मासिक करेंट अफेयर्स

15 February 2020

WHO ने कोरोना वायरस को अंतरराष्ट्रीय जन-स्वास्थ्य आपातकाल घोषित किया

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना वायरस (Corona Virus) को अंतरराष्ट्रीय जन-स्वास्थ्य आपातकाल घोषित कर दिया है. चीन में अब तक कोरोना वायरस की वजह से 1300 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, हुबेई में 14840 और लोग इस वायरस से संक्रमित पाए गए हैं. कोरोना वायरस का प्रभाव बार्सिलोना में होने वाली मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस (MWC 2020) पर भी पड़ा है. यह आयोजन 24 से 27 फरवरी तक होने वाला था, लेकिन इस आयोजन को रद्द कर दिया गया है. चीन में कोरोना वायरस के कारण से अर्थव्यवस्था पर इसकी बहुत बड़ी मार झेलनी पड़ रही है. चीन की अर्थव्यवस्था को हो रहे नुक़सान की एक बड़ी वजह वायरस को फैलने से रोकने हेतु होने वाला खर्चा है. चीन में कोरोना वायरस थमने का नाम ही नहीं ले रहा है. 

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के अनुसार 04 फरवरी 2020 को इससे 65 लोगों की जान गई थी और ये सभी हुबेई प्रांत और उसकी राजधानी वुहान से थे. यह वायरस वुहान से ही चीन समेत दुनिया के 31 देशों में फैल चुका है. कई देशों ने अपने नागरिकों को चीन न जाने की सलाह दी है. कुछ देशों ने चीन के लिए अपनी उड़ानें रद्द कर दी हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने चीन में फैले इस वायरस को अंतरराष्ट्रीय आपात स्थिति घोषित कर दिया है. इस वायरस से सर्वाधिक लोगों की मौत हुबेई प्रांत में हुई है. यह संक्रमण दुनिया भर में फैल गया है. चीन में फैला कोरोना वायरस विश्व के कई देशों में दस्तक दे रहा है. भारत में भी कोरोना वायरस के पहले मामले की पुष्टि हो गई है. वुहान से केरल लौटा छात्र कोरोना वायरस से संक्रमित है. यह छात्र चीन में वुहान विश्वविद्यालय में अध्ययन कर रहा था और कुछ दिन पहले ही लौटा था. 

कोरोना वायरस के फैलते प्रकोपर पर लगाम लगाने की कोशिश के तहत चीन ने अपने मुख्य शहर वुहान को पूरी तरह से बंद कर दिया है. भारत सरकार ने भारतीय नागरिकों की मदद के लिए वुहान में हॉटलाइन स्थापित की है. चीन सरकार ने आपातकालीन उपाय के रूप में देश के पांच शहरों को बंद करने की घोषणा की है. वुहान शहर बंद होने से भारतीय छात्रों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. वुहान में लगभग 700 भारतीय छात्र मेडिकल की पढ़ाई कर रहे हैं. चीन में कोरोना वायरस (Corona virus) इंसान से इंसान के बीच फैल रहा है. पिछली बार SARS वायरस की वजह से 800 लोगों की मौत हुई थी. भारत सरकार ने भी इसे लेकर एक एडवाइजरी जारी की है. कोरोना वायरस को लेकर जारी चिंता के बीच भारत समेत विश्वभर के हवाईअड्डों पर चीन से आने वाले यात्रियों की जांच हेतु इंतजाम किए जा रहे हैं. इसकी पहचान पहली बार दिसंबर 2019 में चीन के वुहान में हुई थी.

कोरोना वायरस: सार्स (SARS) वायरस परिवार का एक नया सदस्य कोरोना वायरस है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) के अनुसार, यह वाइरस सी-फूड से जुड़ा है. यह मानी जा रही है कि इसकी शुरुआत चाइना के हुवेई प्रांत के वुहान शहर के एक सी-फूड बाजार से हुई है. कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति को सबसे पहले सांस लेने में दिक्कत, गले में दर्द, जुकाम, खांसी और बुखार होता है. फिर यह बुखार निमोनिया का रूप ले सकता है और निमोनिया किडनी से जुड़ी कई तरह की दिक्कतों को बढ़ा सकता है. इस वायरस कि सबसे खास बात यह है कि यह किसी भी संक्रमित व्‍यक्ति के संपर्क में आने से फैलता है.

विभिन्न रिपोर्टों के अनुसार, कोरोना वायरस को रोकने के लिए सबसे अच्छी नीति समुद्री भोजन से बचना है. कोरोना वायरस से बचाव को लेकर अभी तक कोई वैक्सीन नहीं बनी है. कहीं भी बाहर से आने या कुछ भी खाने से पहले अपने हाथ अच्छी तरह साफ करें. साफ सफाई बहुत जरूरी है. कोरोनवायरस को रोकने के लिए कोई टीका उपलब्ध नहीं है, इसलिए डॉक्टर जोखिम को कम करने के लिए अन्य महत्वपूर्ण दवाओं का उपयोग कर रहे हैं. कोरोनो वायरस अगर लंबे समय तक अपना प्रभाव बनाए रखने में सफल हो जाए या घातक स्तर पर पहुंच जाए तो जान के लिए खतरा पैदा कर सकता है.

No comments:

Post a comment