मासिक करेंट अफेयर्स

30 April 2020

आरबीआई ने म्यूचुअल फंड्स को 50 हजार करोड़ देने की घोषणा की

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने 27 अप्रैल 2020 को म्यूचुअल फंडों के लिए 50,000 करोड़ रुपये की एक विशेष नकदी (चलनिधि) की सुविधा प्रदान करने की घोषणा की है. RBI के अनुसार, कोविड -19 महामारी के कारण पूंजी बाजारों में बढ़ी अस्थिरता ने म्यूचुअल फंडों (MFs) में नकदी के प्रवाह पर दबाव डाला है. म्यूचुअल फंडों पर नकदी के इस प्रवाह का दबाव केवल कुछ ऋण संबंधी MFs और उसके संभावित संक्रामक प्रभावों को बंद करने से संबंधित मोचन दबाव के मद्देनजर तेज हो गया है.  हालाँकि, यह तनाव इस समय उच्च जोखिम वाले ऋण संबंधी म्यूचुअल फंड अनुभाग तक ही सीमित है, जबकि बड़े उद्योग में नकदी का प्रवाह बना हुआ है. 

इसलिए, RBI ने म्यूचुअल फंडों पर इस नकदी प्रवाह के दबाव को कम करने के लिए ₹ 50,000 करोड़ की एक विशेष नकदी सुविधा म्यूचुअल फंडों को प्रदान करने का फैसला किया है. इस कदम के पीछे मुख्य उद्देश्य वित्तीय स्थिरता को बनाए रखना और कोविड -19 से होने वाली आर्थिक हानि को कम करना है. म्यूचुअल फंड (SLF-MF) के लिए विशेष नकदी सुविधा योजना के तहत, RBI एक निश्चित रेपो दर पर 90 दिनों की अवधि का रेपो संचालन करेगा. यह योजना ऑन-टैप और ओपन-एंडेड है और बैंक की छुट्टियों को छोड़कर सोमवार से शुक्रवार तक किसी भी दिन धन प्राप्त करने के लिए बैंक अपनी बोली पेश कर सकते हैं. इस योजना को 27 अप्रैल से शुरू करके 11 मई, 2020 तक या निर्धारित राशि के समस्त आवंटन तक, जो भी पहले हो, लागू किया गया है. रिज़र्व बैंक बाजार की स्थितियों के आधार पर इस राशि और समयावधि की समीक्षा करेगा.

इस विशेष योजना के तहत उपलब्ध कराए गए 50,000 करोड़ रुपये के फंड का उपयोग बैंकों द्वारा विशेष रूप से म्यूचुअल फंडों की नकदी संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए किया जाएगा. पात्र संपार्श्विक के प्रति सभी नकदी समायोजन सुविधा (LAF) पात्र बैंकों को के लिए विशेष रेपो विंडो उपलब्ध होगी और केवल म्यूचुअल फंडों को ऋण देने के लिए इसका लाभ उठाया जा सकता है. पात्र बैंक हर दिन सुबह 9 बजे से 12 बजे के बीच CBS प्लेटफॉर्म पर इलेक्ट्रॉनिक रूप से अपनी बोली पेश कर सकते हैं. इस योजना के तहत शेष राशि के लिए हर दिन एक LAF रेपो इशू तैयार किया जाएगा. SLF-MFs रेपो की बोली प्रक्रिया, निपटान और बदलाव (रिवर्सल), LAF/MSF के मामले में अपनाई गई मौजूदा प्रणाली के समान होगा.

No comments:

Post a comment