षेत्र में हुए इनोवेशन्स प्रदर्शित किए जाएंगे. यह विज्ञान कांग्रेस का 107 वां अधिवेशन है. कर्नाटक में इससे पहले साल 2016 में मैसूरु में विज्ञान कांग्रेस का आयोजन हुआ था. बेंगलूरु में नौवीं बार विज्ञान कांग्रेस का आयोजन हो रहा है.

भारतीय विज्ञान कांग्रेस भारतीय वैज्ञानिकों की शीर्ष संस्था है. इस संस्था की स्थापना साल 1914 में हुई थी. इसकी स्थापना का उद्देश्य भारत में विज्ञान को बढ़ावा देने हेतु किया गया था. इस संस्था के आरंभ से ही भारत के महान वैज्ञानिक, शिक्षाविद् एवं राजनेता जुड़े रहे. भारतीय विज्ञान कांग्रेस संघ ने भारतीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. विज्ञान कांग्रेस की एक और अहम विशेषता यह है कि इसमें विदेशों से नोबेल विजेता वैज्ञानिक भी सम्मिलित होते हैं.

भारतीय विज्ञान कांग्रेस का पहला सत्र साल 1914 में 15 जनवरी से 17 जनवरी तक आयोजित हुआ था. पहले विज्ञान सत्र की अध्यक्षता तत्कालीन कलकत्ता विश्वविद्यालय के कुलपति आशुतोष मुखर्जी ने किया था. पहले विज्ञान कांग्रेस में कुल 35 शोध पत्र पेश हुए थे. उस समय विज्ञान कांग्रेस के 105 सदस्य थे जो आज 16,000 से अधिक हो चुके हैं. विज्ञान कांग्रेस का शताब्दी समारोह साल 2013 में कोलकाता में हुआ था. इसकी अध्यक्षता तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने की थी.

No comments:

Post a Comment