मासिक करेंट अफेयर्स

05 September 2020

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 3 दिवसीय यात्रा पर रूस गए, भारत और रूस के बीच बड़ी डील


रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक में हिस्सा लेने के लिए 02 सितम्बर 2020 को रूस की राजधानी मास्को पहुंचे हैं. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की एक बैठक में भी शामिल होंगे, जिसमें आठ सदस्य देशों के रक्षा मंत्री हिस्सा लेंगे. बैठक में आतंकवाद, अतिवाद जैसी क्षेत्रीय सुरक्षा चुनौतियों और उनसे एकजुट होकर निपटने के तरीकों पर चर्चा होने की उम्मीद है. यह बैठक द्वितीय विश्व युद्ध में जीत की 75वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में आयोजित किया जा रहा है. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने रूस के रक्षा मंत्री के साथ दोनों देशों के संबंधों को लेकर बातचीत की है. दोनों देशों के रक्षा मंत्रियों के बीच करीब एक घंटे तक बैठक हुई. 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के रूस दौरे से पाकिस्तान को बहुत बड़ा झटका लगा है. रूस ने एक बार फिर से यह दोहराया है कि वो पाकिस्तान को हथियारों की आपूर्ति नहीं करेगा. रूस ने यह आश्‍वासन रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ 03 सितम्बर 2020 को बैठक के दौरान दिया. राजनाथ सिंह के साथ बैठक में रूस के रक्षामंत्री जनरल सर्गेई शोइगू ने कहा कि पाकिस्तान को हथियारों की आपूर्ति पर रूसी प्रतिबद्धता भारतीय अनुरोध का पालन करती है. रूस ने पाकिस्तान के साथ No Arms Supply की पॉलिसी जारी रखेगा. यानी पाकिस्तान को किसी तरह के बड़े हथियार सप्लाई नहीं किए जाएंगे. इसके अतिरिक्त भारत के सुरक्षा से जुड़े मामलों पर रूस ने पूरे साथ का भरोसा भी दिया है. इस बैठक में रूस ने भारत के मेक इन इंडिया प्रोग्राम का समर्थन किया और अपनी ओर से योगदान की बात कही.

रूस भारत को सबसे ज्‍यादा हथियारों की आपूर्ति करने वाला देश है. इसमें परमाणु ऊर्जा से चलने वाली सबमरीन शामिल है. रूस ने यह भी कहा है कि वह भारत की व्‍यापक स्‍तर पर सुरक्षा हितों में मदद करेगा. भारत और रूस ने अपने रक्षा उद्योगों की व्यस्तता को बढ़ाने पर भी सहमति व्यक्त की और एक बड़ी डील को अंतिम रूप दिया. इस डील के तहत उत्तर प्रदेश के अमेठी में एक AK-203 असॉल्ट राइफल फैक्ट्री की स्थापना की जाएगी. एके-203 राइफल को ऑटोमेटिक और सेमी ऑटोमेटिक दोनों ही मोड पर इस्‍तेमाल किया जा सकता है. रूस ने इसके अलावा भारत के सुरक्षा से जुड़े मामलों पर पूरा साथ देने का भरोसा भी दिया है. राजनाथ सिंह ने पहले हुए समझौतों के तहत रूस द्वारा भारत को कई हथियार प्रणालियों, गोला बारूद और कल पुर्जों की आपूर्ति में तेजी लाने को भी कहा.

राजनाथ सिंह ने रूसी रक्षा मंत्री को आत्मनिर्भर भारत के संदर्भ में रक्षा क्षेत्र में मेक इन इंडिया कार्यक्रम की भी जानकारी दी. दोनों पक्षों ने एके-203 रायफल के उत्पादन के लिए भारत-रूस संयुक्त उद्दम की भारत में स्थापना पर अंतिम चरण की चर्चा का भी स्वागत किया. रूस ने दोहराया कि उसने भारतीय सुरक्षा हितों का समर्थन किया है. रूस ने भारत के मेक इन इंडिया (Make in India) प्रोग्राम की भी सराहना की है और अपनी ओर से योगदान की बात कही.

No comments:

Post a comment