मासिक करेंट अफेयर्स

16 June 2020

कैथी ल्यूडर्स बनी NASA की स्पेस फ्लाइट प्रोग्राम की पहली महिला प्रमुख

स्पेस में प्राइवेट क्रू फ्लाइट को पहुंचाने में कामयाबी हासिल करने वालीं कैथी ल्यूडर्स (Kathy Leuders) को ह्यूमन स्पेसफ्लाइट (Human Spaceflight) की पहली महिला प्रमुख बनाया गया है. 
नासा इन दिनों  2024 में चंद्रमा पर अपने वैज्ञानिक भेजने की तैयारी कर रहा है. नासा के प्रमुख जिम ब्रिडेनस्टाइन ने कैथी की नियुक्ति की घोषणा करते हुए कहा की कैथी ल्यूडर्स को नासा की ह्यूमन एक्सप्लोरेशन एंड ऑपरेशन्स (HEO) मिशन डायरेक्टरेट की अगुआई करने के लिए चुना गया है. कैथी ने व्यावसायिक क्रू और कार्गो कार्यक्रमों दोनों का सफलतापूर्वक प्रबंधन किया है और वे HEO की अगुआई करने के लिए सही व्यक्ति हैं जब हम 2024 में चंद्रमा पर अंतरिक्ष यात्री भेजने की तैयारी कर रहे हैं.

ल्यूडर्स ने 1992 में नासा का हिस्सा बनने के बाद पीछे मुड़ कर नहीं देखा और हाल ही में स्पेसएक्स के रॉकेट से नासा के दो अंतरिक्ष यात्रियों की ISS तक की उड़ान का प्रबंधन देखा जो दुनिया के अंतरिक्ष में यात्रियों को ले जाने वाली पहली निजी व्यवसायिक उड़ान थी. ल्यूडर्स काफी सालों से उन कैप्सूलों के सघन जांच कार्यक्रम की प्रमुख थीं जो जिन्हें नासा के सहयोग से निजी कंपनियों ने विकसित किया था. इन कैप्सूलों में ही अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष में सुरक्षित ले जाने की योजना है. इन कंपनियों में स्पेस एक्स, बोइंग और निजी कंपनियां शामिल हैं. ल्यूडर्स ने पिछले महीने के प्रपेक्षण के पहले कहा था की आप कभी नासा और स्पेसएक्स को कम में नहीं आंक सकते, उन्होंने मेरे लिए चमत्कार किए हैं.

नासा का व्यवासियक निजी अंतरिक्ष उड़ानों का विकसित करने का कार्यक्रम एक दशक पहले उस समय के अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का कार्यकाल में बनाया गया था. इसका उद्देश्य नासा का अंतरिक्ष अनुसंधान पर ध्यान देना था. इससे पहले नासा का काफी समय और ऊर्जा खुद के रॉकेट और अंतरिक्ष यानों के निर्माण में खर्च होती थी. अब अमेरिका के वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के प्रशासन ने नासा का कार्यक्रम तय किया है जिसमें साल 2024 तक दो अंतरिक्ष यात्रियों, जिसमें से एक महिला होगी, को चंद्रमा पर भेजा जाना है. इस अभियान के लिए SLS रॉकेट और ओरियोन कैप्सूल का उपयोग होगा. लेकिन यह कार्यक्रम तय समय सारिणी से पीछे चल रहा है और नासा ने अभी तक यह तय नहीं किया है कि कौन सी कंपनी चंद्रमा का लैंडर तैयार करेगी.

नासा की चंद्रमा पर बेस कैम्प भी बनाने की योजना है. इसके बनने से वैज्ञानिक और शोधकर्ता काफी दिनों तक चंद्रमा पर रह सकेंगे. नासा की योजना अगले दशक में मंगल पर भी मानव भेजने की है और वे यात्री लौटते समय चंद्रमा के बेस कैम्प पर भी रुकेंगे. नासा मंगल के इस अभियान की तैयारी के लिए जुलाई में एक रोवर मंगल पर भेजने की योजना बना रहा है.

No comments:

Post a comment