मासिक करेंट अफेयर्स

08 March 2020

जन औषधि दिवस

जन औषधि दिवस (जेनेरिक मेडिसिन डे) जेनेरिक दवाओं के उपयोग के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए हर साल 07 मार्च को मनाया जाता है. इसकी शुरुआत 07 मार्च, 2019 को की गई थी. भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 01 जुलाई, 2015 को प्रधानमंत्री जन औषधि योजना (PMBJP) की घोषणा की गई थी. इस योजना के तहत उच्च गुणवत्ता वाली दवाओं की कीमतें सरकार द्वारा बाजार मूल्य से कम दाम पर उपलब्ध कराए जाने की घोषणा की गई थी. सरकार द्वारा विभिन्न स्थानों पर जन औषधि स्टोर स्थापित किए गए हैं, जहां जेनेरिक दवाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं.

प्रधानमंत्री जन औषधि अभियान जनता को जागरुक करने के लिए शुरू किया गया है ताकि जनता समझ सके कि ब्रांडेड दवा की तुलना में जेनेरिक दवाएं कम कीमत पर उपलब्ध हैं. लोगों को यह भी सूचित किया जाता है कि इसकी गुणवत्ता में कोई कमी नहीं है. इसके अलावा, यह जेनेरिक दवाएं बाजार में मौजूद हैं जिन्हें आसानी से प्राप्त किया जा सकता है. इस योजना के माध्यम से स्थायी और नियमित कमाई के साथ स्वरोजगार का स्रोत भी बढ़ रहे हैं.

ब्यूरो ऑफ फार्मा पीएसयू ऑफ इंडिया (BPPI) द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार, प्रति स्टोर औसत बिक्री 1.50 लाख रुपये (ओटीसी और अन्य उत्पादों सहित) प्रति स्टोर हो गई है. सभी PMBJP केंद्रों पर सार्वजनिक स्वास्थ्य दवाओं की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए दिल्ली, गुवाहाटी, बैंगलोर और चेन्नई में चार प्रमुख स्टोर खोले गए हैं. इन दुकानों में सस्ती गुणवत्ता वाले स्वास्थ्य उत्पादों की एक विस्तृत श्रृंखला उपलब्ध है. जेनेरिक दवाएं ब्रांडेड दवाओं की तुलना में बहुत सस्ती होती हैं. कई दवाएं 90 प्रतिशत तक पैसा बचाती हैं. जेनेरिक दवाओं की औसत कीमत ब्रांडेड दवाओं की तुलना में 40-60 प्रतिशत कम है.

No comments:

Post a comment