मासिक करेंट अफेयर्स

23 August 2020

केंद्र सरकार ने रेलवे, बैंकिंग सहित सरकारी क्षेत्र की तमाम नौकरियों समान योग्यता परीक्षा आयोजित करने की घोषणा की

केंद्र सरकार ने रेलवे, बैंकिंग सहित सरकारी क्षेत्र की तमाम नौकरियों के लिए अलग-अलग परीक्षाओं के सिस्टम को खत्म कर  इनकी जगह कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट (Common Eligibilty Test) कराने का फैसला लिया है. सरकार के इस निर्सणय से रकारी नौकरी पाने का रास्ता पूरी तरह से बदल जाएगा और ये पहले से आसान भी हो जाएगा. अब भारत के करोड़ों युवाओं को बैंकिंग, रेलवे और स्टाफ सेलेक्शन कमीशन यानी SSC की मुख्य परीक्षाओं में बैठने के लिए अलग-अलग प्रारंभिक परीक्षाएं नहीं देनी होंगी. इससे पहले इन विभागों के लिए तीन चरण में परीक्षाएं देनी होती थी. सबसे पहले प्रारंभिक परीक्षा होती थी, इसके बाद मुख्य परीक्षा और आखिर में इंटरव्यू के जरिए किसी उम्मीदवार का चयन किया जाता था. 
लेकिन नई व्यवस्था के तहत अब इन अलग-अलग सरकारी विभागों के लिए अलग-अलग परीक्षाएं नहीं देनी होंगी, बल्कि इन तीनों के लिए एक Common Eligibilty Test यानी CET का आयोजन होगा. 

पहले हर प्रारंभिक परीक्षा के लिए अलग आवेदन पत्र और अलग परीक्षा केंद्र होते थे. लेकिन अब ऐसा नहीं होगा. अब एक ही परीक्षा, एक ही परीक्षा केंद्र और एक ही आवेदन पत्र से काम चल जाएगा. अब देश में सरकारी नौकरी पाने के लिए मेहनत कर रहे छात्रों को सरकारी और पब्लिक सेक्टर बैंकों में नॉन-गेजेटिड पदों के लिए केवल एक ही परीक्षा- कॉमन एलिजिबिलिटी टेस्ट (CET) से गुजरना होगा. CET के जरिए सरकारी नौकरी पाने के लिए अलग-अलग परीक्षाएं देने की जरूरत नहीं होग. ग्रुप B और C की नौकरियों के लिए उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट करने के लिए फर्स्ट लेवल टेस्ट होगा और इसका स्कोर कार्ड 3 साल तक वेलिड रहेगा. CET में अभ्यर्थी में शामिल होने की संख्या पर कोई पाबंदी नहीं है, लेकिन उम्र की सीमा रहेगी. 

शुरुआती दौर में CET तीन एजेंसी- स्टाफ सिलेक्शन कमीशन (SSC), रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड (RRB) और इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकिंग पर्सनल सिलेक्शन (IBPS) की परीक्षाओं को कवर करेग. बाद में इसे बढ़ाया भी जाएगा. CET हर साल दो बार आयोजित होगी और ग्रेजुएट लेवल, 12वीं पास और 10वीं पास के लिए अलग-अलग CET परीक्षाएं होंगी. इसके अलावा यह एग्जाम 12 भारतीय भाषाओं में होग. यह बड़ा बदलाव माना जा रहा है, क्योंकि इससे पहले केंद्र सरकार में नौकरी के लिए परीक्षाएं केवल हिंदी और अंग्रेजी में ही आयोजित की जाती थीं.

No comments:

Post a comment