मासिक करेंट अफेयर्स

14 May 2020

भारत के 28 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में धूम्ररहित तंबाकू उत्पादों सहित थूकने पर लगा प्रतिबंध

केंद्रीय मंत्रालय ने कहा है कि 25 से अधिक राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने कोविड -19 के कारण धुंआ रहित तंबाकू उत्पादों के उपयोग और सार्वजनिक स्थानों पर थूकने पर प्रतिबंध लगा दिया है. जिन राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने इन उत्पादों पर प्रतिबंध लगाया है, उनमें गुजरात, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, दिल्ली और असम शामिल हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय ने 01 अप्रैल को सभी राज्यों से कोविड -19 वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सार्वजनिक क्षेत्रों में धुआं रहित तंबाकू के उपयोग और थूकने पर प्रतिबंध लगाने के लिए कहा था.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को लिखे एक पत्र में कहा था कि, एरेका नट (सुपारी) और पान मसाला जैसे धुआं रहित तंबाकू उत्पादों को चबाने से मूंह में काफ़ी ज्यादा लार बनती है जिसके कारण लोग थूकने के लिए मजबूर हो जाते हैं. सार्वजनिक स्थानों पर थूकने से कोविड -19 वायरस फैलने की संभावना बढ़ जाती है.

भारतीय स्वैच्छिक स्वास्थ्य संघ की मुख्य कार्यकारी अधिकारी भावना मुखोपाध्याय ने कहा कि स्वास्थ्य की रक्षा और कोविड -19 के जोखिम को कम करने के लिए यह आग्रह किया जाता है कि सभी धूम्रपान और तंबाकू का इस्तेमाल करने वाले लोगों को इसका उपयोग करना छोड़ना होगा. भारत में चंडीगढ़, असम, झारखंड, दिल्ली, हरियाणा, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, गुजरात, उत्तर प्रदेश, ओडिशा जैसे अन्य राज्य भी सार्वजनिक स्थानों पर तम्बाकू थूकने के प्रतिबंध का उल्लंघन करने वालों को दंडित कर रहे हैं.

प्रतिमा मूर्ति, प्रोफेसर एवं प्रमुख, मनोचिकित्सा विभाग, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरोसाइंसेस के अनुसार, इस बात के प्रमाण मिलते रहे हैं कि धूम्रपान कोविड -19 के संक्रमण के जोखिम को बढ़ाता है. यह फेफड़े की कार्यक्षमता को खराब करता है और प्रतिरक्षा को कम करता है. उन्होंने आगे बताया कि धूम्रपान करने वालों को कोविड -19 संक्रमण होने पर उनकी स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां काफ़ी बढ़ जाती हैं.

तम्बाकू का इस्तेमाल पूरी तरह से समाप्त करने के लिए काम करने वाले सलाहकार डॉ. राकेश गुप्ता ने बताया कि स्वास्थ्य मंत्रालय और राज्य स्वास्थ्य विभागों को इलेक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया के माध्यम से तंबाकू छोड़ने के लिए लोगों को बढ़ावा देना चाहिए. उन्होंने आगे कहा कि यह एक अवसर है जो कोविड -19 के दौरान तम्बाकू छोड़ने की दर बढ़ाने में मदद करेगा.

No comments:

Post a comment